आ/aa

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आ  : देवनागरी वर्णमाला के स्वरों में दूसरा स्वर जो अ का दीर्घ रूप है और जिसका उच्चारण कंठ से होता है। संस्कृत में इसका प्रयोग अव्यय के रूप में भी और उपसर्ग के रूप में भी होता है। अव्यय के रूप में यह नीचे लिखे अर्थ देता है—(क) तक या पर्यत। जैसे आ-जानु घुटनों तक या समुद्र-समुद्र तक (ख) आदि से अंत तक या अंदर सब जगह व्याप्त, जैसे—आ-जीवन जीवन भर या आ-पाताल-पाताल के अंदर तक। (ग) कुछ या थोड़ा जैसे—आ-पिगल कुछ कुछ या हलका पीला और (घ) किसी अ—वधि या सीमा के आगे-पीछे या बाहर भी, जैसे—आ-कालिक नियत काल से पहले या पीछे भी, अर्थात् बिना मौसिम का। उपसर्ग के रूप में यह क्रियार्थक संज्ञाओं के पहले लगकर कई प्रकार की विशेषताएँ (अतिरिक्त लगभग वस्तुतः आदि के भाव) सूचित करता है। जैसे—आकंपन आरोहण आदि। प्रायः संस्कृत विशेषणों और संज्ञाओं के अंत में प्रत्यय के रूप में लगकर यह उन्हें स्त्रीलिंग रूप देता है। जैसे—कोमल से कोमला, शिष्य से शिष्या आदि। हिंदी में यह कभी-कभी कुछ शब्दों के अंत में प्रत्यय के रूप में लगकर युक्त या वाला का अर्थ देता है। जैसे—चौमंजिला, दो मुँहा, पँच रंगा आदि। पुं० [सं० आप् (व्याप्त होना)+क्विप्, पृषो० पलोप] १. दादा। पितामह। २. शिव। स्त्री० लक्ष्मी। सर्व० १. यह। २. वह। (गुज० राज० आदि)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँ  : अव्य० [अनु०] ऐं ! है ! (आश्चर्य सूचक) पुं० बच्चों के रोने का शब्द। जैसे—लगे बच्चों की तरह आँ आँ करने !
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँक  : पुं० [सं० अंक] १. संख्या का सूचक अंक। उदाहरण—कहत सबै बेदी दिए आँक दस गुनों होत।—बिहारी। २. चिन्ह। लक्षण। ३. अक्षर। वर्ण। उदाहरण—गुण पै अपार साधु कहै आँक चारिही में अर्थ विस्तारि कविराज टकसार है।—प्रिया। ४. दृढ़ निश्चय। उदाहरण—एकहिं० आँक इहइ मन मांही। प्रातकाल चलिहउँ प्रभु पाही।—तुलसी। ५. अंश। भाग। हिस्सा। ६. अँकवार। गोद। उदाहरण—पीछे ते गहि लाँकरी गही आँकरी फेरि। श्रं० त। ७. बैलगाड़ी की बल्लियों के नीचे का ढाँचा जिसमें पहिए की धुरी लगी रहती है। ८. नौ मात्राओं वाले छंदों की संज्ञा। ९. लकीर। १. किसी चीज पर संकेत के रूप में लिखा हुआ उसका मूल्य या पहचान। स्त्री० [हिं० आँकना] १. आँकने की क्रिया या बात। २. मन-गढ़ंत बात।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकड़ा  : पुं० [सं० अंक, हिं० आँक+डा(प्रत्यय)] १. अंक। अदद। २. पाश। फंदा। ३. पशुओं का एक रोग। पुं० [अ-नहीं,+कण-दाना] बिना दाने की ज्वार की बाल की खुखड़ी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकड़े  : पुं० [हिं० आँकड़ा] गणित से किसी विषय या विभाग के संबंध में स्थिर किए हुए अंक जो उस विषय या विभाग का कोई पक्ष या स्थिति सूचित करते है। (स्टैटिस्टिक्स) जैसे—आँकड़ों के आधार पर जन्म और मृत्यु की संख्या का अनुपात स्थिर करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकना  : स० [सं० अंकन] १. अंक या चिन्ह्र लगाना। निशान लगाना। २. चित्र० रूप-रेखा आदि अंकित करना। ३. मान, मूल्य आदि का अनुमान करना। अंदाज लगाना। कूतना। ४. महत्त्व, स्थिति या ऐसी ही किसी और बात का अनुमान करना या अंदाज लगाना। स० [सं० अंक] गले लगाना। आलिंगन करना। उदाहरण—होइ करि ताहिं को आँको भरि।—सूरदास मदनमोहन।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकर  : वि० [सं० आकर-खान] १. गहरा। २. बहुत अधिक। स्त्री० खेत की गहरी जुताई। सेव (उथली जोताई) का विपर्याय। वि० [सं० अक्रय्य] अकरा। (महँगा)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकरा  : वि० =आँकर। (बहुत अधिक)। पुं० १. आँकड़ा। २. -अंकुर।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकल  : पुं० [सं० अंक, हिं० आँक] दागा हुआ साँड़। (डिं०) (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकुड़ा  : पुं० =अँकुड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकुशिक  : पुं० [सं० अंकुश+ठक्-इक] अंकुश से हाथी चलानेवाला महावत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकुस  : पुं० =अंकुश।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँकू  : वि० पुं० [हिं० आँक+ऊ(प्रत्यय)] आँकने या कूतनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख  : स्त्री० [सं० अक्षिन्, प्रा० अक्खि, गुं० आँख, सिं० अख, पं० अक्ख० का अछ, बँ० आँकि, सिंह० अक्] १. (क) प्राणियों की वह इंद्रिय जिससे उन्हें दूसरों जीवों और पदार्थों के आकार-प्रकार आयत-विरतार रूप-रंग भेद-विभेद,पारस्परिक दूरी आदि का ज्ञान होता है। देखने की इंद्रिय। चक्षु। नयन। नेत्र। (ख) उक्त इंद्रिय का कार्य और उसके द्वारा होनेवालापरिज्ञान जिसमें चीजें दिखाई देती है। देखने की क्रिया भाव या शक्ति। दृष्टि। निगाह। (ग) लाक्षणिक रूप में, मनोभाव व्यक्त या सूचित करनेवाली भंगिमा, रंग-ढंग, संचालन आदि के विचार से उक्त इंद्रिय या उसके द्वारा होनेवाला कार्य या व्यापार। विशेष—(क) स्तनपायी जीवों के सिर के सामने भाग में माथे या ललाट के नीचे और नाक के ऊपर दोनों ओर कुछ संबोतरी दो आँखे होती है। बीच का सारा काला भाग और उसके चारों ओर का सफेद भाग दोनों मिलकर डेरा कहलाते है। बड़े काले भाग को पुतली और उसके ठीक बीच की बिन्दी को तारा या तिल कहते है। प्रकाश की सहायता से तारे और पुतली पर बाहरी पदार्थों का जो प्रतिबिंब पड़ता है उसका परिज्ञान अदर के संवेदन सूत्रों के द्वारा मस्तिष्क को होता है। इसी को (चीज) दिखाई देना कहते है। डेले के ऊपर और नीचे चमड़े के जो आवरण या परतें होती है उन्हें पलकें कहते है और उन पलकों के आगे वाले बालों की पंक्ति बरौनी कहलाती है। निम्न कोटि के जीवों में आँखों की संख्या ४, ६ या ८ तक भी होती है। उनमें इनकी ऊपरी बनावट भी कुछ प्रकार की भिन्न होती है और वे शरीर के भिन्न-भिन्न भागों में स्थिर होती है। (ख) प्रयोग के क्षेत्र में कुछ अवस्थाओं में इस शब्द का केवल एकवचन में, कुछ अवस्थाओं में केवल बहुवचन में और कुछ अवस्थाओं में विकल्प से दोनों में से किसी वचन में व्यवहार होता है। मुहावरा—आँख आना=एक रोग जिसमें आँख लाल होती सूजती और दुखती है। आँख उठने या उठने आना=दे० ऊपर आँख आना (रोग)। (किसी ओर) आँख या आँखे उठना=दृष्टि या निगाह पड़ना। जैसे—जिधर आँख उठेगी उधर चल पड़ेगे। आँख उठाना=जिस समय आँखे बंद हो या नीचे की ओर झुकी हों, उस समय देखने के लिए आँखे खोलना या ऊपर करना। जैसे—दिन भर बाद अब बच्चे ने आँख उठाई है। (किसी चीज की ओर) आँख उठाना=प्राप्ति की इच्छा या लोभ-भरी दृष्टि से देखना। जैसे—यह लड़का दूसरे की खाने-पीने की चीजों की तरफ कभी आँख नहीं उठाता। (किसी व्यक्ति की ओर) आँख उठाना या उठाकर देखना=किसी को हानि पहुँचाने के उद्देश्य या विचार से उसकी ओर देखना। जैसे—हमारे रहते हुए कोई तुम्हीर तरफ आँख उठाकर नहीं देख सकता। (किसी व्यक्ति के सामने) आँख या आँखे उठाना=साहसपूर्वक किसी की ओर देखना। निगाह मिलाना। सामना करना। जैसे—उनकी मजाल नहीं कि वे मेरे सामने आँख उठाये। आँख या आँखे उलटना=बेहोश होने पर या मरने के समय आँखों की पुतलियों का कुछ ऊपर चढ़ जाना। (किसी के सामने) आँख या आँखें ऊँची करना—दे० ऊपर। (किसी के सामने) आँख उठाना=आँख या आँखें कडुआना—अधिक जागने धुँआ लगने या लगातार चक लगाकर देखते रहने से आँखों में जलन थकावट या दर्द होना। (किसी की) आँख या आँखों का काँटा बनना या होना—किसी की दृष्टि में बहुत ही अप्रिय या अवांछित होना। (आँखों में खटकना या गड़ना की अपेक्षा बहुत उग्र विरक्ति का सूचक) आँख या आँखों का काजल चुराना—ऐसी चालाकी या सफाई से तथा चोरी से अपना काम निकालना कि किसी को पता न चले। (अपनी) आँख या आँखों का तेल निकालना=निरंतर कोई ऐसा बारीक काम करते रहना कि आँखों से पानी निकलने लगे। आँख या आँखों का पानी ढलना—किसी की मर्यादा का ध्यान या लज्जाशीलता न रह जाना। निर्लज्ज हो जाना। जैसे—जब आँख का पानी ढल गया तब नंगे होकर नाच भी सकते हो। आँख किरकिराना=आँख में बालू आदि का कण पड़ने से उसमें कसक या खटक होना। आँख या आँखों के आगे अधेरा छाना=आघात निराशा भय शोक आदि के कारण आँखों और बुद्धि का ठीक तरह से काम न करना। सामने अँधेरा दिखाई देना। आँख या आँखों के सामने या आगे नाचना=मन में ध्यान बना रहने के कारण किसी व्यक्ति की आकृति य़ा घटना का दृष्य रहरहकर काल्पनिक रूप से सामने आना। आँख खटकना=आँख में कोई चीज पड़ने पर उसमें खटक होना। आँख किरकिराना। उदाहरण—देखो लला मेरी आँखन खटकै कौने तरह से रंग फेंकत हो री। (होली) आँख या आँखें खुलना=(क) नींद टूटना। जागना। (ख) लाक्षणिक रूप में अज्ञान प्रेम मोह आदि दूर होना और उसके फलस्वरूप वास्तविक रूप या स्थिति का ज्ञान होना। जैसे—उनकी आज की बातों से मेरी आँखें खुल गई। (किसी की) आँख या आँखें खोलना=ऐसा काम करना जिससे किसी का अज्ञान भ्रम या मोहदूर हो और उसे वास्तविकता का ज्ञान हो। आँख गड़ना=आँख में कोई चीज पड़ने या पलक में फुंसी सूजन आदि होने पर हलकी खटक चुनचुनाहट या पीड़ा होना। (किसी ओर या किसी चीज पर) आँख गड़ना=(क) ध्यानपूर्वक देखने के समय निगाह जमना। (ख) कोई चीज पाने के लिए उस पर ध्यान लगा रहना। जैसे—तुम्हारी कलम पर हमारी आँख गड़ी है। आँख या आँखे चमकाना, नचाना या मटकाना=स्त्रियों का (या स्त्रियों की तरह) भाव-भंगी प्रकट करने केलिए पलकें और पुतलियाँ चलाना या हिलाना। (किसी से) आँख या आँखें चुराना या छिपाना-लज्जा, संकोच आदि के कारण किसी का सामना करने से बचना या हिचकना। आँख चूकना=दृष्टि या ध्यान का कुछ समय के लिए नियत स्थान से हटकर इधर-उधर होना। जैसे—जरा-सी आँख चूकते ही वह पुस्तक उठा ले गया। (किसी से) आँख या आँखें छिपाना=दे० ऊपर। आँख या आँखें चुराना। (किसी चीज पर) आँख या आँखें जमाना=ध्यानपूर्वक देखने के समय निगाह जमाना। दृष्टि स्थिर होना। (किसी की) आँख जाना—आँख में देखने की शक्ति न रह जाना। जैसे—एक आँख तो गई अब दूसरी तो बचाओं। (किसी चीज या बात की ओर) आँख जाना=दृष्टि या निगाह पड़ना। आँख झपकना=(क) आंख पर की पलक गिरना। जैसे—आँख झपकते ही उसने कलम उठा ली। (ख) थोड़े समय के लिए नींद आना। झपकी आना। जैसे—आज राज भर आँख नहीं झपकी। आँख या आँखें झेपना=दोषी या लज्जित होने के कारण निगाह नीची करना या सामने न देखना। आँख या आँखें टोरना=लज्जा से आँखे या निगाह नीची करना। आँख या आँखें टेकना=दे० ऊपर। या आँखें उलटना आँख=(किसी ओर या किसी चीज पर) आँख डालना-दृष्टिपात करना। देखना। आँख या आँखे तरेरना=आखें इस प्रकार कुछ तिरछी करना कि उनसे क्रोध या रोष सूचित हो। आँख तले आना=(क) दिखाई देना। जैसे—अभी तक तो ऐसी पुस्तक हमारी आँख तले नहीं आई। (ख) देखने में अच्छा लगना। जँचना। उदाहरण—अब न आँख तर आवत कोऊ।—तुलसी। (किसी को) आँख या आँखें दिखाना=क्रोध के आवेश में होकर या डराने-धमकाने के लिए किसी की ओर उग्र दृष्टि से देखना। उदाहरण—बहुत भाँति तिन्ह आँख दिखाए।—तुलसी। आँख या आँखें दुकने आना=दे० ऊपर। आँख आना या उठना। (किसी बड़े की) आँख या आँखें देखे हुए होना=संगति या सामना करने का अनुभव या सौभाग्य होना। जैसे—हम भी बड़े-बड़े उस्तादों की आँखें देखे हुए हैं। आँख या आँखें दौड़ना—कुछ ढूढ़ने या देखने के लिए दूर तक दृष्टि या ध्यान ले जाना। जैसे—चारों ओर आँखें दौड़ाने पर भी कोई दिखाई न दिया। आँख न उठना=दे० नीचे। आँख न खोलना। आँख या आँखें न खोलना=रोगजन्य शिथिलता के कारण आँखें बन्द करके तंद्रा में पड़े रहना। जैसे—आज दिन भर बच्चे ने आँख नहीं खोली। आँख या आँखें नचाना=दे० ऊपर। आँख या आँखें चमकाना। (किसी पर) आँख न ठहरना=तीव्र गति, दीप्ति, विशेष शोभा आदि के कारण किसी चीज पर निगाह न जमना। (किसी की) आँख या आँखें निकालना=दंड़ स्वरूप अंधा करने के लिए किसी की आँखों के गोलक या डेले काटकर अलग करना। (किसी के सामने) आँख या आँखें निकालना=क्रोधपूर्वक आँखें तरेरकर या ला पीले होकर देखना। उदाहरण—आँखें निकालिएगा जरा देखभाल कर।—कोई शायर। (किसी के सामने) आँख या आँखे नीची होना=लज्जा संकोच आदि के कारण ऐसी स्थिति में होना कि सिर न उठ सके। जैसे—तुमने उनसे रुपये उधार लेकर सदा के लिए उनके सामने मेरी आँख नीची कर दी। आँख पटपटाना=आँख या देखने की शक्ति नष्ट होना। (किसी पर) आँख पडना=दृष्टि या निगाह पड़ना। दिखाई देना। आँख या आँके पथराना=(क) मरने के समय आँखों की चमक और पारदर्शिता नष्ट होने के कारण उनका कठेर और निश्चल होना। (ख) प्रतीक्षा आदि में टक लगाकर देखते रहने के कारण आँखें कठोर और निश्चल होना। आँख या आँखों पर पट्टी बँधना या परदा पड़ना=भ्रम, मोह आदि के कारण भले-बुरे या हानि लाभ का ठीक ठीक ज्ञान न हो सकना। जैसे—उस समय मेरी आँखों पर पट्टी बँधी थी। (या परदा पड़ा था) जिससे मैने तुम्हारे सदभाव का तिरस्कार किया था। आँख या आँखें पसीजना=अनुराग दया आदि के कारण आँखों में कुछ जल भर आना। आँखे आर्द्र होना। आँख फड़कना=पलक या भौंह के कुछ अंश का कुछ देर तक रह—रहकर फड़क उठना या हिलना जो उक्त अंग की एक क्षणिक प्राकृतिक क्रिया और सामुदिक के अनुसार शुभ या अशुभ फल की सूचक है। (किसी की ओर से) आँख या आँखे फिरना या फिर जाना=पहले का सा अनुराग कृपा या सद्व्यवहार न रह जाना। आँख फूटना=आघात रोग आदि के कारण आँख इस प्रकार बिगड़ जाना कि देखने की शक्ति नष्ट हो जाए। आँख पसारना या फैलाना=अच्छी तरह ध्यानपूर्वक देखना या देखने का प्रयत्न करना। जैसे—आँख पसारकर देखो घड़ी मेज पर ही रखी है। (किसी की ओर से) आँख या आँखे फेरना या फोड़ना=बहुत देर तक लगातार ऐसा बारीक या परिश्रम साध्य काम करते रहना जिसमें आँखों को बहुत कष्ट हो या उन पर बहुत जोर पड़े। जैसे—कसीदा काढ़ने या लेखों का संसोधन करने में आँख फोड़ना। (किसी की) आँख या आँखें फोड़ना=दंड देने के लिए आँखों पर आघात करके किसी को अंधा करना। आँख या आँखें बंद करके कुछ करना=बिना कुछ भी ध्यान दिये या सोचे-समझे कोई काम करना। (किसी ओर या बात से) आँखें बंद करना या मूँदना=अभिमान, अरुचि संकोच आदि के कारण जान-बूझकर किसी होते हुए काम या बात पर ध्यान न देना। जान-बूझकर अनजान बनना। (किसी की) आँख या आँखें बंद होना=जीवन का अंत या मृत्यु होना। जैसे—पिता की आँखें बंद होते ही लड़कों में मुकदमें बाजी होने लगी। (किसी की) आँख बचाकर कुछ करना=इस प्रकार चोरी से कोई काम करना कि किसी उद्दिष्ट व्यक्ति का ध्यान उधर न जाने पावे। (किसी की) आँख बचाना=ऐसे प्रयत्न में रहना कि किसी उद्दिष्ट व्यक्ति का सामना न हो। (किसी की) आँख बदलना=पहले का-सा कुछ अनुराग या सद्भाव न रह जाना। उदाहरण—चीन्हत नाहीं बदल गये नैना।—गीत। (किसी से) आँख या आँखें बदलना=कुछ क्रोध या शील-संकोच किसी की ओर देखना। जैसे—अपना रुपया लीजिए आँखे क्या बदलते हैं। आँख बनना=शल्यक्रिया के द्वारा मोतियाबिन्दु संबलबाई आदि रोगों की ऐसी चिकित्सा होना कि आँखे ठीक तरह से काम देने लगे। आँख बनवाना=शल्य द्वारा मोतियाबिंदु या इसी प्रकार का आँख का कोई और रोग अच्छा कराना। आँख बनाना=उक्त आँख बनना=का संकर्मक रूप। (किसी की आँख या आँखें बराबर करना या मिलाना=सामना होने पर अच्छी तरह किसी की ओर देखना। दृष्टि या निगाह मिलाना। आँख बिगड़ना=रोग या उसकी अनुपयुक्त चिकित्सा के कारण आँख का ऐसी स्थिति में होना कि वह ठीक या पूरा काम न दे सके। जैसे—चेचक होने (या तेजाब पड़ने) से उनकी आँख बिगड़ गई। (किसी के आगे) आँखे बिछाना=आगत व्यक्ति का बहुत अधिक आदर-सत्कार करना। आँख बैठना=रोग आदि के कारण देखने की शक्ति नष्ट हो जाना। आँख भरकर देखना=अच्छी तरह दृष्टि जमाकर या ध्यान से देखना। आँख भर देखना=कुछ समय तक अच्छी तरह ध्यान से इस प्रकार देखना कि मन को तृप्ति या शांति हो। जैसे—हम उन्हें आँख भरकर देखने भी न पाए और वे चले गये। आंख या आँखें मटकाना=दे ऊपर। आँख या आँखें चमकाना=आँख मारना या मिचकाना—पलक और पुतली हिलाकर कुछ संकेत करना। आँख या आँखें मूदना=(क) आँखें बंद करना जिससे कुछ दिखाई न पड़े। उदाहरण—मूँदहुँ आँख कतहुँ कछु नाहीं।—तुलसी। (ख) मर जाना। मृत्यु होना। जैसे—जहाँ उन्होंने आँखें मूदी, सब चौपट हो जायेगा। (किसी ओर या बात से) आँख या आँखें मूदना—दे० ऊपर। (किसी ओर या बात से) ‘आँखें बंद करना’। आँख या आँखों से खटकना या गड़ना=अनुराग के अभाव, दोष, द्वेष आदि के कारण अनुचित, अप्रिय या अवांछित जान पड़ना। (आँखों का काँटा होना’ या ‘आँखों में चुभना’ की अपेक्षा कुछ हलकी विरक्ति का सूचक) जैसे—अब तो उनकी हर बात हमारी आँखों में खटकने लगी है। आँख या आँखों में खून उतरना या उत्तर आना=(क) बहुत अधिक क्रोध के कारण आँखें बहुत लाल हो जाना (दूसरों के संबंध में) जैसे—उस समय उनकी आँखों में खून उतर आया। (ख) बहुत अधिक क्रोध या रोष होना (स्वयं वक्ता के पक्ष में) जैसे—उसकी पाशविकता देखकर मेरी आँखों में खून उतर आया। आँख या आँखों में घर करना=बहुत ही प्रिय या सुन्दर होने के कारण बराबर अकाल्पनिक रूप में आँखों के सामने या ध्यान में बना रहना। आँख या आँखों में चरबी छाना=इतना अभिमान होना कि सब चीजें या लोग तुच्छ या हीन जान पड़ें। आँखों में टेसू या सरसों फूलना =स्वयं प्रसन्न या सुखी रहने के कारण दूसरों के कष्ट या दुःख से बिलकुल अनभिज्ञ या उदासीन रहना। (किसी की) आँख या आँखों में धूल झोंकना=स्वार्थ-साधन के लिए किसी को बहुत बड़ा धोखा देना या भ्रम में डालना। जैसे—आँखों में धूल झोंककर वह दस रुपए की चीज के बीस रुपए ले गया। आँख या आँखों में फिरना =सामने न होने पर भी प्रायः प्रत्यक्ष-सा दिखाई देता रहना। जैसे—आँखों में फिरती है सूरत किसी की।—कोई शायर। आँख या आँखों में बसना =दे० ऊपर ‘आँखों में घर करना’। उदा०—बसो मेरे नैनन में नँदलाल।—गीत। आँखों में सरसों फूलना=दे० ऊपर ‘आँखों में टेसू फूलना।’ (किसी व्यक्ति पर) आँख रखना=किसी व्यक्ति की गतिविधि पर सतर्क रहकर दृष्टि या ध्यान रखना। (किसी ओर) आँख या आँखें लगाना =किसी की ओर दृष्टि या ध्यान जमाना या स्थिर होना। जैसे—किसी की प्रतीक्षा में दरवाजे पर आँख लगाना। (किसी की) आँख लगना=(क) थोड़े समय के लिए हलकी नींद आना। झपकी लगना। जैसे—दो दिन बाद आज भइया की जरा आँख लगी है। (किसी चीज पर) आँख लगना =श्रृंगारिक प्रसंग में, काम-वासना की तृप्ति के लिए किसी से प्रायः अनुरागपूर्ण देखा-देखी या सम्पर्क होना। (किसी से) आँख लड़ना =(क) अचानक या संयोग से देखा-देखी होना। जैसे—आँख लड़ते ही वह घूमकर गली में घुस गये। (ख) दे० ऊपर (किसी व्यक्ति से) ‘आँख लगना’। (किसी से) आँख या आँखें लड़ाना=श्रृंगारिक प्रसंग में, प्रायः रह-रहकर कुछ देर तक अनुरागपूर्वक एक-दूसरे को देखते रहना। आँख या आँखें लाल करना=क्रोध से भरकर इस प्रकार आँखें गड़ाकर देखना कि उनमें खून आया या भरा जान पड़े। आँख या आँखें सफेद होने को आना=इतनी अधिक प्रतीक्षा करना कि आँखें ज्योतिहीन हो जायँ और उनमें देखने की शक्ति न रह जाय। आँख या आँखें सेंकना=तृप्त होने या लालसा पूरी करने के लिए सुंदर रूप की ओर रह-रहकर देखना। आँख या आँखों से खून टपकना =(क) दे० ऊपर ‘आँखों में खून उतरना’। (ख) बहुत अधिक दुःख के कारण इस प्रकार आँसू निकलना कि मानों कलेजा फटने के कारण उसमें से खून टपक रहा हो। खून के आँसू रोना। (किसी की) आँख या आँखों से चिनगारियाँ छूटना=आँखों से बहुत अधिक क्रोध या रोष के लक्षण प्रकट होना। आँख या आँखों से नीर (या नील) ढलना=मरने के समय आँखों से अंतिम बार जल निकलना। आँख या आँखों से लगाना=कोई चीज मिलने पर उसके प्रति आदर या स्नेह दिखाने के लिए उसे आँखों से स्पर्श कराना। आँख होना =(क) कोई चीज पहचानने या कोई बात समझने की योग्यता या शक्ति होना। उदा०—भई तक आँखें दुख सागर कोई चाखैं, अब वही हमें राखें, भाखैं वारो धन माल हो।—प्रिया। (ख) किसी बात का अनुभव या परख होना। आँखें घुलाना=एक-दूसरे को रह-रहकर प्रेमपूर्वक बराबर देखते रहना। आँखें चढ़ना=(क) नशे के कारण आँखें लाल और भारी होना। (ख) अप्रसन्नता, क्रोध आदि के कारण भौंहें तनना। त्योरी चढ़ना। आँखें चार करना=किसी की दृष्टि से दृष्टि मिलाना। आमने-सामने होकर एक दूसरे को देखना। आँखें चार होना=किसी से देखा-देखी और सामना होना। आँखें ठंढी होना=किसी को देखने से परम प्रसन्नता या संतोष होना। आँखें डबडबाना=दुःख के कारण आँखों में आँसू भर आना। आँखें तरसना=किसी को देखने की अत्यंत अभिलाषा और उत्कंठा होना। आँखें फाड़कर देखना=अविश्वास अथवा आश्चर्य होने की दशा में अथवा कुछ ढूँढ़ने के लिए देखने की सारी शक्ति एकाग्र करके देखना। (किसी के लिए) आँखें बिछाना =बहुत अधिक आदर और प्रेमपूर्वक स्वागत करना। आँखें भर आना=दे० ऊपर ‘आँखों डबडबाना’। आँखों की सूइयाँ निकालना=किसी बहुत कठिन और बड़े काम का अंतिम और सहज अंश पूरा करके सारे काम का यश और श्रेय प्राप्त करना। (एक प्रसिद्ध कहानी के आधार पर) जैसे—अब सारा काम हो चुका, तब आप आँखों की सूइयाँ निकालने आये हैं। (किसी की) आँखों में आँखें डालना=जो इस ओर देख रहा हो, उसकी आँखों की ओर सारी शक्ति लगाकर प्रेमपूर्वक देखना। (किसी को) आँखों में पालना या रखना=सदा अपने साथ रखकर परम प्रेम से और बहुत ही यत्नपूर्वक पालन-पोषण करना। आँखों में रात काटना या बिताना=सारी रात जागकर बिताना। (किसी की) आँखों में मलाई फेरना=दंडस्वरूप अंधा करने के लिए लोहे की सलाई गरम करके उसे सुरमे की सलाई की तरह आँखों में लगाकर उन्हें जलाना। (किसी को) आँखों पर बैठाना=आये हुए व्यक्ति का बहुत अधिक आदर-सत्कार करना। फूटी आँख या आँखों न सुहाना=किसी अवस्था में भी अच्छा न लगना। बहुत ही अप्रिय जान पड़ना। पद—आँख का अंधा=वह जिसे कुछ भी ज्ञान न हो। परम मूढ़। आँख का तारा या तिल=आँख की पुतली=आँख का वह सारा काला भाग जिसके बीच में तारा या तिल होता है। आँखों के डोरे=आँखों में एक सिरे से दूसरे सिरे तक दिखाई देनेवाली लालधारियाँ जो सौंदर्य बढ़ानेवाली होती हैं। आँखें चरने हई हैं=आँखें या दृष्टि कुछ भी काम नहीं कर रही हैं ! (आश्चर्य-सूचक अथला व्यंग्यात्मक) जैसे—तुम्हारी आँखें तो चरने गई हैं; सामने रखी हुई चीज तुम्हें कैसे दिखाई दे। आँख वाला=(क) चतुर। होशियार। (ख) गुणग्राहक। पारखी। २. वह शक्ति जिससे मनुष्य अच्छी बातें समझकर उन्हें ग्रहण करता है। धारणा और विचार की शक्ति। जैसे—हिये की आँख। ३. किसी के संबंध में मन में होनेवाली धारणा, मत या विचार। दृष्टि। निगाह। जैसे—जनता की आँख या आँखों में अब वे बहुत गिर गये हैं। ४. गुणदोष आदि परखने की शक्ति। निगाह। परख। पहचान। जैसे—उन्हें कपड़े (या जवाहरात) की अच्छी आँख है। ५ वस्तु, व्यक्ति आदि पर रखा जानेवाला ठीक और पूरा ध्यान। सतर्कतापूर्ण दृष्टि। निगाह। जैसे—(क) इस लड़के पर आँख रखना; कुछ लेकर भाग न जाय। (ख) आज-कल उनपर पुलिस की आँख है। ६. प्राप्ति की इच्छा से होनेवाली लोभपूर्ण दृष्टि। जैसे—गठरी या बक्स पर चोर की आँख होना। ७. कृपापूर्ण दृष्टि। दयाभाव। जैसे—जब इन पर आपकी आँख है, तो यह भी कुछ हो जायेंगे। ८. आकार, रूप, स्थिति आदि के विचार से आँखों से मिलती-जुलती कोई चीज या बनावट। जैसे—अन्नास, आलू, या ऊख की आँख, मोर-पंख पर की आँख आदि। ९. आँख के आकार का कोई ऐसा छोटा छेद जिसमें कोई दूसरी चीज डाली या पहनाई जाती हो। जैसे—सूई की आँख (छेद या नाका)। (आई, उक्त सभी अर्थों के लिए)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँखड़ी  : पुं०=आँख।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख-फोड़ टिड्डा  : पुं० [सं० आक-मदार+हिं० फोड़ना] १. हरे रंग का एक फतिंग जो प्रायः मदार के पौधों पर रहता है। २. वह जो दूसरों का अपकार या हानि करता-फिरता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख-मिचौनी  : स्त्री०=आँख-मिचौली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख-मिचौली (मिचौली)  : स्त्री० [हिं० आँख+मीचना] बच्चों का एक खेल जिसमें एक लड़का किसी दूसरे लड़का की आँख मूदता है। इस बीच और लड़के छिप जाते है तब आँख मुदानेवाले की आँखे खोल दी जाती है और वह लड़कों को ढूंढ़कर छूता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख-मीचली  : स्त्री०=आँख-मिचौली। (खेल) उदाहरण—कहुँ खेलत मिलि ग्वाल मंडली आँख-मिचौली खेल-सूर।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँख-मुँदाई  : स्त्री०=आँख-मिचैनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँखा  : पुं० वि० -आखा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँग  : पुं० [सं० अङ्] १. अंग। २. प्रति चौपाये के हिसाब से ली जानेवाली चराई।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंगक  : वि० [सं० अंग+वुञ्-अक] अंग देश से संबंध रखनेवाला। अंग देश का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगन  : पुं० [सं० अंगण√अञ्ज्, प्रा० मरा० अंगण, गु० आंगुणु, आंगनियु० सिं० अङणु, बँ० उ० पं० अं (आं) गन] १. घर के अंदर या सामने का खुला चौकोर स्थान जो ऊपर से छाया हो। चौक। सहन। २. रहस्य संप्रदाय में अंतःकरण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगरी  : स्त्री०=उँगली।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंगारिक  : वि० [सं० अंगार+ठक्-इक] १. अंगार-संबंधी। २. अंगारों पर पकने या बननेवाला (खाद्य पदार्थ)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंगिक  : वि० [सं० अंग+ठक्-इक] १. अंग या अंगो से संबंध रखनेवाला। २. शारीरिक क्रियाओं, चेष्टाओं या संकेतों द्वारा अभिव्यक्त होनेवाला। जैसे—आंगिक अनुबाव आंगिक अभिनय आदि। ३. दे० ‘कायिक’। पुं० वह जो मृदंग बजाता हो। पखावजी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंगिक-अभिनय  : पुं० [सं० कर्म० स०] ऐसा अभिनय जिसमें नट या नर्तक अपनी शारीरिक क्रियाओं, चेष्टाओं, संकेतों आदि से ही अपने मनोगत भावों की अभिव्यक्ति करता अथवा कोई स्थिति दिखाता हो। अभिनय के चार भेदों में से एक (शेष तीन अंग है—आहार्य, वाचिक और सात्त्विक)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंगिरस  : पुं० [सं० अंगिरस+अण] १. अँगिरा ऋषि के तीन पुत्र-बृहस्पति, उतथ्य तथा संवर्त। २. अंगिरा के गोत्र का व्यक्ति। वि० अंगिरा संबंधी अंगिरा का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगी  : स्त्री०=अँगिया।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगुर  : स्त्री०=उँगली(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगुरी  : स्त्री०=उँगली।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँगुल  : पुं० [सं० अंगुल+अण] दे० ‘अंगुल’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँघी  : स्त्री० [सं० घृ-क्षरण, झरना] मैदा आदि चलाने की चलनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँच  : स्त्री० [सं० अर्चिस्-ष् (आग की लपट), प्रा० अच्चा, सि० गु० बँ० आच, कान, इचु] १. अग्नि। आग। जैसे—चूल्हें आँच, न घड़े पानी। कहा। २. आग की लपट। ३. आग से निकलनेवाली गरमी या ताप। ४. आग पर पकाये जाने की क्रिया। जैसे—अभी इसमें एक आँच की कसर है। मुहावरा—आँच खाना=(क) किसी चीज का आग पर चढ़कर उसका ताप सहना। आँच दिखाना=(ख) गरम करने के लिए आँच के पास रखना। ५. किसी प्रकार का कष्ट या हानि। उदाहरण—इन पाँचन को बस करै ताहि न आवै आँच।—कबीर। ६. कोई कष्टदायक या घातक चीज या बात। जैसे—तलवार की आँच। ७. किसी मनोवेग की उग्र या तीव्र अनुभूति। जैसे—काम-वासना या ममता की आँच। ८. विपत्ति। संकट। मुहावरा—आँच आना=अपकार या हानि होना। संकट में पड़ना। ९. प्रेम। मुहब्बत। १. काम-वासना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंचन  : पुं० [सं० अञ्जन+अण] [√आञ्छ्(ठीक करना)+ल्युट्-अन] १. हड्डी के टूटने अथवा किसी अंग में मोट पड़ने पर उसे जोड़ना अथवा ठीक करना। २. शरीर में धँसी कोई चीज विशेषतः काँटा, बाण आदि निकालना। अ० १. गरम होना। तपना। २. ताप से पीड़ित होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँचर  : पुं० =आँचल।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँचल  : पुं० [सं० अञ्चल] १. मनुष्य (विशेषतः स्त्री) द्वारा पहने हुए वस्त्र (जैसे—धोती, साड़ी या दुपट्टा) का वह छोर या सिरा जो प्रायः छाती या वक्षस्थल पर पड़ता है। पल्ला। मुहावरा—(किसी के आगे) आँचल ओड़ना या पसारना=किसी के कुछ माँगने के लिए दीनतापूर्वक उसके आगे कपड़े का पल्ला फैलाना। आँचल देना=(क) स्त्री का बच्चे को दूध पिलाना। (ख) आँचल से हवा करना। (ग) किसी स्त्री को यों ही घर में पत्नी के रूप में रख लेना। (मुस०) (कोई बात) आंचल में बाँधना—अच्छी तरह और सदा के लिए याद रखना। जैसे—हमारी यह बात आँचल में बाँध रखो। आंचल लेना=(क) घर में आयी हुई बड़ी स्त्री का आँचल छूकर उसका सत्कार तथा स्वागत करना। स्त्रियाँ। (ख) स्त्रियों का आंचल से अपना वक्षस्थल ढकना। २. कपड़े का कोई छोर या सिरा। पद—आँचल पल्लू-धोती, साड़ी आदि पर टाँका हुआ ठप्पेदार, चौड़ा पट्टा। ३. कपड़े का छोटा टुकड़ा। उदाहरण—सोभित दूलह राम सीस पर आँचर हो।—तुलसी। ४. दे० ‘अंचल’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंचलिक  : वि० [सं० अंचल+ठक्-इक] १. अंचल संबंधी। अंचल का। २. किसी अंचल (प्रदेश या प्रांत)में होनेवाले या उसेस संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँचू  : पुं० [देश] एक प्रकार की कँटीली झाड़ी जिसमें शरीफे के आकार के फल लगते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँजन  : =अंजन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँजना  : स० [सं० अञ्जन] आँखों में अंजन लगाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंजनी  : स्त्री० [सं० अंजन+अण्-ङीष्] आँखों में लगाने का अंजन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंजनेय  : पुं० [सं० अंजना+ढक्-एय] अंजना के पुत्र। हनुमान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँजू  : पुं० [देश] फसल की बाढ़ रोकनेवाली एक घास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँट  : पुं० [हिं० अंटी] १. तर्जनी और अँगूठे के बीच का स्थान। घाई। २. दाँव। पेच। मुहावरा— आँट पर चढ़ना=दाँव लगाना। ३. वैर-विरोध। लाग-डाँट। मुहावरा—आंट पड़ना=मन मुटाव होना। ४. गाँठ। गिरह। ५. गट्ठा। पूला। ६. ऐंठन। स्त्री० दे० अंटी और आँटी। स्त्री० [सं० आनद्ध] सोना को परखने के लिए कसौटी पर उससे लगाया हुआ निशान। कस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँट-साँट  : पुं० [हिं० आँट+साँटना] १. षड्यंत्र। २. मेल-जोल। वि०=अंट-संट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँटना  : अ०=अँटना (समान)। स० [हिं० अंटी] १. अंटी बनाना। अँटियाना। २. (किसी को) अपने अधिकार या पक्ष में करना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँटी  : स्त्री० [सं० ऋतु>प्रा०अट्ट>आँट, आँटी] परंपरा। रीति। उदाहरण—देवन्ह चलि आई असि आँटी। सुजन कँचन दुर्जन भा माँटी।—जायसी। स्त्री० [सं० अण्ड] १. घास-पात का छोटा गड्ढा। पूला। २. सूत आदि की लच्छी। ३. लड़कों के खेलने की गुल्ली। ४. दे० अंटी। ५. कुश्ती का एक दाँव जिसमें पहलवान अपने विपक्षी की टाँग में टाँग अड़ाकर उसे चित्त पटकते है। ६. दे० ‘अंटी’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँठी  : स्त्री० [सं० अष्टि, प्रा० अट्ठि] १. दही, मलाई आदि का लच्छा। २. गाँठ। गिरह। ३. गुठली। ४. गुठली की तरह का कोई कड़ी और गोल चीज। ५. नवोढ़ा के स्तन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँड़  : पुं० [सं० अण्डम्, प्रा० गुं० मरा० अंड, पं० का० आंड, सिं० आनो० उ० बं० आंडा] १. अंडकोश।२. हिरण्यगर्भ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँडज  : वि० [सं० आंड√जन् (उत्पन्न होना)+ड] अंडज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँड़ी  : स्त्री० [सं० अण्ड] १. अंटी। गाँठ। २. गाँठ के रूप में होनेवाला कंद। जैसे—प्याज या लहसुन की आँड़ी। ३. कोल्हू की जाठ का गोल सिरा। ४. पहिए की सामी या हल। बंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँड़ू  : वि० [सं० अण्ड-अण्डकोश] (पशु) जो बधिया न किया गया हो। जिसके अंडकोश वर्त्तमान हों। (अन्-कैस्ट्रेटेड)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँत  : स्त्री० [सं० अन्त्र, प्रा० गु० अंतर, सिं० अंदरू, पं० आँदराँ] आमाशय के अंदर की वह लंबी नली जो प्राणियों की नाभि से गुदा तक गई है तथा जिससे होकर मन बाहर निकलता है। अँतड़ी। लाद। (इन्टेस्टाइन्स) मुहावरा—आंत उतरना=एक रोग जिसमें आँत ढीली होकर अँडकोश में उतर आती और बहुत कष्ट देती है। आँतें कुलकुलाना=बहुत भूख लगने के कारण व्याकुल होना। आँते मुँह में आना=संकट में पड़ने के कारण बहुत अधिक कष्ट होना। आँते गले में आना—कष्ट या विपत्ति से बहुत अधिक दुःखी तथा व्यग्र होना। आँते समेटना=बहुत अधिक भूख लगने पर भी उसे दबाये रखना। आँतों का बल खुलना—बहुत समय तक भूखे रहने के बाद जी भर के भोजन करना। आँतो में बल पड़ना=पेट में दर्द होना। उदाहरण—हँसते-हँसते आँतो में बल पड़ने लगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँत कट्टू  : पुं० पशुओं का एक रोग जिसमें उन्हें पतले दस्त आते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँतर  : पुं० [सं० अन्तर-भीतर] १. अंतर। भद। २. दूरी। ३. खेत का वह भाग जो किसी निश्चित समय में या एक बार जोता जाए। ४. पान के भीटे में क्यारियों के बीच का रास्ता। ५. कपड़े के तानों में दोनों सिरों की खूटियों के बीच साँथी अलग करने के लिए थोड़ी-थोड़ी दूर पर गाड़ी जानेवाली लकड़ियाँ। (जुलाहे)। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँतर  : वि० [सं० अंतर्+अण] १. अंदर का। भीतरी। २. किसी क्षेत्र या सीमा के अंदर होने या उससे संबंध रखनेवाला। ३. किसी वस्तु व्यक्ति आदि के निजी गुण महत्त्व विशेषता आदि से संबंध रखनेवाला। (इँट्रिडिंक) जैसे—आंतर मूल्य। (अंकित मूल्य से भिन्न) (इंट्रिजिंक वैल्यू)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतरागारिक  : वि० [सं० अन्तरागार+ठक्-इक] घर के भीतरी भाग, विशेषतः अंतपुर से संबंध रखनेवाला। पुं० १. भंडारी। २. कोषाध्यक्ष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतरिक  : वि० [सं० अंतर+ठक्-इक] १. अंदर का। भीतरी। २. किसी देश की घरेलू या भीतरी बातों से संबंध रखनेवाला। जैसे—आंतरिक नीति या आंतरिक व्यवस्था। (इन्टर्नल) ३. किसी निश्चित क्षेत्र या सीमा में होनेवाला। ४. अंतःकरण से होनेवाला। सच्चा। वास्तविक। जैसे—आंतरिक वेदना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतरिक्ष  : वि० [सं० अन्तरिक्ष+अण्] अंतरिक्ष संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतर्गेहिक  : वि० [सं० अनतर्गेह+ठक्-इक]=आंतरागारिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतर्वेश्मिक  : वि० [सं० अन्तर्वेस्म+ठक्-इक]=आँतरागारिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँतिक  : वि० [सं० अंत+ठक्-इक] [भाव० अंतिकता, आँतिक्य] जो किसी के अंत में या समाप्ति पर हो तथा उसकी पूर्णता विस्तार या वृद्धि की सीमा का सूचक हो। (टरमिनल) जैसे—आंतिक कर आंतिक परीक्षा आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतिक-हेतु  : पुं० [सं० कर्म०स०] यह दार्शनिक सिद्धांत कि सृष्टि की रचना एक विशिष्ट उद्देश्य से और पूरी योजना के अनुसार हुई है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतिका  : स्त्री० [सं० अन्तिका+अण्-टाप्] बड़ी बहन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंतिक्य  : पुं० [हिं० आंतिक+ण्यत्] आंतिक होने की अवस्था, गुण या भाव। आँतिकता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंत्र  : वि० [सं० अन्त्र+अण्] आँत-संबंधी। पुं० आँत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंत्रिक  : वि० [सं० अन्त्र+ठञ्-इक] आँतो में होनेवाला। आँत-संबंधी। जैसे—आंत्रिक रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंत्रिक-ज्वर  : पुं० [सं० कर्म० स०] एक प्रकार का विकट और प्रायः घातक ज्वर जो आँतों में विकार होने से उत्पन्न होता है और प्रायः तीन-चार सप्ताह तक निरंतर बना रहता है। (टाइफ़ॉयड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदू  : पुं० [सं० अन्दू-बेड़ी] १. बेड़ी। २. साँकल। ३. हाथी के पाँव में बाँधने का सीकड़। उदाहरण—पगन लाज आँदू परी चढ्यौं महावत तेह।—मतिरास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदोल  : पुं० [सं०√आन्दोल् (बार-बार चलाना)+घञ्] आँदोलन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदोलक  : वि० [सं०√आन्दोल्+ण्युल्-अक] १. झूलने या झूलानेवाला। २. आंदोलन करने या हलचल मचानेवाला। पुं० झूला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदोलन  : पुं० [सं०√आन्दोल्+ल्युट्-अन] १. इधर-उधर झूलना, लहराना या हिलना। २. कंपन करना। ३. लोगों को उत्तेजित करने के लिए अथवा कोई आवेगपूर्ण या असांत परिस्थिति बनाने के लिए किया जानेवाला कार्य या प्रयास। (एजीटेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदोलनकारी (रिन्)  : पुं० [सं० आन्दोलन√कृ (करना)+णिनि] वह जो आंदोलन करता या हलचल मचाता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंदोलित  : भू० कृ० [सं०√आन्दोल्+क्त] १. जो खूब हिलाया या झुलाया गया हो। २. आवेगपूर्ण। उत्तेजित या हलचल से भरा हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँध  : स्त्री० [सं० अन्ध] १. अँधेरा। २. रतौधी। वि० -अंधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँधना  : अ० [हिं० आँधी] अकस्मात् तथा वेग से आक्रमण या धावा करना। आँधी की तरह किसी पर टूट पड़ना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँधर, आँधरा  : वि० [सं० अन्ध] [स्त्री० आँधरी] अंधा। नेत्रहीन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंधसिक  : पुं० [सं० अन्धस्+ठक्-इक] रसोइया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँधारंभ  : पुं० [सं० अन्ध-अधंकार, अंधेर+आरम्भ] बिना समझे-बूझे कोई कार्य करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँधी  : स्त्री० [सं० अन्ध-अँधेरा] १. हवा का वह वेगपूर्ण रूप जो धूल मिट्टी आदि से युक्त होता है तथा जिसके चारों ओर प्रायः अंधकार सा छा जाता है। अंधड़। (विंड-स्टार्म)। मुहावरा—आँधी उठना=आंदोलन करना या हलचल मचाना। आँधी होना—बहुत तेज चलना। आँदी के आम-(क) बिना परिश्रम किये मुफ्त में या सस्ते में मिली हुई कोई वस्तु।(ख) जिसका अस्तित्व कुछ ही दिनों तक हो। २. वह जिसमें आँधी जैसा तेजी हो। बहुत ही जल्दी में या आवेश में काम करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंधै  : स्त्री०=आँधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंध्य  : पुं० [सं० अन्ध+ण्यत्] १. अंधे होने की अवस्था या भाव। अंधापन। २. अंधकार। अँधेरा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंध्र  : पुं० [सं० आ√अन्ध् (अंधा होना)+रन्] १. स्वतंत्र भारत का एक राज्य जो दक्षिण भारत में स्थित है तथा जहाँ तेलगू भाषा बोली जाती है। २. उक्त प्रदेश का निवासी। ३. दक्षिण भारत की एक प्राचीन जाति, जो बाद में आर्यों से मिल गई थी। वि० उक्त देश में होने या उससे संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँब  : पुं० =आम (वृक्ष और फल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंवष्ठ  : वि० [सं० अम्बष्ठ+अण्] अंबष्ठ देश में होने या उनसे संबंध रखनेवाला। पुं० अंबष्ठ देश का निवासी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंबा हलदी  : स्त्री० [सं० आम्र-हरिद्रा, प्रा० अवंहलद्दा, मरा० अंबहलद] एक प्रकार का पौधा जिसकी जड़ हलदी की तरह होती और दवा के काम में आती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंबिकेय  : पुं० [सं० अंबिका+ढक्-एय]=अंबिकेय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँयँ-बाँयँ  : पुं० [अनु०] आँय-बाँय-शाँय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँय बाँय शाँय  : वि० [सं० अतिपात, शान्ति या विशुद्ध अनु०] व्यर्थ का। बिना सिर-पैर का और असंबद्ध (कथन या प्रलाप)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँव  : पुं० [सं० आम्र या आमय, मरा० आव, आँव, सिं० अमु० का० ओम] १. अधपके या कच्चे अन्न या फल के पेट में न पचे होने की स्थिति अथवा उक्त के फलस्वरूप होनेवाला रोग जिसमें पेट में ऐंठन और पीड़ा होती है तथा थोड़ा-थोड़ा करके लसीला मल निकलता है। २. उक्त रोग में पेट से निकलनेवाला लसीला मल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवठ  : पुं० [सं० ओष्ठ, हिं० ओठ] १. किनारा। तट। २. किसी चीज की कुछ ऊँची उठी हुई बाढ़। ३. कपड़े आदि का किनारा या हाशिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवड़ना  : अ०=उमड़ना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवड़ा  : वि० [सं० अव-गर्त्त] गहरा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवन  : पुं० [सं० आनन-मुँह] १. पहिए में लोहे की वह सामी जिसके अंदर से धुरी जाती है। २. लोहारों का वह औजार जिससे वे लोहे में छेद बड़ा करते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवरा  : पुं०=आँवला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवल  : पुं० [सं० उल्वम्-जरायु] वह झिल्ली जिसमें गर्भ में बच्चे लिपटे रहते हैं। खेड़ी। जेरी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवलगट्टा  : पुं० [हिं० आँवला+गट्टा या गाँठ] आँवले का सूखा हुआ फल। सूखा आँवला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवल-नाल  : स्त्री०=आँवला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवला  : पुं० [सं० आमलक, प्रा० आमलग, बँ० आम्ला, गु० आंवला, सि० आंविशे, का ओम (म्) मरा० अवला] १. इमली की तरह की छोटी पत्तियोंवाला वृक्ष जिसमें गोल छोटे फल लगते है। २. उक्त फल जो स्वाद में खट्टे और खाने तथा दवा के काम आते है। ३. कुश्ती का एक दाँव या पेंच।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवलापत्ती  : स्त्री० [बिं० आँवला+पत्ती] सिलाई का एक प्रकार जिसमें सीयन के दोनों ओर पत्ती जैसे तिरछे टाँके लगते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवलासार गंधक  : स्त्री० [हिं० आँवला+सं० सारगंधक] साफ की हुई गंधक जो औषध आदि के काम में आती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँवाँ  : पुं० [सं० आपाक] विशेष प्रकार से बनाया हुआ वह गड्ढा जिसमें मिट्टी की कच्ची ईटें बरतन आदि पकाते जाते है। मुहावरा—आँवा बिगड़ना=किसी वर्ग या विषय की सभी बातें खराब हो जाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँशिक  : वि० [सं० अंश+ठक्-इक] १. अंश या भाग से संबंध रखनेवाला। २. केवल अंश या भाग के रूप में होनेवाला। कुछ या थोड़ा। (पार्शिअल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंशुक-जल  : पुं० [सं० अंशुक+अण्, आंशुक-जल, कर्म० स०] ताँबे के बरतन में रखा हुआ वह जल जो दिन भर धूप में और रात भर चाँदनी में पड़ा रहा हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंश्य  : वि० [सं० अंश+ष्यञ्]-आंशिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंषु  : [सं० आखु] चूहा। मूसा। उदाहरण—आँषु धरन हित दुष्ट मँजारी।—नंददास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आंस  : स्त्री० [हिं० गाँस] हलकी पीड़ा या वेदना। कसक। स्त्री० [?] १. डोरी। रस्सी। २. रेशा। ३. मूँछों के निकलने का आरंभिक रूप। रेख। (बुदे०) पुं० १. अंश। २. -आँसू।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँसना  : अ० [हिं० आँस] कष्टकारी सिद्ध होना। खटकना। गड़ना। उदाहरण—लगान थोड़ा होने पर भी आँसता था।—वृन्दावनलाल वर्मा। स० कष्ट देना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँसला  : वि० [हिं० आँसू] जिसकी आँखों में आँसू भरे हो। वि० [हिं० आँस] जिसके ह्रदय में वेदना हो। उदाहरण—पटक्योई परै यह अंकुर आसंली, ऐसे कछु रस रीति घुरी।—घनानंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँसी  : स्त्री० [सं० अंश-भाग] बैने या भेंट के रूप में किसी को दिया जाने वाला अंश या भाग। उदाहरण—काम किलोलनि में मतिराम लगे मनो बाँटन मोद की आँसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँसू  : पुं० [सं० अंश्रु, पा० अस्सु, प्रा० गु० आंजु, आंसु, ने० आँसु, सि० इंज, पं० अंझू, का० ओश, सिंह० अस, मरा० अँसू] आँखो की अश्रुग्रंथि में से स्रवित होने वाली बूँदे। विशेष—आँसू प्रायः दुख के आवेग या क्षोभ और कभी-कभी विशेष हर्ष के कारण भी निकलते है। मुहावरा—आँसू गिराना=रोना। आँसू डबडबाना—आँखों में आँसू भर आना। आँसू ढालना—रोना। आँसू पीकर रह जाना—कष्टपूर्ण आवेग मन में ही रोक रखना और प्रकट न होने देना। (किसी के) आँसू पोंछना=(क) आश्वासन देना। ढ़ाढस बँधाना। (ख) ऐसा काम करना, जिससे किसी का दुःख या पाश्चाताप कम हो। जैसे—सौ रूपये देकर उनके भी आँसू पोंछ दों। आँसूओं का तार बँधना=रोने का क्रम निरंतर चलते रहना। आँसूओं में मुँह धोना—इतना अधिक रोना कि सारे चेहरे पर आँसू फैल जाएँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँसूढाल  : पुं० [हिं० आँसू+ढालना] चौपायों का एक रोग जिसमें उनकी आँखों से प्रायः आँसू या जल बहता रहता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँहड़  : पुं० [सं० आ+भांड] १. मिट्टी का बरतन। २. पात्र। बरतन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आँहाँ  : अव्य० [अनु०] १. निषेधसूचक शब्द। ऐसा मत करो। २. अस्वीकृतिसूचक शब्द। यह या ऐसी बात नहीं है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आइंदा  : वि० [फा० आइन्दाः] आनेवाला। भावी। जैसे—आइँदा साल। अव्य० आनेवाले समय में। आगे चलकर। भविष्य में।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आइ  : अ० [हिं० आहि] होना क्रिया का पुराना भूतकालिक रूप। उदाहरण—खान-पान, सय्या शयन, जासु भरोसे आइ।—मदमाकर। स्त्री० आयु (जीवन काल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आइना  : पुं०=आईना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आइस  : पुं० -आयसु। (आज्ञा या आदेश)। स्त्री०-आयु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आई  : स्त्री० [हिं० आना] मृत्यु। मौत। स्त्री०-आयु। स्त्री०=माता (माँ)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आईन  : पुं० [फा०] [वि० आईनी] १. कायदा। नियम। २. कानून। विधि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आईना  : पुं० [फा० आईन] १. दर्पण। शीशा। मुहावरा—(कोई बात) आईना होना=बिलकुल साफ या स्पष्ट होना। २. किवाड़ के पल्ले में का दिलहा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आईनी  : वि० [फा०] आईन या कानून से संबंध रखनेवाला। विधिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउंकार  : पुं०=ओंकार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउंस  : पुं० [सं० ] एक पाश्चात्य मान जो (क) तौल या सवा तोले के बराबर और (ख) नाप में सोलह ड्राम या ९६0 बूँदों का होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउ  : स्त्री० =आयु।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउज  : पुं०=आवज (ताशा नाम का बाजा)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउध  : पुं० १=आयुध। २. =युद्ध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउबाउ  : वि०=आँय-बाँय। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आउस  : पुं० [सं० आशु, बंग० आउश] एक प्रकार का धान। ओसहन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आऊ  : प्रत्यय० [?] एक प्रत्यय जो धातुओं के अन्त में लगकर उनके कर्ता का अर्थ देता है। जैसे—(क) उड़ाऊ-उड़ानेवाला। (ख) खाऊ-खाने-पीनेवाला आदि। स्त्री०=आयु।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकंपन  : पुं० [सं० आ√कम्प् (काँपना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आकंपित] १. कंपन होना। काँपना। २. हिलना-डुलना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकंपित  : भू० कृ० [सं० आ√कम्प्+क्त] जो कँपाया या हिलाया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक  : पुं० [सं० अर्क, पा० अक्क] मदार का पौधा। पद—आक की बुढिया—(क) आक या मदार के भीतर का बहुत हलका और मुलायम पदार्थ। (ख) ऐसा वृद्धा स्त्री जिसमें कुछ भी दम न हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकड़ा  : पुं० -आक (मदार)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकन  : पुं० [सं० आखनन-खोदना] १. खेत में से व्यर्थ की घास आदि निकाल कर बाहर फेंकना। चिखुरी। २. इस प्रकार निकली हुई घास आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकबत  : स्त्री० [अ० आकिबत] १. मृत्यु होने के पश्चाताप के अवस्था। २. अंत। ३. परलोक। मुहावरा—आकबत में दिया दिखाना=परलोक में काम आना। जैसे—कुछ गरीबों को भी दिया करो, यहीं आकबत में दिया दिखाएगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकबती लंगर  : पुं० [अ० आकिबत+हिं० लंगर] जहाज में एक प्रकार का लंगर, जो विशेष संकट के समय गिराया या डाला जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकबाक  : वि० [सं० वाक्य] अंडबंड या ऊटपटांग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर  : पुं० [सं० आ√कृ(करना)+घ] १. खान। २. वह स्थान जहाँ किसी वस्तु की बहुतायत हो। आधान। ३. खजाना। जैसे—गुणाकर, रत्नाकर। ४. उत्पत्ति का स्थान। ५. तलवार चलाने का एक ढंग। वि० १. श्रेष्ठ। २. बहुत अधिक या यथेष्ठ। ३. खान में निकलने या प्राप्त होनेवाला। पुं०=आक (मदार)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरकरहा  : पुं० [अ०] दे० ‘अकरकरा’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरखाना  : स० [सं० आकर्षण] अपनी ओर आकृष्ट करना। खीचना।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर-भाषा  : स्त्री० [ष० त०] वह मूल भाषा जो किसी दूसरी भाषा की जननी हो तथा उसे अपने शब्दभांडार से निरंतर पुष्ट तथा संवर्द्धित करती हो। जैसे—गुजराती, बंगला, हिन्दी आदि की आकर भाषा संस्कृत है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरसना  : स० [सं० आकर्षण] अपनी ओर आकृष्ट करना। खींचना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरिक  : वि० [सं० आकर+ठञ्+इनि] १. खान में काम करनेवाला। २. सुरंग बनाने या खोदनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरिक  : वि० [सं० आकर+ठञ-इक] १ खान में काम करनेवाला। २. सुरंग बनाने या खोदनेवाला।.
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरी (रिन्)  : वि० [सं० आकर+इनि] १. खान से निकाला हुआ (खनिज पदार्थ)। २. अच्छी जाति या नस्ल का। स्त्री० [सं० आकर] १. खान खोदकर उसमें से चीजें निकालने का काम या व्यवसाय। २. सुरंग बनाने का काम। स्त्री०-आकुलता। पुं० दे० ‘आकरिक’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्ण  : अव्य० [सं० अव्य० स०] काम तक। वि० कानों में पहुँचा या सुना हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्णित  : भू० कृ० [सं० आ√कर्ण् (सुनना)+क्त] सुना हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्ष  : पुं० [सं० आ√कृष् (खींचना)+घञ्] १. अपनी ओर खींचना। २. पासे से खेला जानेवाला जुआ। ३. ऐसे खेल की बिसात। ४. इंद्रिय। ५. धनुष चलाने का अभ्यास। ६. कसौटी। ७. चुंबक पत्थर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षक  : वि० [सं० आ√कृष्+ण्वुल्-अक] १. आकर्षण करने या खींचनेवाला। २. प्रभावित या मोहित करके अपनी ओर ध्यान खींचनेवाला। (एट्रैक्टिव)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षण  : पुं० [सं० आ+कृष्+ल्युट्-अन] [वि० आकर्षक, भू० कृ० आकर्षित, आकृष्ट] १. अपने बल या शक्ति की सहायता से किसी को अपनी ओर ले आना। खीचंना। २. अपने गुण, विशेषता आदि के बल पर किसी का ध्यान अपनी ओर ले आना। ३. वह व्यापार जो किसी का ध्यान या मन अपनी ओर खींचने या अपने पास बुलाने के लिए किया जाता है। (एट्रैक्शन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षण-शक्ति  : स्त्री० [सं० ष० त०] १. ऐसी शक्ति जो किसी को अपनी ओर खींचे। २. वह गुण, विशेषता या शक्ति जो किसी को प्रभावित तथा मोहित करे या अपनी ओर अनुरक्त या प्रवृत्त करे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षणी  : स्त्री० [सं० आकर्षण+ङीष्] १. एक प्राकर का पुराना सिक्का। २. अँकुसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षन  : पुं०=आकर्षण।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षना  : स० [सं० आकर्षण] १. अपनी ओर खींचना। २. प्रभावित या मोहित करके अपनी ध्यान खींचना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षित  : भू० कृ० [सं० आकृष्ट] १. खिंचा हुआ। २. जो किसी से प्रभावित होकर उसकी ओर अनुरक्त या प्रवृत्त हुआ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकर्षी (र्षिन्)  : वि० [सं० आ√कृष्+णिनि]-आकर्षक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकलन  : पुं० [सं० आ+कल् (गिनना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आकलित, वि० आकल्य] १. किसी को साथ बाँधना, मिलाना या लगाना। २. इच्छा। कामना। ३. संग्रह। ४. हिसाब लगाना। गणना करना। ५. आज-कल गणना का वह प्रकार जिसमें संभावनाओं का ध्यान रखते हुए भावी कार्य के संबंध में अनुमान या कल्पना की सहायता से कोई विचार या व्यय स्थिर किया जाता है। अंदाज। (एस्टिमेशन) जैसे—मकान बनाने से पहले उसके व्यय का आकलन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकलनीय  : वि० [सं० आ√कृल्+अनीयर] १. जिसका आकलन होने को हो। २. जिसका आकलन करना उचित हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकलित  : भू० कृ० [सं० आ√कृल्+क्त] जिसका आकलन हुआ हो या किया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकली  : स्त्री० [सं० आकुल+ई (प्रत्यय)] व्याकुलता। बेचैनी। स्त्री० [?] गौरैया पक्षी।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकल्प  : पुं० [सं० आ√कृप् (सामर्थ्य)+णिच्+घञ्] १. वेश-भूषा। २. सज्जित होने या सज्जित करने की क्रिया या भाव। ३. अस्वस्थता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकल्पक  : पुं० [सं० आ√कृप्+णिच्+ण्वुल्-अक] १. अँधकार। २. मोह। ३. उत्कंठा। ४. हर्ष। ५. मूर्च्छा। ६. गाँठ। ७. दुःखमय स्मृति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकल्प  : पुं० [सं० आकल+यत्] बीमारी। रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकल्लक  : पुं० [सं० ] अकरकरा नामक पौधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकष  : पुं० [सं० आ√कष् (कसना)+अच्] कसौटी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकमात्  : अव्य=आकस्मात्।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकस्मिक  : वि० [सं० अकस्मात्+ष्ठक्-इक] अकस्मात् अर्थात् अप्रत्याशित रूप से या एकाएक घटित होनेवाला। अचानक सामने आने या होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकस्मिक छुट्टी  : स्त्री [सं० +हिं० ] वह छुट्टी जो यों ही या अचानक कोई काम पड़ने पर ली जाए। (कैजुअल लीव)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकम्मिकता  : स्त्री० [सं० आकस्मिक+तल्-टाप्] आकस्मिक रूप से या अचानक घटित होने का भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकस्मिकतावाद  : पुं० [सं० ष० त०] दर्शन शास्त्र का एक सिद्धांत जो यह प्रतिपादित करता है कि संसार में जो कुछ होता है वह सब अप्रत्यशित रूप से, अचानक तथा आप से होता है। (ऐक्सीडेन्टलिज्म)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकस्मिक-निधि  : स्त्री० [कर्म० स०] किसी संस्था या राज्य की वह सुरक्षित निधि जो किसी भावी आकस्मिक विपत्ति या संकट की स्थिति के निवारण के लिए बचाकर रखी गयी हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकस्मिकी  : स्त्री० [सं० आकस्मिक+ङीष्] अचानक घटित होनेवाली घटना या बात (कैजुएलिटी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकांक्षक  : वि० [सं० आ√कृङ्क्ष् (चाहना)+ण्वुल्-अक] आकांक्षा करने या चाहनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकांक्षित  : भू० कृ० [सं० आ√कृङ्क्ष्+क्त] (बात या विषय) जिसके लिए आकांक्षा की गई हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकांक्षी (क्षिन्)  : वि० [सं० आ√काङ्क्ष्+णिनि] [स्त्री० आकांक्षिणी] जिसे किसी बात की आकांक्षा हो। आकांक्षा करने या रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आका  : पुं० [सं० आकाय] १. कौड़ा। अलाव। २. भट्ठी। ३. आँवाँ। पंजावा। पुं० [तु० आका] मालिक। स्वामी।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाय  : पुं० [सं० आ√चि (चयन करना)+घञ्, कुत्व] १. चिता की आग। २. चिता। ३. निवास-स्थान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकार  : पुं० [सं० आ√कृ (करना)+घञ्] १. पुकारना। बुलाना। २. बाहरी रेखाओं का वह विन्सास जिससे किसी पदार्थ विषय या व्यक्ति के रूप का ज्ञान या परिचय होता है। आकृति। शकल। मुहावरा—आकार दिखाना=चित्रकला में, रेखन के द्वारा पदार्थों या मनुष्यों का आकार मात्र दिखानेवाली रेखाएँ अंकित करना। ३. आकृति या चेहरे का ऐसा रंग-ढंग जिसमें मन का कोई भाव या विचार प्रकट होता हो। जैसे—आकार-गुप्ति-मन के भाव छिपाना। ४. आजकल मुख्य रूप से किसी वस्तु या व्यक्ति की लंबाई-चौड़ाई, ऊँचाई आदि जो उसके छोटे-बड़े, मँझोले आदि होने की सूचक होती हैं। (साइज) जैसे—इस बार यह पुस्तक बड़े आकार मे छपेगी। ५. [आ+कार] आ की मात्रा या वर्ण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारक  : पुं० [सं० आ√कृ+णिचि+ण्वुल्-अक] न्यायालय का वह पत्र जिसमें किसी को सात्री आदि देने के लिए न्यायालय में उपस्थित होने के लिए कहा जाता है। (सम्मन साइटेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारण  : पुं० [सं० आ√कृ+णिच्+ल्युट्-अन] किसी को अपने पास बुलाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकार-पत्र  : पुं० [सं० ष० त०] दे० ‘रूपक’। (फार्म)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकार-रेखन  : पुं० [सं० आकार-लेखन] चित्रों आदि में पदार्थों या मनुष्यों का आकार मात्र दिखाने के लिए रेखाएँ बनाना। (स्केचिंग)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकार-रेखा  : स्त्री० [ष० त०] दे० ‘रूप-रेखा’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारवान् (वत्)  : वि० [सं० आकार+मतुप्, वत्व] १. जिसका कोई आकार या रूप हो। साकार। २. अच्छे या बड़े आकार या डीलडौल वाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारांत  : वि० [सं० आकार-अन्त, ब० स०] (शब्द) जिसके अंत में आ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकरिका  : स्त्री० [सं० आ√कृ+ण्वुल्-अक-टाप्, इत्व] दे० ‘रूप विधान’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारित  : भू० कृ० [सं० आ√कृ+णिच्+क्त] जिसे कोई आकार या रूप दिया गया हो। किसी आकार में लाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारी  : वि० [सं० आकार+हिं० ई(प्रत्यय)] आकारवाला। आकति या शक्लवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकारीठ  : पुं० [सं० आकारण-बुलाना] लड़ाई। युद्ध। (डिं०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाल  : पुं० [सं० प्रा०स०] १. उपयुक्त या ठीक समय। २. [आकाल+अण्] अनुपयुक्त या बुरा समय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकालिक  : वि० [सं० अकाल+ठञ्-इक] अपने ठीक समय से पहले या पीछे होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकालिकी  : स्त्री० [सं० आकालिक+ङीष्] बिजली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश  : पुं० [सं० आ√काश् (चमकना)+घञ्] १. शब्द, गुण से युक्त वह शून्य अनंत अवकाश जिसमें विश्व के सभी पदार्थ (सूर्य, चंद्र, ग्रह, उपग्रह आदि) स्थित है और जो सब पदार्थों में व्याप्त है। २. खुले स्थान में ऊपर की ओर दिखाई देनेवाला नीला अपार स्थान। अंतरिक्ष। आसमान। मुहावरा—आकाश खुलना=आंकाश से बादलों का हटना। आकाछूना या चूमना— (क) बहुत ऊँचा या लंबा होना। (ख) बहुत लंबीश चौड़ी बाते करना। आकाश पाताल एक करना—पूरी शक्ति से कोई काम करना। कोई बात उठा न रखना। आकाश बाँधना—असंभव तथा अनोहनी बातें कहना। आकाश से बातें करना—बहुत ऊंचा होना। जैसे—उनका महल आकाश से बातें करता था। पद—आकाश कुसुम=(क) ऐसी बात या वस्तु जिसका कुछ भी अस्तित्व न हो। (ख) ऐसी वस्तु जिसकी प्राप्ति असंभव हो। आकाश पाताल का अंतर—बहुत बड़ा अंतर। आकाश पुष्प=आकाश कुसुम। ३. एक लचीला पारदर्शी तत्त्व जो उक्त खाली स्थान में व्याप्त माना जाता है और जिसमें से होकर सूर्य की किरणों, विद्युत तरंगों आदि का संचार होता है। व्योम। (ईथर) ४. ऐसा शून्य स्थान जिसमें वायु के अतिरिक्त और कुछ न हो। ५. छिद्र। ६. ब्रह्म। ७. अभ्रक। ८. रहस्य संप्रदाय में (क) अंतःकरण (ख) आत्मा (ग) परमात्मा तक पहुँचने का मार्ग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-कक्षा  : स्त्री० [ष० त०] आकाश का उतना क्षेत्र, भाग या स्थान जहाँ तक सूर्य के प्रकाश की व्याप्ति होती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-गंगा  : स्त्री० [मध्य० स०] १. ब्रह्मांड में फैले हुए बहुत से छायापथों में से वह जो हमें रात के समय आकाश में उत्तर-दक्षिण फैला हुआ चमकीली चौड़ी पट्टी या सड़क के रूप में दिखाई देता है। हाथी की डहर। (मिल्कीवे) २. पुराणों के अनुसार स्वर्ग की नदी। मंदाकिनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाशचारी (रिन्)  : वि० [सं० आकाश√चर् (गति)+णिनि] [स्त्री० आकाशचारिणी] आकाश में गमन करने या विचरनेवाला। आकाशगामी। पुं० १. सूर्य, चंद्र, ग्रह नक्षत्र आदि जो आकाश में चक्कर लगाते रहते है। २. वायु। ३. पक्षी। ४. देवता। ५. भूत-प्रेत, राक्षस आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-चोटी  : स्त्री० [सं० आकाश+हिं० चोटी]=शीर्षबिन्दु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकश-जल  : पुं० [मध्य० स०] १. आकाश में बरसनेवाला जल। वर्षा का पानी। २. ओस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-दीआ  : पुं०=आकाश दीप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-दीप  : पुं० [मध्य० स०] १. बहुत अधिक ऊँचाई पर जलनेवाला दीआ। २. कार्तिक मास में विष्णु और देवताओं के उद्देश्य से जलाया जानेवाला वह दीआ, जो ऊँचे बाँस के ऊपरी सिरे पर बँधा रहता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-धुरी  : स्त्री० [सं० आकाश-धुरी] आकाश ध्रुव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-ध्रुव  : पुं० [मध्य० स०] ज्योतिष में खगोल का ध्रुव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-नदी  : स्त्री० [मध्य० स०]=आकाश गंगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-नीम  : स्त्री० [सं० आकाश+हिं० नीम] नीम के पेड़ पर होने वाली एक प्राकर का वनस्पति। नीम का बाँदा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-फल  : पुं० [ष० त०] संतान। संतति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-बेल  : स्त्री० [सं० आकाश+हिं० बेल] दे० ‘अमर बेल’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-भाषित  : पुं० [स० त०] नाटक के अभिनय में, किसी पात्र का आकाश की ओर देखकर इस प्रकार कोई बात कहना कि मानों कि वह ऊपर के किसी प्रश्नकर्ता के प्रश्न का उत्तर दे रहा हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-मंडल  : पुं० [सं० ष० त०] हठ-योग में सहस्रार चक्र का एक नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-मुखी  : वि० [सं० आकाश-मुख] जिसका मुँख आकाश की ओर हो। पुं० एक प्रकार के साधु जो आकाश की ओर मुँह करके तपस्या करते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-मूली  : स्त्री० [सं० आकाश-मूल, ब० स० ङीष्]=जलकुंभी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-यान  : पुं० [मध्य० स०] वायुयान। (दे०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-लोचन  : पुं० [स० त०]=वेधशाला। (दे०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-वाणी  : स्त्री० [मध्य०स०] १. वह कथन या बात जो किसी देवता या ईश्वर की ओर से कही हुई तथा आकाश से सुनाई पड़नेवाली मानी जाती है। २. रेडियों-यंत्र की सहायता से विद्युत-तरंगों के द्वारा दूर-दूर तक प्रसारित की जानेवाली ध्वनियाँ (संगीत, समाचार वार्ताएँ आदि) ३. वह भवन या स्थान जहाँ से विद्युत तरंगों द्वारा संगीत, समाचार, वार्ताएँ आदि प्रसारित की जाती है। प्रसारण ग्रह। (ब्राडकास्टिंग हाउस) जैसे—आकाश-वाणी पटना या लखनऊ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-वृत्ति  : स्त्री० [मध्य० स०] ऐसी वृत्ति या जीविका जिसका कुछ भी निश्चय या ठिकाना न हो। अनिश्चित वृत्ति। जैसे—दान, भिक्षा आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-वृत्तिक  : पुं० [ब० स० कप्] वह जो केवल आकाश वृत्ति के सहारे जीवन बिताता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाश-स्फटिक  : पुं० [मध्य० स०] १. एक प्रकार का पत्थर जो आकाश में निर्मित माना जाता है। २. ओला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाशी  : स्त्री० [सं० आकाश+ई (प्रत्यय)] १. धूप आदि से बचने के लिए ताना जानेवाला चँदोआ। २. ताड़ी। वि०=आकाशीय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकाशीय  : वि० [सं० आकाश+छ-ईय] १. आकाश में होनेवाला। आकाशी संबंधी। २. जो आकाश में स्थित हो। ३. दैवी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकिलं  : वि० [सं० आकिल]=अक्लमंद (बुद्धिमान्)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकिलखानी  : पुं० [सं० आकिलखाँ (नाम)] कालापन लिए हुए एक प्रकार का लालरंग। कत्थई रंग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकीर्ण  : वि० [सं० आ√कृ (छितराना)+क्त] १. छितराया या बिखेरा हुआ। २. भरा हुआ। व्याप्त। पुं० भीड़।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुंचन  : पुं० [सं० आ√कुञ्च्(सिकुड़ना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आकुंचित] १. विस्तार में कमी होना। सिकुड़ना। सिमटना। (कन्ट्रैक्शन) २. सिकुड़ने से विस्तार में होनेवाली कमी। (श्रिंकेज) ३. वैशेषिक मत के अनुसार पाँच प्रकार के कर्मों में से एक कर्म।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुंचित  : भू० कृ० [सं० आ√कुञ्च्+क्त] १. सिकुड़ा हुआ। २. जिसमें सिकुड़न पड़ी हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुंठन  : पुं० [सं० आ√कुण्ठ् (कुंद होना)+ल्युट्-अन] १. कुंद होने की अवस्था या भाव। २. लज्जा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुंठित  : भू० कृ० [सं० आ√कुण्ठ+क्त] १. जो तीखा या धारदार न हो। २. जो तेज न हो। मंद। जैसे—आकुंठित बुद्धि। ३. लज्जित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुल  : वि० [सं० आ√कुल् (बाँधना, इकट्ठाहोना)+क] [भाव० आकुलता] १. जो किसी काम या बात के लिए बहुत ही उत्सुक, चितिंत या व्यग्र हो। उद्धिग्न। २. विह्वल। कतार। ३. अव्यवस्थित। ४. भरा हुआ। व्याप्त। ५. अस्पष्ट और संदिग्ध। पुं० १. खच्चर। २. बस्ती।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुलता  : स्त्री० [सं० आकुल+तल्-टाप्] [भू० कृ० आकुलित] १. आकुल होने की अवस्था या भाव। घबराहट। २. व्याप्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुलि  : पुं० [सं० आ√कुल्+इनि] असुरों का एक प्रसिद्ध पुरोहित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकुलित  : भू०कृ० [सं० आ√कुल+क्त] १. जो आकुल हुआ हो या किया गया हो। २. घबराया हुआ। ३. बेचैन। विकल। ४. व्याप्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकूजन  : पुं० [सं० आ√कूज् (शब्द)+ल्युट्-अन] १. पक्षियों का कूजना। २. गुनगुनाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकूत  : पुं० [सं० आ√कू (शब्द)+क्त] १. इच्छा। चाह। २. उद्देश्य। ३. प्रायोजन। ४. उत्तेजना। बढ़ावा। पुं० [सं० आकूति] उत्साह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकूति  : पुं० [सं० आ√कू+क्तिन्] १. इच्छा। २. उद्देश्य। ३. प्रयोजन। ४. उत्साह। ५. सदाचार। ६. स्वायंभुव मनु की एक कन्या जो रुचि नामक प्रजापति को ब्याही गयी थी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकूवारी  : पुं०=अकूपार समुद्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकृत  : भू० कृ० [सं० आ√कू (करना)+क्तिन्] १. जिसे कोई (आकार या रूप) दी गई हो या मिली हो। बना हुआ। २. क्रम से लगा या लगाया हुआ। व्यवस्थित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकृति  : स्त्री० [सं० आ√कृ+क्तिन्] १. किसी वस्तु व्यक्ति या ढाँचे का निश्चित, स्पष्ट तथा स्थिर रूप जिससे उसकी पहचान होती है। २. उक्त के अनुसार किसी वस्तु या व्यक्ति का अंकित या चित्रित किया हुआ रूप। ३. ज्यामिति में केवल रेखाओं की सहायता से क्षेत्रों आदि के बनाये जानेवाले रूप। (फिगर उक्त सभी अर्थों मे) ४. भाव-भंगी प्रकट करनेवाली मुद्रा। ५. सवैया नामक छंद का एक प्रकार जिसमें मद्रक मंदारमाला मदिरा हंसी आदि कई भेद है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकृति-विज्ञान  : पुं० [ष० त०] मनुष्य की आकृति (उसके अंगों की गठन तथा मुद्रा) के आधार पर उसकी प्रवृत्ति, स्वभाव, गुण-दोष आदि बतलाने की विद्या। (फिसियोग्नाँमी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकृष्ट  : भू० कृ० [सं० आ√कृष्+क्तिन्] १. खिंचा या खींचा हुआ। २. जो किसी के गुण, रूप आदि पर मुग्ध या मोहित हुआ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकृष्टि  : स्त्री० [सं० आ√कृष्+क्तिन्] १. आकृष्ट करने या अपनी ओर खींचने की क्रिया या भाव। ३. मुग्ध या मोहित होने का भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आकोप  : पुं० [प्रा०स०] थोड़ा या हलका कोप या क्रोध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रंद  : पुं० [सं० आ√कंद्र(रोना)+घञ्] १. जोर से पुकारना या बुलाना। २. जोर का शब्द। घोष। ३. शोर। हल्ला। ४. विलाप करना। रोना। ५. इष्ट-मित्र और भाई-बन्धु। ६. घोर युद्ध। ७. ज्योतिष में, एक ग्रह का दूसरे ग्रह प्रबल होना। ८. प्राचीन भारतीय राजनीति में गुप्त रूप से प्रधान शत्रु की सहायता करनेवाला देश या राज्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रंदन  : पुं० [सं० आ√कंद+ल्युट्-अन] १. जोर से पुकारने बुलाने या चिल्लाने की क्रिया या भाव। २. रुदन। रोना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रंदी (दिन्)  : वि० [सं० आ√कन्द+णिनि] १. रो-रो कर प्रार्थना करनेवाला। २. चीखने-चिल्लानेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रम  : पुं० [सं० आ√क्रम (चरण क्षेप)+घञ्] १. किसी की ओर जाना या पहुंचना। २. ऊपर की ओर जाना। ३. धावा करना। ४. अधिक भार लादना। ५. पराक्रम। वीरता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रमण  : पुं० [सं० आ√क्रम+ल्युट्-अन] [वि० आक्रमणीय, आक्रांत] १. किसी की ओर जाने अथवा किसी की सीमा का उल्लंघन करने की क्रिया या भाव। २. विपक्षी या शत्रु पर शस्त्रों से किया जानेवाला प्रहार। ३. एक राज्य का दूसरे राज्य को दबाने या हड़पने के लिए उसकी सीमा का बलपूर्वक उल्लंघन। ४. किसी के आचरण कार्य विचार या सिद्धांत पर किया जानेवाला निंदात्मक आक्षेप। (अटैक, अंतिम तीनो अर्थों के लिए)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रमित  : भू० कृ० [सं० आक्रांत] [स्त्री० आक्रमिता] जिस पर आक्रमण किया गया हो या हुआ हो। आक्रांत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रमिता  : स्त्री० [सं० आक्रांत] साहित्य में केशव के अनुसार प्रौढ़ा नायिका जो मन, वचन और कर्म से अपने पति या प्रेमी को अपने वश में करने का प्रयत्न करती है। (देव ने इसी को आक्रांता कहा है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रय  : पुं० [सं० आ√क्री (खरीदना)+अच्] क्रय करना। खरीदना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रस्स  : पुं०=आक्रोश।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रांत  : भू० कृ० [सं० आ√क्रम+क्त] १. जिसपर आक्रमण हुआ हो। २. जो किसी की अधीनता में हो। वशीभूत। ३. व्याप्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रांता  : स्त्री० दे० आक्रमिता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रांति  : स्त्री० [सं० आ√क्रम+क्तिन्] १. आक्रांत करने या होने की अवस्था या भाव। २. किसी को दबाकर उसे अपने अधीन करना। ३. ऊपर चढ़ना। आरोहण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रामक  : वि० [सं० आ√क्रम+ण्वुल्-अक] आक्रमण करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रीड़  : पुं० [सं० आ√क्रीड़ (खेल करना)+घञ्] खेलने का मैदान। क्रीड़ा-स्थल। २. विहार-स्थल। ३. बगीचा। वि० क्रीड़ा करनेवाला। खेलाड़ी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रीडन  : पुं० [सं० आ√क्रीड्+ल्युट्-अन] क्रीड़ा करना। खेलना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रीडी (डिन्)  : वि० [सं० आ√क्रीड़+घिनुण्] [स्त्री० आक्रीडिनी] १. क्रीड़ा करनेवाला। खेलाड़ी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रुष्ट  : भू० कृ० [सं० आ√क्रुश+(कोसना)+क्त] =आक्रोशित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रोश  : पुं० [सं० आ√क्रुश्+घञ्] १. क्रोधपूर्वक कठोर कर्कश स्वर में की जानेवाली भर्त्सना। २. गालियाँ देते हुए कोसना, भला-बुरा कहना या शाप देना। ३. चीख-पुकार। चिल्लाहट। ४. कसम। शपथ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रोशक  : पुं० [सं० आ√क्रुश्+ण्वुल्-अक] आक्रोश करने या बिगड़कर भला-बुरा कहनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रोशन  : पुं० [सं० आ√क्रुश्+ल्युट्-अन] आक्रोश करने (कोसने या शाप देने) की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रोशित  : भू० कृ० [सं० आक्रोश+इतच्] जिसपर आक्रोश किया गया हो। जिसे गालियाँ या शाप मिला हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्रोष्टा  : (ष्टु) वि० [सं० आ√क्रुश्+तृच्]-आक्रोशक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्लांत  : वि० [सं० आ√क्लम (ग्लानि)+क्त] १. भीगा हुआ। तर। २. लथ-पथ। सना हुआ। जैसे—रुधिराक्लांत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्लिन्न  : वि० [सं० आ√क्विद्+घञ्] तर या नम होना। भीगना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्ष  : वि० [सं० अक्ष+अण्] अक्ष संबंधी। (सभी अर्थों में)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षपाद  : वि० [सं० अक्षपाद+अण्] अक्षपाद संबंधी अक्षरपाद का। पुं० १. न्याय शास्त्र। २. न्याय-शास्त्र का ज्ञाता। नैयायिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षिक  : वि० [सं० अक्षि+ठक्-इक] १. अक्षृ-संबंधी। आक्ष। २. पासा या शतरंज खेलनेवाला। पुं० १. जुए में लगाया जानेवाला दाँव या धन। २. आल का वृक्ष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षिप्त  : भू० कृ० [सं० आ√क्षिप् (फेंकना)+क्त] १. जिसका आक्षेपण हुआ हो। फेका या हटाया हुआ। २. जिसपर आक्षेप किया गया हो। ३. घबराया हुआ। व्याकुल। ४. लगा हुआ। युक्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षीरी (रिन्)  : वि [सं० आ√क्षिप्, प्रा० स०+इनि] (पेड़ या पौधा) जिसके डंठल तने या पत्ते में से दूध जैसा गाढ़ा तरल पदार्थ निकलता हो। (लैटिसिफेरस)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षेप  : पुं० [सं० आ√क्षिप्+घञ्] [कर्ता आक्षेपक] १. दूर हटाना या फेकना। २. किसी के ऊपर कुछ गिरना या गिराना। ३. किसी के आचरण, कथन या कार्य के संबंध में कही जानेवाली कोई ऐसी अप्रिय कटु या कठोर बात जिससे वह कुछ दोषी सिद्ध हो या मन में लज्जित हो। व्यंग्यपूर्ण दोषारोपण। ४. साहित्य में, एक अर्थालंकार जिसमें पहले कोई बात कहकर फिर अपवाद रूप में उसका प्रतिषेध किया जाता है। (पैरालैप्सिस) जैसे—(क) जदपि कवित रस एकौ नाँही। राम-प्रताप प्रकट एहिं मांही। (ख) उपकार तो दुर्जनों का भी करना चाहिए, पर होता है वह ऊपर में बीज बोने के ही समान। ५. एक बात रोग जिसमें हाथ पैर रह-रहकर ऐंठतें और काँपते हैं। (कन्वल्शन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षेपक  : वि० [सं० आ√क्षिप्+ण्वुल्-अक] १. गिराने फेकने या दूर हटानेवाला। २. आक्षेप या व्यंग्यपूर्ण आपत्ति करनेवाला। पुं० आक्षेप नामक वात रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षेपण  : पुं० [सं० आ√क्षिप्+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आक्षिप्त] १. गिराना, दूर हटाना या फेकना। २. व्यग्यपूर्ण आपत्ति या आक्षेप करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षेपी (पिन्)  : वि० [सं० आ√क्षिप्+णिनि]=आक्षेपक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आक्षोट  : पुं० [सं० आ√अक्ष्(व्याप्ति)+ओट] अखरोट (पेड़ और फल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखंडल  : पुं० [सं० आ√खण्ड (भेदन करना)+डलच्] इंद्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखंडलीय  : वि० [सं० आखंडल+छ-ईय] इंद्र-संबंधी। इंद्र का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखत  : पुं० [सं० अक्षत, प्रा० अक्खत] १. मांगलिक अवसरों पर पूजा आदि के काम में आनेवला कच्चा चावल जिसमें प्रायः दही या गीली रोली मिली रहती है। २. शुभ अवसरों पर ब्राह्मणों को दिया जानेवाला निमंत्रण जिसमें प्रायः उक्त चावल से उन्हें तिलक लगाया जाता है। ३. उक्त अवसरों पर नाइयों, भाटों बाजेवालों आदि को दिया जानेवाला निमंत्रण और बिदाई।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखता  : वि० [फा० आख्तः] (पशु) जिसका अंडकोश निकाल दिया गया हो। बधिया किया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख  : थू-पद— [अनु०] १. खखार या खाँसकर मुँह से कफ थूखने का शब्द। २. किसी को धिक्कारते हुए उसे परम निंदनीय सिद्ध करने के लिए कहा जाने वाला पद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखन  : अव्य० [सं० आ+क्षण] प्रतिक्षण। हर समय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखना  : स० [सं० आख्यान, पा० अक्खान, पं० आखना] १. किसी से कोई बात कहना। उदाहरण—तोहिं सेवा बिछुरन नहि आखौं। पीजर हिए घालि तोहिं रखौ। जायसी। अ० [सं० आकांक्षा] इच्छा करना। चाहना। स० [हिं० आँख] देखना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखनिक  : वि० [सं० आ√खन्(खोदना)+इकन्] खोदनेवाला। पुं० १. वह व्यक्ति जो खोदता हो। जैसे—खान में काम करनेवाला व्यक्ति। २. चूहा, सूअर आदि पशु जो जमीन खोदते रहतें हैं। ३. खोदने के औजार या करण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखर  : पुं० [सं० अक्षर, प्रा० अक्खर] १. अक्षर। वर्ण। उदाहरण—एको आखर पढ़यौ नाहिं।—कबीर। २. शब्द। ३. वचन। मुहावरा—आखर देना=वचन देना। वादा करना। पुं० [सं० आखनिक] कुदाली। पुं० [१] अस्तबल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखा  : वि० [सं० अक्षय, प्रा० अक्खय] १. समूचा। सारा। २. कुल। समस्त। पुं० दे० ‘खुरजी’।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखात  : पुं० [सं० आ√खन्+क्त] १. जमीन आदि खोदना। खनन। २. जमीन खोदने का कोई औजार या करण। जैसे—कुदाल या खंता। ३. समुद्र का खाड़ी। (गल्फ)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखातीज  : स्त्री० [सं० अक्षय तृतीया, प्रा० अख्खयतइज्ज० गुं० अखत्रीज, का० अखित्रद] वैशाख सुदी तीज। अक्षय तृतीया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखा नवमी  : स्त्री० =अक्षय नवमी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखिर  : वि० [फा० आखिर] १. बाद में या पीछे होनेवाला। २. अंत में होनेवाला। अंतिम। पुं० १. अंत। २. नतीजा। परिणाम। फल। अव्य० अंत में। अंततोगत्वा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखिरकार  : अ०भ० [फा०आखिरी] सब के अंत में होनेवाला। अंतिम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखिरी  : पुं० [फा० आखिरी] सब के अंत में होनेवाला। अंतिम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखीर  : पुं० [फा० आखिर] अंत। समाप्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखु  : पुं० [सं० आ√खन्+डु] १. चूहा। २. जंगली चूहा। ३. चोर। ४. सूअर। ५. देवदार वृक्ष। वि० १. खोदनेवाला। २. कृपण। कंजूस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखु-कर्णी  : स्त्री० [ब० स०ङीष्] मूसाकरणी नामक लता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखेट  : पुं० [सं० आ√खिट (भय)+घञ्] [कर्त्ता आखेटक] पशुपक्षियों को पकड़ने अथवा मारने के उद्देश्य से उनका पीछा करना। मृगया। शिकार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखेटक  : पुं० [सं० आखेट+कन्] १. आखेट। शिकार। २. [आ√खिट्+ण्वुल्-अक] आखेट या शिकार करनेवाला। अहेरी। शिकारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखेटिक  : वि० [सं० आखेट+ठक्-इक] १. (पशु या व्यक्ति) जो शिकार करने में दक्ष हो। २. भयंकर। भीषण। पुं० १. निपुण या सिद्धहस्त शिकारी। २. शिकारी कुत्ता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखेटी (टिन्)  : वि० [सं० आखेट+इनि] [स्त्री० आखेटिनी]-आखेटक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखोट  : पुं० [सं० अक्षोट] अखरोट का वृक्ष और उसका फल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आखोर  : पुं० [तु० आखुर] १. वह चारा जो जानवर के खा चूकने के बाद बच रहता है। २. निकम्मी, रद्दी या सड़ी-गली चीजें। कूड़ा-करकट। वि० १. गला-सड़ा। २. निकम्मा और रद्दी। ३. गंदा। पद—आखोर की भरती=(क) निकम्मी या रद्दी चीजों का ढेर। (ख) व्यर्थ के लोगों का जमावड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्ता  : वि० [फा० आख्तः] (पशु) जिसके अंडकोश काट या निकाल दिये गये हों। बधिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्या  : स्त्री० [सं० आ√ख्या (कहना)+अङ्-टाप्] [वि० आख्यात] १. नाम। संज्ञा। २. कीर्ति। यश। ३. किसी को सूचित करने के लिए किसी कार्य या घटना का विवरण लिखना या लिखाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यात  : वि० [सं० आ√ख्या(कथन)+क्त] १. कहा या जतलाया हुआ। २. बहुत अधिक प्रसिद्ध। पुं० व्याकरण में क्रिया पद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यातव्य  : वि० [सं० आ√ख्या+तव्यत्] जो कहे जाने, वर्णन किए जाने अथवा सूचित किये जाने के योग्य हो अथवा किया जाने को हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्याता (तृ)  : वि० [सं० आ√ख्या+तृच्] १. कहनेवाला। २. सूचना देने या विवरण बतालनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्याति  : स्त्री० [सं० आ√ख्या+क्तिन्] १. किसी से कुछ कहने अथवा उसे सूचित करने की क्रिया या भाव। २. ख्याति या प्रसिद्धि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यातिक  : पुं० [सं० आख्यात+ठक्-इक] वह ग्रंथ जिसमें क्रियाओं का विवेचन किया ख्याति गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यान  : पुं० [सं० आ√ख्या+ल्युट्-अन] १. कहने या सूचित करने की क्रिया या भाव। २. वह जो कुछ कहा जाए। वर्णन। वृत्तांत। ३. नाटक में किसी पात्र का पिछली या पुरानी घटनाओं से लोगों को अवगत कराना। ४. पिछली या पुरानी घटना का किया हुआ वर्णन या विखा हुआ विवरण। कथा। ५. उपन्यास का एक प्रकार जिसमें उपन्यासकार पात्रों से कुछ न कहलवाकर स्वयं सब बातें कहता चलता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यानक  : पुं० [सं० आख्यान+कन्] छोटा आख्यान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यानकी  : स्त्री० [सं० आख्यानक+नीष्] दंडक वृत्त का एक भेद जिसके विषम चरणों में त, त० ज० तथा दो गुरु और सम चरणों में ज,त०ज तथा दो गुरु होते हैं। यह इंद्रवज्रा और उपेद्रज्रा के योग से बनती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यान-पट  : पुं० [सं० ष० त०] चित्र कला में वह पट या लंबा खर्रा जिसपर किसी कथा आदि की भिन्न भिन्न घटनाएँ क्रम से अंकित होती है। (पेन्टेड स्कोल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यापक  : पुं० [सं० आ√ख्या +णिच्, पुक्+ण्वुल्-अन] [स्त्री० अध्यापिकी] १. वह जो कोई बात घोषित अथवा सूचित करे। २. संदेहशवाहक। दूत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यापन  : पुं० [सं० आ√ख्या (कहना)+णिच्,पुक्,ल्युट्-अन] १. कोई कथा, घटना या विवरण दूसरों से कहना। २. घोषित करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्यायिका  : स्त्री० [सं० आ√ख्या+ण्वुल्-अक+टाप्] १. शिक्षाप्रद कल्पित लघु कथा। २. एक प्रकार का लघु आख्यान जिसमें पात्र कुछ —कुछ या कहीं कही अपनी चरित्र अपने मुँह से भी कहते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आख्येय  : वि० [सं० आ√ख्या+यत्] जो कहे जाने अथवा सूचित किये जाने के य़ोग्य हो अतवा किया जाने के योग्य हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंतव्य  : वि० [सं० आ√गम् (जाना)+तव्यम्] १. जो आने को हो। २. जिसके आने की संभावना हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंता (तृ)  : वि० [सं० आ√गम् (जाना)+तृच्] आनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंतु  : वि० [सं० आ√गम्+तनु]=आगंतुक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंतुक  : वि० [सं० आगन्तु+कन्] १. जो कही से आया हो। आया हुआ। अचानक यों ही कही इधर-उधर से या भूल-भटककर आ जानेवाला। जिसके घूमने का कोई निश्चित उद्देश्य या निश्चित दिसा न हो। जैसे—आंगुतक पक्षी या पशु। ३. कहीं से अनावस्यक रूप से आकर बीच मे मिल जाने वाला। प्रक्षिप्त। ४. (रोग) जो शरीर के किसी भीतरी दोष के कारण नहीं बल्कि ऊपरी या बाहरी कारणों से उत्पन्न हुआ हो। जैसे—आगंतुक ज्वर या व्रण (देखें)। पुं० अतिथि। पाहुना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंतुक-ज्वर  : पुं० [कर्म० स०] १. वह ज्वर जो चोट, परिश्रम भूत-प्रेत आदि की बाधा के कारण आता हो। २. वह ज्वर जो शरीर में हुए किसी दूसरे रोग के फलस्वरूप आता हो। (सिम्पैथेटिक फीवर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगंतुक-व्रण  : पुं० [कर्म० स०] वह फोड़ा या व्रण जो केवल आघात या चोट लगने के कारण हुआ हो। शरीर के भीतरी विकार के कारण न हुआ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग  : स्त्री० [सं० अग्नि, प्रा० अग्गि, अग्गी, गु० मरा० आग, मै० सिं० आगि, का० ओगुन, पं० अग्ग, बँ० आगुन, सिंह, अग] १. ताप और तेज का वह पुंज जो किसी चीज (कपड़ा कोयला लकड़ी आदि) के जलने से समय अंगारे या लपट के रूप में दिखाई देता है और जिसमें से प्रायः कुछ धुआँ तथा प्रकाश निकलता रहता है। किसी चीज के जलते रहने की दशा। विशेष—हमारे यहाँ इसकी गिनती पाँच तत्त्वों या भूतों में हुई है, पर पाश्चात्य वैज्ञानिक इसे शक्ति मात्र मानते है। तत्त्व या भूत नहीं मानते, क्योंकि यह कोई द्रव्य या पदार्थ नहीं है। मुहावरा—आग कँजियाना=आग झवाना (दे)। आग गाड़ना-अंगारों या जलते हुए कोयलों को राख में दबाना, जिससे व अधिक समय तक जलते रहे। आग जलाना=ऐसी क्रिया करना जिससे आग उत्पन्न हो। आग जिलाना-बुझती हुई आग फिर से तेज करना या सुलगाना। आग जोड़ना=आग जलाना। आग झवाँना=दहकते हुए कोयलों का धीरे-धीरे ठंडा पड़ना या बुझने को होना। आग झाड़ना=चकमक या पत्तर की रगड़ से चिनगारियाँ उत्पन्न करना। आग दिखाना=(क) गरम करने सुखाने आदि के लिए कोई चीज आग के पास ले जाना। (ख) दे० आग देना। आग देना-किसी चीज को जलाने के लिए आग से उसका संयोग कराना। जैसे—आतिशबाजी, चिंता या तोप में आग देना। आग धोना=अंगारों या जलते हुए कोयलों पर चढ़ी हुई राख इस लिए हटाना कि वे फिर से दहकनें लगे। आग लगाना=(क) किसी चीज को जलाने के लिए उसपर या उसमें आग रखना। (ख) भारी उपद्रव खड़ा करना। आग लेने आना-बहुत ही थोड़ी देर के लिए आना या आते ही इतनी जल्दी लौट जाना मानों आग की चिनगारियाँ ही लेने आयें हों, और कोई काम न हो। (स्त्रियों का वाक्य व्यंग्य) आग सुलगाना-आग जलाना और हवा की सहायता से उसे तेज करना। अग्नि प्रज्वलित करना। पद—आग का आग=(क) सुनारों की अँगीठी। (ख) आतिशबाजी। २. इमारतों, जंगलों आदि का इस प्रकार जलना कि वे नष्ट हो जाए। जैसे—इस सप्ताह नगर में तीन जगह आग लगी। ३. किसी पदार्थ में रहनेवाली या कहीं से निकलने वाली किसी प्रकार की बहुत अधिक गरमी या ताप। मुहावरा—आग फूँकना=किसी पदार्थ का शरीर पर लगकर या उसके अंदर पहुँचकर बहुत अधिक गरमी या ताप उत्पन्न करना। जैसे—इस कंबल (या दवा की पुड़िया) ने तो शरीर में आग फूँक दी। आग बरसना-प्राकृतिक रूप से बहुतअधिक गरमी पड़ना। जैसे—जेठ में तो यहाँ आग बरसती है। ४. लाक्षणिक रूप में मनोविकारों विचारों आदि की अथवा स्वाभाव की ऐसी तीव्रता, उग्रता या विकटता जो घातक नाशक या हानिकारक परिणाम उत्पन्न करनेवाली हो। मुहावरा—आग खाना और अँगारे उगलना=पहले तो बहुत अधिक अनुचित कार्य करके दुर्भाव या द्वेष बढ़ाना और तब ऐसी बातें करना कि बिगाड़ और विरोध और भी बढ़े। आग फाँकना-अपने हाथ में दुर्भाव, दुर्विचार आदि भरते रहना। आग बबूला या आग भभूका होना=बहुत अधिक क्रोध के आवेश में होना। आग बोना-ऐसा अनुचित कार्य करना जिससे आगे चलकर बहुत अधिक कष्ट संताप या हानि हो। जैसे—तुमने भी उसकी चुगली खाकर अच्छी आग बोई है। आग में कूदना=जानबूझकर किसी आपत्ति या संकटपूर्ण स्थिति में पड़ना या सम्मिलित होना। (किसी के) आग में झोकना=विपत्ति या संकटपूर्ण स्थिति में डालना। जैसे—बिना सोचे-समझे संबंध करके उन्होंने लड़की को आग में झोक दिया। आग में मूतना=ऐंठ या शेखी के कारण ऐसा निंदनीय काम करना जिससे हर हालत में खराबी ही खराबी हो। (चीज या बात में) आग लगना-(क) बहुत बुरी तरह से नष्ट होना। जैसे—आजकल तो हमारे रोजगार में आग लग गई है। (ख) बहुत दुर्लभ या महँगा होना। जैसे—आजकल तो अनाज में आग लगी हुई है। आग लगाना=पारस्परिक व्यवहार के क्षेत्र में, ऐसी स्थिति उत्पन्न करना जिससे बहुत अधिक वैर-विरोध बढ़े और विनाश हो। (किसी चीज या बात में) आग लगाना=(क) बहुत बुरी तरह से नष्ट करना। जैसे—दो ही वर्षों में उन्होंने लाखों की सम्पत्ति में आग लगी दी। (ख) उपेक्षा या तिरस्कार दूर हटाना। (स्त्रियाँ) जैसे—आग लगाओं ऐसो मेंल-जोल (या धन-दौलत) को। पानी में आग लगाना=जहाँ किसी तरह से खराबी या बुराई न हो सकती हो, वहाँ भी बहुत बड़ी खराबी या बुराई खड़ी कर देना। आग लगाकर पानी के लिए दौड़ना=पहले तो कोई अनिष्ट स्थिति खड़ी करना तब उसके शमन या शांत का उपाय अथवा प्रयत्न करना। आग लगने पर कुँआ खोदना-जब कोई विकट स्थिति सामने आकर बहुत उग्र रूप धारण कर ले, तब उसके शमन या शांति का प्रयत्न करना। पद—आग का पुतला=बहुत ही उग्र और क्रोधी स्वभाव का आदमी। आग के मोल-बहुत अधिक मँहगा। जैसे—आजकल तो अनाज आग के मोल हो रहा है। ५. आवश्यकता, ईर्ष्या, क्रोध, प्रेम, विरह आदि के प्रबल आवेग के कारण होने वाला ऐसा मानसिक या शारीरिक कष्ट, जिसका शमन तत्काल अपेक्षित हो। मुहावरा—आग पर लोटना=उक्त कारणों में से किसी के फलस्वरूप बहुत अधिक मानसिक कष्ट या संताप भोगना या सहना। (मनकी) आग बुझाना=ऐसा काम करना जिससे मानसिक कष्ट या संताप दूर हो। जैसे—उसने भी खूब गालियाँ देकर मन की आग बुझा ली। आग भड़कना=(क) मन में दबा हुआ कष्ट, क्षोभ वेदना या वैमनस्य फिर से प्रबल होना। जैसे—इस छोटी सी घटना से फिर दोनों भाइयों में फिर से आग भड़की है। (ख) उक्त कारणों से कोई भारी उत्पात या उपद्रव खड़ा होना। जैसे—आजकल एशिया के कई देशों में परतंत्रता के विरूद्ध खूब आग भड़की है। (शरीर में) आग लगना=बहुत ही उत्तेजक, कष्टदायक या घातक मनोविकार उत्पन्न होना। जैसे—उसे देखते ही हमें तो आग लग जाती है। आग होना=दे आग बबूला होना। पद—पेट की आग=(क) क्षुधा। भूख। (ख) संतान के प्रति होनेवाली ममता या स्नेह। ६.आग्नेय अस्त्रों आदि के द्वारा विकट रूप से होनेवाला निरंतर प्रहार। मुहावरा—आग बरसना=युद्ध क्षेत्र में बहुत अधिक गोले गोलियाँ बरसना। जैसे—सन्ध्या होते ही युद्धक्षेत्र में आग बरसने लगी। वि० १. आग की तरह बहुत गरम। अति उष्ण। जैसे—तुम्हारी हथेली तो आग हो रही है। २. गरमी या ताप उत्पन्न करनेवाला। पुं० [सं० अग्र] १. ऊख की ऊपरी भाग जिसमें पत्तियाँ होती है। अगौरी। २. हल के अगले भाग के वे गड्ढे जिनमें रस्सी फसाकर जुएँ में बाँधते है। पुं०=आगा (अलगा भाग)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगड़ा  : पुं० [१] गेहूँ, ज्वार आदि की वह बाल जिसके दाने रोग आदि के कारण नष्ट हो गये हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगण  : पुं० [सं० आग्रहायण] अगहन। मार्गशीर्ष। (डि०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगणन  : पुं० [सं० आ√गण(गिनना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आगणित] १. (वस्तु या व्यक्ति) किसी अन्य स्थान से आया हुआ। २. प्राप्त। ३. घटित। पुं० १. अतिथि। मेहमान। २. दे० ‘आयात’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगत-पतिका  : स्त्री० [ब० स० कप्-टाप्] साहित्य में वह नायिका जिसका पति परदेश से लौट आया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगत-स्वागत  : पुं० [ष० त०] घर आये हुए अतिथि का किया जानेवाला आदर-सत्कार या आव भगत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगति  : स्त्री० [सं० आ√गम्(जाना)+क्तिन्] कहीं जाने या पहुँचने की क्रिया या भाव। अवाई। आगमन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगपीछा  : पुं०=आगा-पीछा।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगबाण  : पुं०=अग्नि बाण।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम  : पुं० [सं० आ√गम् (जाना)+घञ्] [वि० आगमिक] १. किसी वस्तु या व्यक्ति के कहीं से आने उपस्थित होने पहुँचने आदि की क्रिया या भाव। अवाई। आगमन। जैसे—अर्थागम। उदाहरण—संध्या कौ आगम भयो-सूर। २. किसी प्रकार का अविर्भाव, उपद्रव या उत्पत्ति। ३. मिलन। समागम। ४. स्त्री०-प्रसंग। संभोग। ५. आनेवाला समय। भविष्य। ६. भविष्य में होनेवाली घटना या उत्पन्न होनेवाली स्थिति। मुहावरा—आगम जताना=भविष्य में होनेवाली घटना की सूचना देकर उसके संबंध में सचेत करना। ७. भावी कार्य घटना आदि के संबंध में पहले से किया जानेवाला प्रबंध या व्यवस्था। उपक्रम। मुहावरा—आगम करना या बाँधना=पहले से किसी काम या बात का प्रबंध या व्यवस्था करना। ८. भविष्य में होनेवाली बातों का सचेत करनेवाला उल्लेख चर्चा या वर्णन। ९. धन आदि की होनेवाली आमदनी। आय। १. राज्य को प्राप्त होनेवाला कर या राजस्व। ११. भारतीय हिंदुओं के वेद शास्त्र आदि प्रमाणिक और मान्य धर्म-ग्रंथ। १२. किसी धर्म के वे सब प्रामाणिक और मान्य ग्रंथ जिसके अनुसार उस धर्म के अनुयायी अपना आचरण और व्यवहार करते हों। (स्किपचर्स) १३. धार्मिक आचरण व्यवहार में माने जानेवाले शब्द प्रमाण। १४. व्याकरण में, कोई ऐसा अक्षर या वर्ण जो शब्द को कोई विशिष्ट रूप बनाने के लिए ऊपर या बाहर से आया हो अथवा लाया जाए। (आँगमेण्ट) १५. तंत्र शास्त्र का वह अंग जिसमें सृष्टि प्रलय देवताओं के पूजन सिद्धि पुरश्चरण आदि का वर्णन होता है। १६. आधुनिक विधिक क्षेत्र में, वह अधिकार या अधिकार-पत्र जिसके आधार पर कोई व्यक्ति किसी वस्तु या संपत्ति का उत्तराधिकारी अथवा स्वामी होता है। (टाइटिल) वि० आगे चलकर आने या होनेवाला। भावी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमजानी  : वि० [सं० आगमज्ञानी] जो भविष्य में होनेवाली घटनाएँ पहले से जानता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमज्ञानी (निन्)  : वि० [सं० आगम-ज्ञान, ष० त०+इनि] जिसे आगम या भविष्य की सब बातों का ज्ञान हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमन  : पुं० [सं० आ√गम् (जाना)+ल्युट्-अन] १. कहीं से चलकर आने या पहुँचने की क्रिया या भाव। अवाई। आगति। २. किसी कार्य या भात के लिए नये सिरे से सामने आने या होने की क्रिया या भाव। (एडवेण्ड) ३. प्राप्ति। लाभ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमना  : अ० [सं० आगमन] आना या आकर पहुँचना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-पतिका  : स्त्री०=आगत-पतिका।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-वक्ता (क्तृ)  : वि० [ष० त०] भविष्य की बातें कहने या बतलाने वाला। पुं० ज्योतिषी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-वाणी  : स्त्री० [ष० त०] भविष्य वाणी। (दे०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-विद्या  : स्त्री० [ष० त०] वेद-विद्या।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-वृद्ध  : वि० [स० त०] जिसे वेद-शास्त्रों या धर्म-ग्रंथों का बहुत अधिक ज्ञान हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगम-सोची  : वि० [सं० आगम+हिं० सोचना] आगे या भविष्य में होनेवाली बातों का पहले से ही विचार करनेवाला। दूरदर्शी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमित  : भू० कृ० [सं० आ√गम् (ज्ञान)+णिच्+क्त] (ग्रन्थ या विषय) जिसका अच्छी तरह से अध्ययन किया गया हो। अधीत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगमी (मिन्)  : पुं० [सं० आगम+इनि] वह जो आगम या भविष्य की बातें जानता या बतलाता हो। जैसे—ज्योतिषी या भविष्यवक्ता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगर  : पुं० [सं० आकर-खान] [स्त्री०आगरी] १. खान। २. वह जिसमें गुण या विशेषता बहुत अधिक मात्रा में हो। भंडार। उदाहरण—एहन सुंदरि गुन क आगरि।—विद्यापति। ३. रहने की जगह। जैसे—घर झोपड़ी मकान आदि। ४. कोष। खजाना। ५.व ह गड्डा जिसमें खार पानी भरकर नमक जमाया जाता है। वि० [सं० आकर-श्रेष्ठ] १. उत्तम। श्रेष्ठ। २. कुशल। दक्ष। ३. चतुर। होशियार। अव्य०१. बहुत अधिक। २. बहुत बढ़कर या आगे। ३. आगे सामने। स्त्री० अगरी (अर्गल)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगरा  : वि० [हिं० आगे] [स्त्री० आगरी] १. किसी की तुलना में बहुत अधिक आगे बढ़ा हुआ। बढ़-चढ़ा। उदाहरण—सील सिंगार गुन सबनितें आगरी।—हितहरिवंश। २. बहुत। अधिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगरी  : पुं० [सं० आकर] १. खान में काम करनेवाला मजदूर। २. वह नमक बनाने का काम करता हो। नोनिया। लोनिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगल  : वि० [हिं० अगला] १. सबसे आगे जानेवाला। २. बढ़ा-चढ़ा। अव्य० आगे। सामने। पुं०=अर्गल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगला  : वि०=अगला। (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगलित  : भू० कृ० [सं० आ√गल् (क्षरित होना)+क्त] १. डूबता हुआ। २. उदास। खिन्न। ३. मुरझाया हुआ। म्लान। ४. नीचे की ओर लाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगवन  : पुं० =आगमन।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगवाह  : पुं० [सं० अग्निवाह-धूम] धुआँ। (डि०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगस्ती  : वि० [सं० अगस्त्य+अण्+ङीष्, यलोप] =आगस्त्य। स्त्री० दक्षिण दिशा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगस्त्य  : वि० [सं० अगस्त्य+यञ्,यलोप] १. अगस्त्य मुनि से संबंध रखनेवाला। २. दक्षिण दिशा संबंधी। ३. अगस्त्य नामक पेड़ से उत्पन्न। पुं० १. अक प्रसिद्ध मुनि। २. उक्त मुनि के वंशज। ३. दक्षिण दिशा। ४. एक वृक्ष का नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगा  : पुं० [सं० अग्र, पा० अग्ग] १. किसी चीज के आगे या सामने का भाग। जैसे—कुरते, मकान या सेना का आगा। मुहावरा—(स्त्री का) आगा भारी होना=गर्भवती होना। पद—आगा-पीछा-(दे०)। २. आगे रहकर चलने या बढ़नेवाला अंश। जैसे—आक्रमण करनेवालों का आगा। मुहावरा—आगा सँभालना=आगे होकर आरंभिक कठिनाइयों आदि का सामना करना। ३. भविष्य में आनेवाला समय या उसमें होनेवाला कार्य। जैसे—हमें तो आगा अँधेरा दिखाई देता है। मुहावरा—(किसी का) आगा मारना=आगे बढ़कर कार्य गति वृद्धि आदि में पूरी तरह से बाधक होना। ४. आगे बढ़कर किया जानेवाला स्वागत। मुहावरा—आगातागा लेना=आदर सत्कार करना। पुं० [तु० आगा] १. मालिक। सरदार। २. काबुली। अफगान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगाता (तृ)  : वि० [सं० आ√गै(गाना)+तृच्] कुछ गाकर कार्य सिद्धि या प्राप्त करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगाध  : वि० [सं० अगाध+अण्] १. बहुत अधिक गहरा। २. जिसका क्षेत्र या विस्तार बहुत अधिक हो। जैसे—आगाध विषय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगान  : पुं० [सं० आ-गान-बात] १. गाकर कहीं जानेवाली बात। २. वृत्तांत। हाल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगा-पीछा  : पुं० [हिं० आगा+पीछा] १. आगे और पीछे का अंश या बाग। २. इस बात का विचार कि किसी काम में आगे बढ़ने पर क्या होगा और पीछे रहने या हटने में क्या होगा। ३. उक्त स्थिति में मन में होनेवाला असमंजस। दुबिधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगामिक  : वि० [सं० आगामिन्+क] १. आनेवाला। २. आनेवाला भविष्य या समय सं संबंध रखनेवाला। भावी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगामी (मिन्)  : वि० [सं० आ√गम्+णिनि] [स्त्री० आगामिनी] १. आने या पहुँचनेवाला। २. आगे चलकर या भविष्य में होनेवाला। ३. वर्त्तमान के तत्त्काल उपरांत या बाद में आने या होनेवाला। जैसे—आगामी वर्ष या सप्ताह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगामुक  : वि० [सं० आ√गम्(जाना)+उकञ्] =आगामिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगार  : पुं० [सं०√अग् (टेढ़ी चाल)+घञ्, आग√ऋ (गति)+अण्] [वि० आगारिक] १. रहने का स्थान। घर। मकान। २. किसी विशेष कार्य के लिए नियत घर का कोई भाग। कमरा। कोठरी। जैसे—भोजनागार, शयनागार आदि। ३. ऐसा स्थान जहाँ चीजें इकट्ठा करके रखी जाती हों। जैसे—अस्त्रागार। ४. भवन। मंदिर। ५. कोश। खजाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगाह  : वि० [फा०] [भाव० आगाही] १. जिसे सचेत रहने के लिए पहले से किसी बात की सूचना मिल चुकी हो। २. जिसे सूचित कर दिया गया हो। ३. परिचित। अव्य० [हिं० आगे] आगे या पहले से। उदाहरण—चाँद गहन आगाह जनावा।—जायसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगाही  : स्त्री० [फा०] १. पहले से मिलने वाली जानकारी या सूचना। २. जानकारी। सूचना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगि  : स्त्री०=आग। (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगिआ  : स्त्री० =आज्ञा।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगिल  : वि० [हिं० आगे] १. आगे का। अगला। २. भविष्य में होनेवाला। भावी।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगिला  : वि०=अगला।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगिवर्त्त  : पुं०=अग्निवर्त्त (मेघ का एक भेद)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगी  : स्त्री०=आग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगुआ  : पुं० [हिं० आगे] औजारों, शस्त्रों आदि की मूठ के सिरे का गोल भाग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगू  : पुं० =आगा। अव्य०=आगे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगृहीत  : भू० कृ० [सं० आ√ग्रह (ग्रहण करना)+क्त, संप्रसारण] १. निकाला हुआ। २. कहीं जमा किये हुए धन में से निकाला या लिया हुआ (धन)। (ड्रान)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगृहीती (तिन्)  : वि० [सं० आगृहीत+इनि] १. जमा किए हुए धन में से कुछ निकालने या लेने वाला। (ड्रायर) २. दे० ‘आग्राहक’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगे  : अव्य० [सं० अग्रे, प्रा० पं० अग्गे० गुज० अगवो० सिं० अगिआँ० अगी, बँ० आगे, का० आगे० ओग्] १. जिस ओर मुँह का अगला भाग हो, उस ओर, सामनेवाले भाग की ओर। समक्ष। संमुख। सामने। जैसे—(क) आगे देखकर चला करो। (ख) बड़ों के आगे इस तरह बढ़-बढ़कर बोलना ठीक नहीं। मुहावरा—(किसी चीज या बात का) आगे आना=(क) उपस्थित या घटित होना। जैसे—जो कुछ मैंने कहा था, वहीं सब आगे आया। (ख) किसी बात के परिणाम या फल के रूप में उपस्थित या घटित होनेवाला। बदला मिलना। जैसे—जैसा करोगे वैसा तुम्हारें आगे आयेगा। (किसी के) आगे आना=मुकाबला या सामना करने के लिए आकर उपस्थित होना। जैसे—देखें कौन उसके आगे आता हैं। (किसी को) आगे करना=(क) आगे की ओर चलाना या बढ़ाना। (ख) अगुआ नेता या मुखिया बनाना। जैसे—जब कोई बात होगी तब तुम्हीं को आगे कर देगें। आगे का पैर पीछे पड़ना=घबराहट चिंता भय आदि के कारण आगे बढ़ने का साहस न होना। (किसी के) आगे डालना, देना या रखना=किसी को खिलाने, देने आदि के लिए उसके सामने उपस्थित करना। जैसे—उसने अपना सारा भोजन उस भिखमंगे के आगे डाल (दे या रख) दिया। (किसी के) आगे निकलना=प्रतियोगिता या होड़ में किसी के आगे बढ़ जाना। श्रेष्ठ सिद्ध होना। जैसे—दरजे में तुम्हीं सब के आगे निकलोगे। आगे बढ़कर (किसी को) लेना-कुछ दूर आगे बढ़कर आगंतुक का स्वागत करना। आगे बढ़ना या होना=औरो की तुलना में सबसे पहले किसी काम या बात में सम्मिलित या साहयक होना। जैसे—उस संकट की स्थिति में वही सबसे आगे बढ़ा था। (किसी के) आगे(कुछ) होना-बाल=बच्चा या संतान होना। जैसे—कौन कहे तुम्हारें आगे दो चार बाल-बच्चे हैं। पद—आगे का कपड़ा=(क) आँचल। (ख) घूँघट। (स्त्रियाँ) २. किसी की उपस्थिति में या सामने। जैसे—तुम सब के आगे मेरी निंदा करते फिरते हो। ३. जीवित रहने या वर्त्तमान होने की दशा में। जैसे—तुम्हारे आगे जो कुछ होगा वहां हो जायगा, नहीं तो बाद में कोई कुछ न करेगा। ४. इसके अनंतर उपरांत या बाद। जैसे—अब आगे कै सुनो हवाल। -आल्हा। ५. आनेवाले समय में। भविष्य में। जैसे—आगे जो होगा देखा जायगा। पद—आगे आगे=भविष्य में। जैसे—आगे आगे देखिए होता है क्या। मुहावरा—आगे को-कुछ दिनों बाद। भविष्य में। जैसे—समझ लो आगे को ऐसा न होने पावे। आगे चलकर=भविष्य में। जैसे—कौन जाने आगे चलकर क्या होगा। ६. इससे पहले। जैसे—आगे हमारी बात सुन लो, तब अपनी कहना। ७. कुछ दूर और आगे बढ़ने पर। जैसे—आगे एक तालाब मिलेगा। पद—आगे पीछे (देखें)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगे-पीछे  : अव्य० [हिं० आगे+पीछे] १. कभी आगे की ओर कभी पीछे की ओर। जैसे—जब देखो तब तुम उन्हीं के आगे पीछे लगे रहते हो। २. आगे भी और पीछे भी। जैसे—दस-पाँच आदमी सदा उनके आगे-पीछे लगे रहते हैं। ३. एक के बाद एक। निश्चित क्रम से। जैसे—सब लड़के आगे-पीछे होकर चलें। ४. आस-पास इधर-उधर। जैसे—अच्छी तरह देखो पुस्तक वहीं कही आगे पीछे होगी। ५.कभी (अथवा कहीं) पहले और कभी (अथवा कहीं) बाद में। जैसे—आगे-पीछे सभी को यहाँ से चलना है। ६. अव्यवस्थित क्रम से। इधर-उधर। तितर-बितर। जैसे—लड़कों ने सब कागज आगे पीछे कर दिये। ७. अवकाश या फुरसत मिलने पर। जैसे—पले अपना पाठ याद करो और काम आगे पीछे होते रहेगें। ८. पारिवारिक संबंध के विचार से। नाते रिश्ते में। जैसे—जब तुम्हारें आगे पीछे कोई है ही नही तब क्यों व्यर्थ इतना परिश्रम करते हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगो  : पुं० १. -आगा। २. =अगवानी।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगौ  : अव्य० [सं० अग्र] १. आगे या सामने। २. आगे बढ़कर।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगौन  : पुं० =आगमन।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आगौल  : पुं० [हिं० आगा=अगला भाग] सेना का अगला भाग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नीध्र  : पुं० [सं० अग्नि√इन्ध्र (दीप्ति)+क्विप्, अग्नीत-शरण० ष० त०+रण्, भ० आदेश] १. यज्ञ की अग्नि जलाने का स्थान। २. यज्ञ की अग्नि प्रज्वलित करना। ३. अग्निहोत्र करनेवाला यजमान। ४. स्वायंभुवमनु के बारह लड़कों में से एक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नेय  : वि० [सं० अग्नि+ढक्-एय] [स्त्री० आग्नेयी] १. अग्नि संबंधी। आग का। २. जिसका देवता अग्नि हो। ३. अग्नि से उत्पन्न। ४. जिसमें से आग निकलती हो। जैसे—आग्नेय अस्त्र, आग्नेय पर्वत आदि। ५. आग भड़काने या ज्वाला उत्पन्न करनेवाला। पुं० १. अग्नि के पुत्र कार्तिकेय। २. ब्राह्मण जिनकी उत्पत्ति अग्नि से मानी गई है। ३. पूर्व और दक्षिण के बीच की दिशा। अग्निकोण। ४. किष्किंधा के पास का एक पुराना देश जिसकी राजधानी माहिष्मती थी। ५. ज्वालामुखी पर्वत। ६. अग्नि का दीपन करने वाली ओषधि या औषध। ७. भाषा विज्ञान के अनुसार भारत के दक्षिण पूर्व में बोली जानेवाली भाषाओं का एक वर्ग जिसमें इंडोनेशिया और उसके आस-पास के द्वीपों में बोली जाने वाली भाषाएँ सम्मिलित हैं। ८. खून या रक्त, जिसकी उत्पत्ति शरीर की अग्नि या ताप से मानी गई है। ९. कोई ऐसा कीड़ा जिसके काटने से शरीर में जलन होती हो। १. अग्नि पुराण का एक नाम। ११. कृतिका नक्षत्र। १२. सोना। स्वर्ण। १३. चांद्र मास के पक्ष की पहली तिथि। प्रतिपदा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नेय अस्त्र  : पुं० [कर्म० स०] वे अस्त्र जो किसी प्रकार की अग्नि या ताप के संयोग से चलते या चलाये जाते हैं। (फायर आर्म्स) जैसे—तोप बन्दूक आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नेय स्नान  : पुं० [सं० कर्म० स०] सारे शरीर में भस्म या राख पोतना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नेयास्त्र  : पुं० [आग्नेय-अस्त्र, कर्म० स०] ऐसा अस्त्र जो अग्नि की सहायता से चलता हो। जैसे—तोप बन्दूक आदि। (फायर आर्म्स)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्नेयी  : स्त्री० [सं० आग्नेय+ङीष्] पूर्व और दक्षिण के बीच की दिशा। अग्नि-कोण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्रह  : पुं० [आ√ग्रह (ग्रहण करना)+अप्] १. किसी से विनयपूर्वक तथा बार-बार यह कहना कि आप अमुक काम इस रूप में करे। २. किसी बात पर जोर देते हुए तथा अड़ते हुए यह कहना कि यह बात ऐसी ही है अथवा इसी रूप में होनी चाहिए। हठ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्रहण  : पुं० [सं० आ√ग्रह+ल्युट्-अन] [कर्ता आग्राहक, भू० कृ० आगृहीत] जमा किये हुए धन में से रुपये निकालना या लेना। (ड्रॉ)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्रहायण  : पुं० [सं० अग्रहायण+अण्-ङीष् आग्रहायणी+अण्] १. अगहन मास। मार्गशीर्ष। २. मृगशिरा नक्षत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्रही (हिन्)  : वि० [सं० आग्रह+इनि] आग्रह करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आग्राहक  : वि० [सं० आ√ग्रह+ण्वुल्-अक] जमा किये हुए धन में से कुछ या सब धन निकालनेवाला। (ड्रॉअर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघ  : पुं० [सं० अर्घ, पा० अग्घ-मूल्य] १. आदर। सम्मान। उदाहरण—जनमु जलधि पानिपु विमल भौ जग आघ अपारू-बिहारी। २. महत्व या मूल्य। ३. अपना अस्तित्व। आपा। उदाहरण—चीते तिदुएँ बाघ भभरि निज आघ भुलाए। रत्ना। पुं० [सं० आघ्रा,प्रा०अग्घा] सूँघने की क्रिया या भाव। उदाहरण—राघौ आघौ होत जौ कत आछत जिय साध।—जायसी।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघना  : अ०=अघाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघर्षण  : पुं० [सं० आ√घृष् (रगड़ना)+ल्युट्-अन] घर्षण। रगड़।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघात  : पुं० [सं० आ√हन् (मारना)+घञ्] १. अचानक लगनेवाली ठोकर या धक्का। २. चोट पहुँचाने के लिए किसी चीज से मारना। प्रहार। ३. उक्त के फलस्वरूप लगनेवाली चोट। (इंजरी)। ४. किसी दुर्घटना के कारण होनेवाला मानसिक कष्ट या व्यथा। ५. वध। हत्या। ६. पशु वध करने का स्थान। बूचड़खाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघातक  : वि० [सं० आ√हन्+ण्वुल्-अक] आघात करनेवाला। पुं० १. यंत्र में वह अंग या पुरजा जो किसी दूसरे अंग या पुरजे पर आघात करके उसे कोई काम करने के लिए प्रवृत्त करता है। २. तोप, बन्दूक आदि वह खटका जिसके गिरने से बारूद में विस्फोट होता है। (स्ट्राइकर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघातन  : पुं० [सं० आ√हन्+णिच्+ल्युट्-अन] १. आघात करने की क्रिया या भाव। २. वध स्थान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघार  : पुं० [सं० आ√घृ(क्षरण)+घञ्] हवन, यज्ञ आदि के समय घी से दी जानेवाली आहुति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघारना  : स० [सं० आघार] १. आहुति देना। २. छिड़कना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघी  : स्त्री० [सं० अर्घ, पा० अग्घ-मूल्य] १. देहातों में लेनदेन का वह प्रकार जिसमें कर्ज लेनेवाला महाजन को अनाज के रूप में ब्याज चुकाता है। २. उक्त प्रकार से दिया जानेवाला अन्न।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघु  : स्त्री०=आघ।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघूर्णन  : पुं० [सं० आ√घूर्ण (घूमना)+ल्युट्-अन] अच्छी तरह घूमना या चक्कर खाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघोष  : पुं० [सं० आ√घुष् (शब्द करना)+घञ्] १. जोर से किया जानेवाला घोष या शब्द। २. गर्वपूर्ण उक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघ्राण  : पुं० [सं० आ√घ्रा (सूँघना)+ल्युट्-अन] १. सूँघने की क्रिया या भाव। २. तृप्त या संतुष्ट होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघ्रात  : भू० कृ० [सं० आ√घ्रा+क्त] सूँघा या सूघाया हुआ। पुं० [सं० ] ग्रहण के दस भेदों में से एक जिसमें चंद्रमंडल या सूर्यमंडल एक ही ओर कुछ मलिन दिखाई देता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आघ्रेय  : वि० [सं० आ√घ्रा+यत्] जो सूँघे जाने के योग्य हो या सूँघा जाने को हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच  : पुं० [सं० सच=संधान करना] हाथ। (डिं०)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचमन  : पुं० [सं० आ√चम् (पान)+ल्युट्-अन] [वि० आचमनीय भू० कृ० आचमित] १. जल पीना। पान करना। २. हिन्दुओं में धार्मिक कृत्य आरम्भ करने के समय दाहिने हाथ की हथेली में थोड़ा जल लेकर मंत्र पढ़ते हुए उसे पीना। ३. नेत्र-बाला नामक ओषधि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचमनक  : पुं० [सं० आचमन+कन्] १. वह जल जो आचमन के लिए हाथ में लिया जाता है। २. [ब० स०] उगालदान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचमनी  : स्त्री० [सं० आचमन+ङीष्] कलछी के आकार का बहुत छोटा चम्मच जिससे आचमन करते तथा चरणामृत आदि देते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचमनीय  : वि० [सं० आ√चम्+अनीयर्] आचमन के योग्य (जल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचमित  : भू० कृ० [सं० आचान्त] आचमन किया हुआ। पिया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचय  : पुं० [सं० आ√चि(चयन)+अच्] १. चयन। २. संचय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचयक  : वि० [सं० आचायक] १. चयन करने या चुननेवाला। २. संकलन संचय या संग्रह करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरज  : पुं० =अचरज।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरजित  : भू० कृ० =आश्चर्यित।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरण  : पुं० [सं० आ√चर् (गति)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आचरित] १. चलना या चलकर कहीं पहुँचना। २. कोई कार्य आरंभ करके चलाना या आगे बढ़ाना। अनुष्ठान। ३. जीवन-यात्रा में किये जाने वाले वे सभी कार्य या व्यापार जिनका संबंध और लोगों से भी होता है और जो लोक में नैतिक दृष्टि से आँके जाते है। चाल-चलन। (काँन्डक्ट) जैसे—(क) तुम्हारा यह आचरण ठीक नहीं है। (ख) आपको अपने विद्यार्थियों के आचरण पर ध्यान रखना चाहिए। ४. गाड़ी, छकड़ा रथ या ऐसी ही कोई सवारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरण-पंजी  : स्त्री० [सं० ष०त०] वह पुस्तिका जिसमें कर्मचारियों के आचरण, चाल-चलन व्यवहार आदि से संबंधित बातें लिखी जाती है। (कैरेक्टर बुक)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरण-पुस्तिका  : स्त्री०=आचरण पंजी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरणीय  : वि० [सं० आ√चर्+अनीयर] (कार्य या व्यवहार) जिसका आचरण किया जा सकता हो या करना उचित हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरन  : पुं० =आचरण।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरना  : स० [सं० आचरण] कार्य या व्यवहार के रूप में लाना। आचरण करना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचरित  : भू० कृ० [सं० आ√चर्+क्त] १. आचरण या व्यवहार के रूप में लाया हुआ। २. वि० नियमित और निर्दिष्ट। पुं० १. प्राचीन भारत में दिया हुआ ऋण वसूल करने की वह परिपाटी जिसमें या तो ऋणी के दरवाजे पर बैठकर धरना दिया जाता था या उसकी स्त्री पुत्र आदि ले लिये जाते थे। २. दे० ‘जीवक’ (कोरियर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचर्य  : वि० [सं० आ√चर्+यत्] आचरणीय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचान  : अव्य० =अचान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचानक  : अव्य० =अचानक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचाम  : पुं० [सं० आ√चम्+घञ्] १. पका हुआ चावल। भात। २. माँड। ३. आचमन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार  : पुं० [सं० आ√चर्+घञ्] [वि० आचारिक] १. आचरण। २. आचरण या व्यवहार का वह परिष्कृत नैतिक रूप जो कुछ नियमों, रूढियों, सिद्धान्तों आदि के आधार पर स्थित होता है। और जिसका अनुसरण या पालन लोक में आवश्यक समझा जाता है। ३. उक्त के आधार पर लोक में प्रचलित रीति व्यवहार आदि। जैसे—लोकाचार, शास्त्रोक्त आचार आदि। ४. उत्तम चरित्र शील और स्वभाव। ५. बहुत दिनों से चली आई परिपाटी, प्रथा या रीति। रूढ़ व्यवहार। ६. एक जगह से दूसरी जगह आने जाने की क्रिया या इसी प्रकार का और कोई अन्योन्याश्रित या पारस्परिक व्यवहार। जैसे—पत्राचार-पत्र व्यवहार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचारज  : पुं० =आचार्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचारजी  : स्त्री० [सं० आचार्य] १. आचार्य होने की अवस्था या भाव। २. आचार्य का कार्य या पद। ३. पुरोहित का कर्म या व्यवसाय। पुरोहिताई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-तंत्र  : पुं० [ष० त०] बौद्धों के चार तंत्रों में से एक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-दीप  : पुं० [ष० त०] आरती की दीया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचारवान्  : वि० [सं० आचार+मतुप्, वत्व] [स्त्री० आचारवती] १. जो अच्छे और शुद्ध आचार का पालन करता हो। २. अच्छे तथा शुद्ध आचरणवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-विचार  : पुं० [द्वं० द्व० स०] लौकिक क्षेत्र में किया जानेवाला आचरण और उनसे संबंध रखनेवाला विचार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-वेदी  : स्त्री० [ष० त०] १. पुण्य भूमि। २. आर्यावर्त्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-शास्त्र  : पुं० [ष० त०] नीति शास्त्र (देखें)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार-हीन  : वि० [तृ० त०] १. शास्त्रों में बतलाये हुए आचार न करनेवाला। २. आचरण भ्रष्ट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचारिक  : वि० [सं० आचार+ठक्-इक] १. आचार संबंधी। २. (प्रथा या रीति) जो किसी कुल समाज आदि में बहुत दिनों से आचार के रूप में चली आ रही हो। (कस्टमरी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचारी (रिन्)  : वि० [सं० आचार+इनि] [स्त्री० आचरिणी] अच्छे आचरण और शुद्ध आचार-विचार वाला। पुं० रामानुज संप्रदाय का वैष्णव आचार्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार्य  : पुं० [सं० आ√चर्+ण्यत्] [स्त्री० आचार्यानी] १. वह जो आचार (नियमों सिद्धातों आदि) का अच्छा ज्ञाता हो और दूसरों को उसकी शिक्षा देता हो। २. वह जो कर्मकाण्ड का अच्छा ज्ञाता हो और यज्ञों आदि में मुख्य पुरोहित का काम करता हो। ३. यज्ञोपवीत संस्कार के समय गायत्री मंत्र का उपदेश करनेवाला। ४. प्राचीन भारत में, वेद शास्त्रों आदि का बहुत बड़ा ज्ञाता या पंडित। जैसे—शंकराचार्य, वल्लभाचार्य आदि। ५. आज-कल किसी महाविद्यालय का प्रधान अधिकारी और अध्यापक। (प्रिंसिपल) ६. किसी विषय का बहुत बड़ा ज्ञात या पंडित। जैसे—आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी, आचार्य रामचंद्र शुक्ल आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार्या  : स्त्री० [सं० आचार्य+टाप्] १. स्त्री आचार्य या गुरु। २. पूजनीय तथा विदुषी स्त्री। ३. स्त्री।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचार्यानी  : स्त्री० [सं० आचार्य+ङीष्, आनुक्] आचार्य की पत्नी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचिंत्य  : वि० [सं० आ√चिन्त् (स्मृति)+यत्] १. सब प्रकार से चिंतन करने योग्य। २. अचिंत्य। पुं० परमेशवर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचिज्ज  : पुं० =आश्चर्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचित  : वि० [सं० आ√चि(चयन)+क्त] व्याप्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आचूषण  : पुं० [सं० आ√चूस् (चूसना)+ल्युट्-अन] १. अच्छी तरह चूसना। २. शरीर के किसी अंग में तुंबीं लगाकर उसमें का दूषित रक्त चूसना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छन्न  : भू० कृ० [सं० आ√छद् (ढकना)+क्त] १. जिस पर आवरण पड़ा हो। ढका हुआ। आवृत्त। २. ऊपर से छाया हुआ। ३. छिपा हुआ। तिरेहित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छादक  : वि० [सं० आ√छद्+णिच्+ण्वुल्-अक] आच्छादन करने या ऊपर से ढकनेवाला। पुं० वह वस्तु जिससे ढका जाए।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छादन  : पुं० [सं० आ√छद्+णिच्+ल्युट्-अन] १. ढकने की क्रिया या भाव। २. ढकने की वस्तु। आवरण। ३. वस्त्र। कपड़ा। ४. छाजन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छादित  : भू० कृ० [सं० आ√छद्+णिच्+क्त] १. ढका हुआ। आवृत्त। २. छाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छादी (दिन्)  : पुं० [सं० आ√छद्+णिच्+णिनि] आच्छादक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छिप्त  : वि० =आक्षिप्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छेद  : पुं० [सं० आ√छिद् (काटना)+घञ्] १. काटना। २. काट-छाँट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छेदन  : पुं० [सं० आ√छिद्+ल्युट-अन] काटना या छेदना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आच्छोटन  : पुं० [सं० आ√स्फुट् (बजाना)+ल्यट्-अन, पृषो० सिद्धि] १. चुटकी बजाना। २. आखेट करना। शिकार खेलना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछना  : अव्य० [सं० अस्ति] १. उपस्थित या विद्यमान होना। रहना। २. होना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछरि  : स्त्री० =अप्सरा। उदाहरण—आछरि छपीं छपी गोपीता।—जायसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछा  : वि० [स्त्री० आछी] अच्छा।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछिप्त  : वि० =आक्षिप्त।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछी  : वि० =आशी (खानेवाला)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछे  : अव्य० [हिं० अच्छा] अच्छी तरह। भलीभाँति। उदाहरण—तिनके लच्छन लच्छ अब आछे कही बकानि।—मतिराम। अ०=हैं।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछेप  : पुं० =आक्षेप।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछो  : वि० =अच्छा।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आछोटण  : पुं० [सं० आच्छोदन] मृगया। शिकार।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज  : अव्य० [सं० अद्य,प्रा०अज्ज,अज्जु,उ०आजि,गु०अज०आजे,पं०अज्ज,का०अजि,आजि,मरा०आज] १. जो दिन इस समय चल रहा है, उस दिन। वर्तमान दिन में। २. इन दिनों में। इस काल में। पुं० प्रस्तुत या वर्त्तमान दिन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज-कल  : अव्य० [हिं० आज+कल] १. प्रस्तुत या वर्त्तमान दिनों में। २. एक-दो दिन में। मुहावरा—आजकल करना-टाल-मटोल करना। हीला-हवाला करना। आज-कल लगना-मरण काल निकट आना। पद—आज कल में-कुछ ही दिनों में। ३. वर्त्तमान काल या युग में। इन दिनों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजगर  : वि० [सं० अजगर+अण्] १. अजगर संबंधी। २. अजगरों की तरह का। अजगरों जैसा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजगव  : पुं० [सं० अजगव+अण्] शिव का धनुष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजन्म  : अव्य० [सं० अव्य,स०] १. जन्म से लेकर अब तक। २. जीवन पर्यन्त। जीवन भर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजमाइश  : स्त्री० [फा०] जाँच। परीक्षण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजमाइशी  : वि० [फा०] जो आजमाइश या परीक्षण के रूप में हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजमाना  : स० [फा०आजमाइश=परीक्षा] [वि० आजमूदा] परीक्षण या परीक्ष करना। जाँचना। परखना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजमीढ़  : वि० [सं० अजमीढ़+अण्] १. अजमीढ़ राजा के वंश का। २. अजमीढ़ देश का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजमूदा  : वि० [फा० आजमूदः] आजमाया या परखा हुआ। परीक्षित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजा  : पुं० [सं० आर्य, प्रा० अज्ज] [स्त्री० आजी, वि० अजिया] पिता का पिता। पितामह। दादा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजाद  : वि० [फा० आजाद] [संज्ञा० आजादी, आजादगी] १. खुला हुआ। मुक्त। २. स्वच्छंद। ३. स्वतंत्र। ४. मन मौजी। पुं० एक प्रकार के मुसलमान सूफी फकीर जो इस्लाम धर्म के अधिकतर बंधनों से मुक्त और स्वतंत्र रहते है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजादगी  : स्त्री० [फा०]=आजादी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजादी  : स्त्री० [फा०] १. आजाद होने की अवस्था या भाव। २. मुक्ति। ३. स्वतंत्रता। ४. स्वच्छंदता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजान  : पुं० [सं०√जन् (उत्पन्न होना)+घञ्, आ-जान, अव्य० स०] १. जन्म। २. उत्पत्ति। ३. जन्म या उत्पत्ति का स्थान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजान-देव  : पुं० [आ-जान, अव्य० स०, आजान-देव, कर्म० स०] वह देवता जो सृष्टि के आदि में देव रूप में उत्पन्न हुआ हो। जन्मजात। देवता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजानि  : स्त्री० [सं० आ√जन्+इण्] १. उच्च कुल या उत्तम वंश में जन्म लेना। २. जन्म देनीवाली माता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आ-जानु  : वि० [सं० अव्य० स०] घुटनों तक लंबा या लटकता हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजानु-बाहु  : पुं० [सं० ब० स०] वह जिसके हाथ इतने लंबे हों कि लटकाने पर नीचे घुटनों तक पहुँचते हों। (बहुत बड़े कर्मठों या वीरों का लक्षण)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजाने  : अव्य० =अनजाने।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजार  : पुं० [फा०] १. बीमारी। रोग। व्याधि। २. कष्ट। दुख।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजिज  : वि० [अ०] [भाव० आजिजी] १. विनीत। दीन। २. तंग। परेशान। ३. लाचार। विवश।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजिजी  : स्त्री० [अ०] १. विनय। दीनता। २. लाचारी। विवशता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजीव  : पुं० [सं० आ√जीव्(जीना)+घञ्] १. उचित लाभ या आय। २. जीवन निर्वाह के लिए प्राप्त होने वाली आय या मिलनेवाला धन। ३. जीविका। पेशा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजीवक  : वि० [सं० आ√जीव्+ण्वुल्-अक] जीवन निर्वाह में कुछ निश्चित नियमों का पालन करनेवाला। पु० जैन साधु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आ-जीवन  : अव्य० [सं० अव्य० स०] पूरे या सारे जीवन में। जीवन भर। (लाइफ-लांग)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजीविका  : स्त्री० [सं० आ√जीव्+णिच्+ण्वुल्-अक+टाप्, इत्व] ऐसा कार्य या व्यवसाय जिसकी आय से जीवन निर्वाह होता हो। रोजी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजीव्य  : वि० [सं० आ√जीव्+ण्यत्] (कार्य या व्यवसाय) जिससे जीवन निर्वाह होता हो। पुं० जीवन निर्वाह के साधन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजु  : अव्य० =आज। पुं० =आज।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजुल  : पुं० =आज्ञा। दादा। उदाहरण— साग की क्यारी हमरे आजुल ने लगाई।—लोकगीत।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आजू  : पुं० [सं० आ√जु (गति)+क्विप्] बेगार। अव्य० =आज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञप्त  : भू० कृ० [सं० आ√ज्ञा(जानना)+णिच्, पुक्, ह्रस्व+क्तिन्] १. जिसे आज्ञा दी गई हो। २. जो आज्ञा के रूप में प्राप्त हुआ हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञप्ति  : स्त्री० [सं० आ√ज्ञा+णिच्+पुक्, हस्व+क्तिन्] १. कानून या विधि के आधार पर दी जानेवाली आधिकारिक आज्ञा या होनेवाला निर्णय। २. न्यायालय या न्यायाधीश का लिखित निर्णय। (डिक्री, उक्त दोनों अर्थों में)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा  : स्त्री० [सं० आ√कर्म+अङ-टाप्] १. किसी अधीनस्थ कर्मचारी या व्यक्ति से मौखिक रूप से कहा हुआ अथवा लिखित रूप से दिया हुआ ऐसा निर्देश जिसका पालन करना अनिवार्य हो। हुकुम। (आर्डर) २. किसी कार्य या बात के लिए मिलनेवाली अनुमति। ३. दे० ‘आज्ञाचक्र’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञाकारिता  : स्त्री० [सं० आज्ञाकारिन्+तल्-टाप्] आज्ञाकारी होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञाकारी (रिन्)  : वि० [सं० आ√कृ (करना)+णिनि] [स्त्री० आज्ञाकारिणी] किसी की आज्ञा का अनुसरण या पालन करनेवाला। पुं० १. दास। २. सेवक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा चक्र  : पुं० [सं० मध्य० स०] हठयोग में, शरीर के अंदर से आठ चक्रों में से छठा चक्र जो दो दलों का श्वेत वर्णका और दोनों भौहों के बीच में स्थित माना गया है। कहते है कि इसके साधन से वाक्-सिद्धि प्राप्त होती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञाता (तृ)  : पुं० [सं० आज्ञापयिता] वह जो दूसरों को आज्ञा दे। आज्ञा देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञान  : पुं० [सं० आ√ज्ञा+ल्युट्-अन] देखने या समझने की क्रिया भाव या शक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञापक  : वि० [सं० आ√ज्ञा+णिच्,पुक्+ण्वुल्-अक] [स्त्री० आज्ञापिका] आज्ञा देनेवाला। आज्ञाता। पुं० प्रभु। स्वामी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा-पत्र  : पुं० [सं० ष० त०] वह पत्र जिसमें कोई आज्ञा लिखकर दी गई हो। हुकुमनामा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञापन  : पुं० [सं० आ√ज्ञा+णिच्, पुक्+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आज्ञापित] आज्ञा देने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा पालक  : वि० [सं० ष० त०] [स्त्री० आज्ञापालिका] आज्ञा पालनकरनेवाला। आज्ञाकारी। पुं० १. दास। २. सेवक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा-पालन  : पुं० [सं० ष० त०] [स्त्री० आज्ञापालक] किसी की दी हुई आज्ञा के अनुसार कार्य करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञापित  : भू० कृ० [सं० आज्ञप्त] १. (व्यक्ति) जिसे आज्ञा दी गई हो। २. (कार्य) जिसके संबंध में आज्ञा दी गई हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा फलक  : पुं० [सं० ष० त०] वह पत्र जिसमें किसी विषय या व्यवहार संबंधी आज्ञा लिखी हो। (आर्डर शीट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञा भंग  : पुं० [सं० ष० त०] आज्ञा न मानना अथवा उसके विरुद्ध आचरण करना। (डिस्ओबीडिएन्स)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञायी (यिन्)  : वि० [सं० आ√ज्ञा+णिनि, युक्, आगम] १. जानने या समझनेवाला। २. अनुभव करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्ञार्थक  : पुं० [सं० आज्ञा-अर्थ, ब० स० कप्] व्याकरण में क्रिया पद का वह रूप जिसमें किसी को कोई काम करने का आदेश दिया जाता है। विधि। (इम्परेटिव मूड) जैसे—आओ, बैठो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्य  : पुं० [सं० आ√अंज् (दीप्ति)+क्यप्] १. वह घी जिससे आहुति दी जाए। २. दूध या तेल, जो घी के स्थान पर आहुति में दिया जाए। ३. यज्ञ में दी जानेवाली हवि। ४. प्रातः कालीन यज्ञ का एक स्त्रोत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्यपा  : पुं० [सं० आज्य√पा (पीना)+क्विप्] सात प्रकार के पितरों में से एक जो पुलस्त्य के पुत्र वैश्यों के पितर हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्य-भाग  : पुं० [सं० ष० त०] यज्ञ में अग्नि और सोमदेव को दी जाने वाली घृत की दो आहुतियाँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्य-भुक्  : पुं० [सं० आज्य√भुज् (खाना)+क्विप्] १. अग्नि। २. देवता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आज्य-स्थाली  : स्त्री० [सं० ष० त०] वह यज्ञ पात्र जिसमें हवन के लिए घी रखा जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आटना  : स० [सं० अट्ट] ऊपर से इतना अधिक रखना या लादना कि नीचे की चीज छिप जाए।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आटरूष  : पुं० [सं० अटरूष+अण्] अड़से का पेड़। वासक वृक्ष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आटा  : पुं० [सं० आर्द-दबाना ?, अन्न०अट्टसु,गु०सि०आटी,बँ०आटा,कश्मी०ओटु,फा०मरा०आट, आटवल] १. गेहूँ, जौ, मकाई आदि को पीसकर तैयार किया हुआ चूर्ण जिससे पूरियाँ रोटियाँ आदि बनाई जाती है। पिसान। मुहावरा—आटे दाल का भाव मालूम होना=यह पता चलना या इस बात की शिक्षा मिलना कि (क) जीविका का निर्वाह या (ख) सांसारिक व्यवहार किस प्रकार करना चाहिए या करना होता है। गरीबी में आटा गीला होना=(क) पैसे की तंगी के समय पास से कुछ और चला जाना। (ख) और अधिक संकट आना। पद—आटे की आया=भोली भाली स्त्री। आटे दाल की फिक्र-जीविका निर्वाह की चिंता। २. आटे की तरह भुरभुरी वस्तु। क्रि० प्र-होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आटी  : स्त्री० [हिं० अटक] १. पच्चड़। २. डाट। ३. अवरोध। रुकावट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आटोप  : पुं० [सं० आ√तुप्(वध करना)+घञ्, पृषो० टत्व] १. ऊपर से ढकने वाली चीज आच्छादन। २. बहुत अधिक फूलना या फैलना। ३. पेट में होनेवाली गड़गड़ाहट। ४. अभिमान। घमंड। ५. आजकल ऐसा आडंबर या तड़क-भड़क जो दूसरों को अपना बल और वैभव बहुत बढ़ाकर दिखलाने के लिए की जाए। (पाम्प) आठ
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आठक  : वि० [सं० अष्ट,पा०अट्ठ+हिं० एक] आठ के लगभग। प्रायः आठ।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आठव  : वि० =आठवाँ।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आठवाँ  : वि० [हिं० आठ+वाँ(प्रत्यय)] गिनती या क्रम के विचार से आठ के स्थान पर पड़नेवाला। अष्टम।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आठें, आठैं, आठों  : स्त्री० [सं० अष्टमी] अष्टमी। (तिथि)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आडँग  : पुं० [सं० आगम ?] लक्षण। चिन्ह। उदाहरण—जो गिणि आवी आडँग जाँणे।—पृथीराज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आडंबर  : पुं० [सं० आ√डम्ब् (फेंकना)+अरन्] [वि० आडंबरी] १. एक प्रकार का ढोल या नगाड़ा। २. ढोल या नगाड़े से होनेवाला शब्द। ३. हाथी की चिघाड़। ४. शरीर में की जानेवाली मालिश। ५. खेमा। तंबू। ६. उच्च स्वर या घोर नाद। ७. बहुत अधिक या अनावश्यक रूप से बोलना अथवा निरर्थक बड़े-बड़े शब्दों का प्रयोग करना। ८. अपना वास्तविक रूप छिपाकर लोगों के लिए बनाया हुआ बाहरी कृत्रिम भव्य रूप। दिखावटी ठाट-बाठ। (आस्टेन्टेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आडंबरी (रिन्)  : वि० [सं० आडम्बर+इनि] १. जिसमें आडंबर हो। आडंबर से युक्त। २. आडंबर करने या रचनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़  : स्त्री० [सं० आटि, आति, सि० आटी, मरा० आडष्ठी आड़ी] १. वह चीज जिसके पीछे छिपा जाए। ओट। परदा। २. रक्षा का स्थान। मुहावरा—आड़ देना=आश्रय या शरण देना। आड़ लेना-किसी की शरण में जाना। ३. टेक। थूनी। ४. बाधा। रोक। ५. वह बिंदी जो स्त्रियाँ माथे पर लगाती है। उदाहरण—केसरि आड़ ललाटनि लसै।—नंददास। मुहावरा—आड़ चितरना=माथे और मुख पर कई प्रकार की बिदियाँ लगाकर बेल-बूटे आदि बनाना। ६. माथे पर पहनने का एक प्रकार का गहना। टीका। ७. एक प्रकार का बड़ा कलछा। स्त्री० [सं० अल=डंक] बर्रे, बिच्छू, मधु मक्खी आदि का डंक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़गीर  : पुं० [हिं० आड़+फा० गीर] १. आड़ करने के लिए लगाया जानेवाला परदा या खड़ी की जानेवाली दीवार। २. खेत की किनारे की घास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़न  : स्त्री० [हिं० आड़ना-रोकना] १. आड़। ओट। २. ढाल, जो तलवार का वार रोकती हो। (डि०)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ना  : स० [सं० अल्-वारण करना] १. बीच में आड़ या रोक खड़ी करना। २. बीच में आकर रुकावट डालना या बाधक होना। रोकना। ३. कोई चीज गिरवी (बंधक या रेहन) रखना। ४. मना करना। ५. बाँधना। स० [हिं० आड़] स्त्रियों की सोभा के लिए अपने मुख पर विशेष ढंग से बिदियाँ लगाना। आड़ चितरना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़बंद  : पुं० [हिं० आड़=फा० बंद] फकीरों, पहलवानों आदि के पहनने का एक प्रकार का लँगोट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ा  : वि० [सं० अल्-रोकना या डिं०आड़] १. आँखों के समानांतर दाहिने से बाएँ अथवा बाएँ से दाहिने गया हुआ अथवा इस बल में रखा हुआ। क्षैतिज। (हाँरिजेन्टल) २. जो नीचेवाले कोने के सामने के ऊपरवाले कोने की तरफ उठता हुआ गया हो। तिरछा। तिर्यक। जैसे—कपड़े की आड़ी काट। मुहावरा—आड़ा या आड़े आना या होना=सामने आकर बाधा या रुकावट खड़ी करना। उदाहरण— मर्यादा आड़ी भई, आगे दियो न पाँव।—लक्ष्मण सिंह। आड़े तिरछे होना=नाराज होकर झगड़ा बढ़ानेवाली बाते करना। ३. उग्र या कठोर। विकट। जैसे—आड़ा समय। उदाहरण—पाँव न चालै पंथ दुहेलो आड़ा औघट घाट।—मीराँ। मुहावरा—(किसी के) आड़े आना=संकट में पड़े हुए व्यक्ति के पास जाकर उसके कष्ट निवारण में सहायक होना। जैसे—यों मित्र तो सभी थे पर उस विपत्ति के समय आप ही हमारे आड़े आये। (किसी को) आड़े हाथों लेना=खरी-खोटी सुनाकर निरुतर और लज्जित करना। ४. जिसका क्रम या गति बिलकुल सीधी न हो, बल्कि बीच में नियत से कुछ इधर-उधर हो जाता हो। जैसे—आड़ा खेमटा, आड़ा चौताल। ५. जो कहीं से बीच में आ पड़ा हो। उदाहरण—त्रिणि दीह लगन वेला आड़ा तै।—पृथीराज। पुं० [सं० आलि-देखा] १. एक प्रकार का कपड़ा जिसपर आड़ी तिरछी धारियाँ होती हैं। २. जुलाहों का लकड़ी का वह ढ़ाँचा जिसपर सूत फैलाये जाते है। ३. जहाज या नाव का लट्ठा या शहतीर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ा-खेमटा  : पुं० [हिं० आड़ा+खेमटा] संगीत में तेरह मात्राओं का एक ताल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ा-चौताला  : पुं० [हिं० आड़ा+चौताल] संगीत में सात मात्राओं का एक ताल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ा पंच ताल  : पुं० [हिं० आड़ा+पंच+ताल] संगीत में ५ आघातों और ९ मात्राओं का एक ताल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ा-लोट  : वि० [हिं० आडा+लोटना] डगमगा कर एक ओर गिरता हुआ। मुहावरा—आडा लोट मारना=जहाज का लहरों में पड़कर उलटने लगना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ी  : स्त्री० [हिं० आड़] १. खेल में वक्ता के पक्ष का खेलाड़ी या साथी। २. छुट्टी या विश्राम का दिन। (चमार) अव्य० ओर। तरफ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आड़ू  : पुं० [संभवतः किसी ईरानी शब्द का अप०] १. एक प्रकार का वृक्ष जिसमें छोटे खट-मीठे फल लगते हैं। २. उक्त वृक्ष का फल। शफ्तालू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ  : स्त्री० [?] एक प्रकार की मछली। वि० [सं० आढ्यक] कुशल। दक्ष। स्त्री० [हिं० आड़ ?] १. बीच में पड़नेवाला अंतर या विस्तार। २. टाल-मटोल। बहाने-बाजी। ३. दे० आड़। पुं० =आढ़क।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढक  : पुं० [सं० आ√ढौक (देखना)+घञ्, पृषो० सिद्धि] १. चार सेर की एक तौल। २. नापने का काठ का वह पात्र जिसमें चार सेर अनाज आता है। ३. अरहर। ४. गोपी चंदन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ़की  : स्त्री० [सं० आ√ढौक्+अच्, पृषो० अकार आदेश, ङीष्] १. अरहर। २. गोपी चंदन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ़त  : स्त्री० [सं० अट्ट, प्रा० आड़हति, पा० आड़हइ, पं० बँ० मरा० आड़त, तेल० अड़िति] १. व्यवसाय की वह प्रथा जिसमें व्यवसायी दूसरे का माल अपने यहाँ थोक ब्रिकी के लिए रखता और उनकी ब्रिकी होने पर कुछ नियत धन अपने लिए लेता है। २. वह धन जो उक्त व्यवसाय में व्यवसायी को पारिश्रमिक या लाभ के रूप में मिलता है। ३. वह स्थान जहाँ बैठकर कोई व्यक्ति उक्त प्रकार का व्यवसाय करता है। ४. किसी कुटनी का वह स्थान जहाँ दुश्चरित्रा स्त्रियाँ चोरी से पहुँचकर धन के लोभ से व्यभिचार कराती हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ़तदार  : पुं० [हिं० आढ़त+फा० दार(प्रत्यय)]-आढ़तिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ़तिया  : पुं० [हिं० आढ़त+इया (प्रत्यय)] वह जो आढ़त का काम करता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ्यंकर  : वि० [सं० आढ्य√कृ (करना)+ट,मुम्] गरीब को धन देकर धनी बनानेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ़्य  : वि० [सं० आ√ध्यै (चिंतन करना)+क, पृषो० सिद्धि] १. किसी चीज या बात से पूरी तरह से युक्त। जैसे—धनाढ्य गुणाढ्य आदि। २. धनी। संपन्न।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आढ्यक  : पुं० [सं० आढ्य] धन-राशि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणंद  : पुं० =आनंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणक  : पुं० [सं० अणक+अण्] १. एक रुपए का सोलहवाँ भाग। आना। २. काम-शास्त्र में संभोग के आसन। वि० १. अधम। नीच। २. निंदनीय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणना  : स० =आनना। (लाना या ले आना)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणव  : पुं० [सं० अणु+अण्] अणु का भाव। अणुता। वि० =आणविक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणविक  : वि० [सं० अणु+ठक्-इक] अणुओं के रूप में होने या उनसे संबंध रखनेवाला। अणु संबंधी। (मोलक्यूलर)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणा  : वि० =अन्य। अव्य० =अन्यत्र। (राज)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आणुक  : वि० =आणविक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंक  : पुं० [सं० आ√तङ (अस्वस्थ होना)+घञ्] [भू० कृ० आतंकित] १. पीड़ा, रोग आदि शारीरिक कष्ट। २. बेचैनी। विकलता। ३. भारी अत्याचार संकट के समय उसके भय से उत्पन्न वह विकलतापूर्ण मानसिक स्थिति जिसमें कुछ सोचने-समझने या करने-धरने में प्रायः असमर्थ हो जाता है। (टेरर) ४. किसी का प्रभाव प्रभुत्व शक्तिमत्ता आदि देखने पर उसके फलस्वरूप उत्पन्न होनेवाली विकलतापूर्ण मानसिक स्थिति। ५. किसी बात या वस्तु का वह विकट प्रभाव जो भयभीत करके प्रायः रोग या मानसिक विकार उत्पन्न कर देता है। (फोबिया) जैसे—जलांतक। क्रि० प्र०-जमना। छाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंक-युद्ध  : पुं० [तृ० त०] पारस्परिक वैमनस्य या शत्रुता के फलस्वरूप उत्पन्न होनेवाली वह स्थिति जिसमें दोनों पक्ष बिना लड़े-भिड़े केवल एक-दूसरे के मन में भारी आतंक उत्पन्न करके उसे दबाने या हटाने का प्रयत्न करते हैं। (वार आँफ नर्व्ज)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंकवाद  : पुं० [ष० त०] लोगों को डरा-धमकाकर अपना उद्देश्य सिद्ध करने का सिद्धांत। (टेररिज्म)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंकवादी (दिन्)  : वि० [सं० आतंक√वद् (बोलना)+णिनि] १. आतंकवाद से संबंध रखनेवाला। २. आतंकवाद का सिद्धांत मानने और उसके अनुसार काम करनेवाला। (टेररिस्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंकित  : भू० कृ० [सं० आतंक+इतच्] जिसपर किसी प्रकार का आतंक छाया हो। आतंक से प्रभावित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतंचन  : पुं० [सं० आ√तञ्च् (वेग)+ल्युट्-अन] १. दूध जमाने की क्रिया या भाव। २. दूध जमाने का जामन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतत  : भू० कृ० [सं० आ√तन् (विस्तार)+क्त, नलोप] १. फैला या फैलाया हुआ। २. खिंचा या खींचा हुआ। ३. तना या ताना हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतताई  : पुं०=आततायी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आततायी (यिन्)  : पुं० [सं० आतत√अय्(गति)+णिनि] [स्त्री० आततायिनी] १. वह जिसने किसी की जान लेने के लिए धनुष पर तीर चढ़ाया हो। २. वह जो आग लगाकर विष देकर अथवा हत्या करके लोगों को लूटना और सताता हो। ३. बहुत बड़ा उपद्रवी और दुष्ट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतनन  : पुं० [सं० आ√तन्+ल्युट्-अन] खींचने, तानने या फैलाने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतनिक  : वि० [सं० ] १. जिसमें किसी प्रकार का खिंचाव या तनाव हो। तनाव से युक्त। २. (स्थिति) जिसमें किसी प्रकार की आशंका, उत्तेजना, विकलता आदि हो। (टेन्स उक्त दोनों अर्थों में)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतप  : पुं० [सं० आ√तप् (तपना या तपाना)+घ] [वि० आतपी, भू० कृ० आतप्त, भाव० आतपता] १. सूर्य का प्रकाश। धूप। घाम। २. गरमी। ताप। ३. ज्वर। बुखार। वि० दुःख या पीड़ा देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतपत्र  : पुं० [सं० आतप√त्रै (रक्षा करना)+क] १. राजा का छत्र। २. धूप से बचने के लिए पत्तों या रेशम का बनाया हुआ छोटा छाता। (पैशसोल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतपन  : पुं० [सं० आ√तप्+ल्युट्-अन] १. तपाना। २. कष्ट देना। ३. [आ√तप्+ल्यु-अन] शिव का एक नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतप-स्नान  : पुं० [सं० तृ० त०] स्वास्थ्य ठीक रखने के विचार से धूप में इस प्रकार बैठना या लेटना कि सारे शरीर पर उसका प्रभाव पड़े। (सन-बाथ)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतपीय  : वि० [सं० आतप+छ-ईय] आतप-संबंधी। आतप का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतपोदक  : पुं० [सं० आतप-उदक, मध्य० स०] मृग-तृष्णा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतम  : वि० =आत्म। पुं० १. आत्मा। २. ब्रह्म।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतमहन  : पुं० दे० ‘आत्मघाती’।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतमा  : स्त्री० =आत्मा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतर  : पुं० [सं० आ√तृ (तैरना)+अप्] १. नाव आदि से पार उतरने का भाड़ा। उतराई। खेवा। २. मार्ग या यात्रा संबंधी शुल्क।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतर्पण  : पुं० [सं० आ√तृप् (तृप्ति)+णिच्+ल्युट्-अन] तृप्त या प्रसन्न करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतश  : स्त्री०-आतिश। (आतश के यौ० के लिए दे० ‘आतिश’ के० यौ)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतशक  : पुं० [फा०] [वि० आतशकी] दुष्ट मैथुन से जननेद्रिंय में होनेवाला एक रोग। गरमी या फिरंग नाम का रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतस  : स्त्री० =आतिश (आग)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतापि  : पुं० [सं० आ√तप्+इणि] एक राक्षस जिसे अगस्त्य मुनि ने चबा डाला था।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतापी (पिन्)  : पुं० [सं० आ√तप्+णिनि] १. चील पक्षी। २. आतापि नामक राक्षस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आति  : स्त्री० [सं० √अत्+इण्] एक प्रकार का पक्षी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिथेय  : पुं० [सं० अतिथि+ढक-एय] १. अतिथि सत्कार की सामग्री। २. वह जो अच्छी तरह से अतिथियों का स्वागत करता हो। ३. अतिथि के रूप में किसी को अपने यहाँ ठहरानेवाला। मेजबान। (होस्ट) वि० [सं० ] १. अतिथि संबंधी। २. अतिथियों के लिए उपयुक्त या योग्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिथ्य  : पुं० [सं० अतिथि+ञ्य] १. अतिथि होने की अवस्था या भाव। २. अतिथि का होनेवाला स्वागत और सत्कार। मेहमानदारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिथ्य-सत्कार  : पुं० [सं० कर्म०स०] घर आये हुए अतिथि का स्वागत तथा उसकी सेवा तथा सत्कार करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिदेशिक  : वि० [सं० अतिदेश+ठक्-इक] अतिदेश संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिपात्य  : वि० [सं० अतिपात+ष्यञ्] अतिपात या हिंसा से संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिपात्य-शांति  : स्त्री० [सं० ष० त०] वह धार्मिक कृत्य जो अनजान में नित्य होनेवाली हिंसा या अतिपात के पापों से छूटने के लिए किया जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिवाहिक  : वि० [सं० अतिवाह+ठक्-इक] १. अतिवाह-संबंधी। २. आत्मा के एक शरीर से निकलने पर उसे दूसरे शरीर में ले जानेवाला। (माध्यम)। पुं० १. मृत्यु के बाद प्राप्त होनेवाला वह लिंग शरीर जिसे धारणकर जीव दूसरे लोक में जाता है। २. उपनिषदों के अनुसार वे देवता जो आत्मा के एक शरीर से दूसरे शरीर में पहुँचाते हैं। ३. पाताल का निवासी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिश  : स्त्री० [फा०] १. अग्नि। आग। २. बहुत अधिक गरमी या सहज में और चतुरता से कर लेता हो। ३. कोप। क्रोध। गुस्सा। वि० १. बहुत गरम। २. बहुत उग्र या तीव्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशखाना  : पुं० [फा०] १. कमरे में वह स्थान जहाँ उसे गरम करने के लिए आग रखी जाती है। २. पारसियों का अग्नि-मंदिर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशदान  : पुं० [फा०] १. आग रखने का पात्र। अँगीठी। २. दे० ‘अतिशखाना’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशपरस्त  : पुं० [फा०] १. अग्नि की पूजा करनेवाला व्यक्ति। २. पारसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशबाज  : पुं० [फा०] आतशदबाजी बनाने तथा छोड़नेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशबाजी  : स्त्री० [फा०] बारूद, गंधक, शीरे आदि के योग से बनी हुई चीजें जिनके जलने पर रंग बिरंगी चिनगारियाँ निकलती है। अग्निकीड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशयिक  : वि० [सं० अतिशय+ठक्-इक] १. अतिशय-संबंधी। २. बहुत अधिक। अतिशय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशय्य  : पुं० [सं० अतिशय+ष्यञ्] अतिशय होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशी  : वि० [फा० आतशी] १. आतश या आग से संबंध रखनेवाला। अग्नि संबंधी। २. आग की लपट जैसा लाल। जैसे—आतिशी रंग। ३. अग्नि उत्पन्न करनेवाला। जैसे—आतिशी शीशा। ४. जो आग में रखने पर भी न टूटे या न जले। पुं० कुछ बादामी रंगत लिए हुए एक प्रकार का लाल रंग। (फायररेड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतिशी शीशा  : पुं० [फा०] एक प्रकार का शीशा जिसमें से सूर्य की किरणें किसी एक बिंदु से होकर निकलती तथा अग्नि उत्पन्न करती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आती  : स्त्री० =आति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतीत  : वि० पुं०=अतीत। उदाहरण—अजपा जाप जपंता गोरष आतीत अनूपन ग्यानं।—गोरखनाथ।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतीपाती  : स्त्री० [दे० पाती-पत्ती] लड़को का एक खेल जिसमें एक लड़के को चोर बनाकर उसे किसी पेड़ की पत्ती लेने भेजते हैं और आप छिप जाते हैं। पत्ती लेकर लौटने पर वह लड़का जिसे छू लेता है वहीं चोर माना जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुर  : वि० [सं० आ√अत् (सतत गमन)+उरच्] १. जिसे घाव या चोट नगी हो। घायल। २. उत्कट आकांक्षा या इच्छावाला। ३. जो किसी कार्य या फल की विकलता पूर्वक प्रतीक्षा करता हो और बहुत जल्दी उसकी सिद्धि या प्राप्ति चाहता हो। उतावला। ४. (कार्य) जो बिना अच्छी तरह सोचे समझे केवल विकलता की दशा में जल्दी-जल्दी कर लिया जाए। जैसे—आतुर संन्यास। ५. बेचैन। विकल। अव्य० बहुत जल्दी और घबराहट में। पुं० १. बीमारी। रोग। २. बीमार। रोगी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुरता  : स्त्री० [सं० आतुर+तल्-टाप्] १. आतुर होने की अवस्था या भाव। २. उतावलापन। जल्दी। ३. बीमारी। रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुरताई  : स्त्री० =आतुरता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुर-सन्यास  : स्त्री० [सं० ष०त०] ऐसा सन्यास जो रुग्ण अथवा सांसारिक जीवन से दुखी और निराश होने की दशा में केवल घबराहट और जल्दी में ग्रहण किया जाए।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुराना  : अ० [सं० आतुर] किसी काम या बात के लिए बहुत अधिक आतुर या उतावला होना। स०किसी को आतुर या उतावला करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुरालय  : पुं० [सं० आतुर-आलय, ष० त०] आतुरशाला। चिकित्सालय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुरी  : स्त्री० [सं० आतुर्य+ङीष्, यलोप]=आतुरता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतुर्य  : पुं० [सं० आतुर+ष्यञ्]-आतुरता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतृप्त  : वि० [सं० आ√तृप्+क्त] जो अच्छी तरह हुआ हो। अव्य० [सं० ] अच्छी तरह से तृप्त होकर। उदाहरण—पै पीबो आतृप्त ठिकाने मुनि तेहिं ल्यावै।—रत्ना०।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आतोद्य  : पुं० [सं० आ√तृद् (पीड़ित करना)+ण्यत्] पुरानी चाल का एक प्रकार का बाजा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्त  : भू० कृ० [सं० आ√दा(दान)+क्त] १. अपने ऊपर लिया हुआ। अंगीकृत। २. लिया हुआ। गृहीत। जैसे—आत्त प्रतिदान-ली हुई चीज लौटाना। ३. माना हुआ। स्वीकृत। ४. खिचा या खीचा हुआ। आकृष्ट। ५. दूर किया निकाला या हटाया हुआ। ६. चूर या भंग किया हुआ। जैसे—आत्तगर्व-जिसका गर्व चूर्ण किया गया हो। ७. अपमानित। तिरस्कृत। ८. हराया या हारा हुआ। पराजित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मंभरि  : पुं० [सं० आत्मन्√भृ(भरण पोषण)+इन्, नि० मुम्] १. जो केवल अपना पेट पालन करना जानता हो। उदरंभरि। २. स्वार्थी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म  : वि० [सं० आत्मन्] १. स्वयं अपने व्यक्तित्व या अपनी आत्मा के चेतन स्वरूप या मन से संबंध रखनेवाला। जैसे—आत्म जिज्ञासा, आत्म दर्शन। आदि। २. अपना। निज का। जैसे—आत्म कथा, आत्म परिचय आदि। पुं० व्यक्ति का निजी चेतन तत्त्व या सत्ता जो समस्त बाह्रा पदार्थों से अलग और भिन्न है। (सेल्फ) जैसे—आत्म चेतन आत्म-पुरुष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मक  : वि० [सं० आत्मन् से] [स्त्री० आत्मिका] १. आत्मा से संबंध रखनेवाला। आत्मा संबंधी। २. मय। युक्त। (यौगिक शब्दों के अंत में) जैसे—ध्वंसात्मक, व्यंग्यात्मक, हास्यात्मक आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-कथा  : स्त्री० [सं० ष० त०] १. अपने संबंध में स्वयं कही या लिखी हुई बातें। २. साहित्य में ऐसी पुस्तक जिसमें किसी व्यक्ति ने सभी मुख्य बातों का वर्णन किया हो। आत्म चरित। (आटोबायोग्राफी)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-कहानी  : स्त्री० =आत्म-कथा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-काम  : वि० [सं० आत्मन्√कम्(चाहना)+णइङ्+अण्] [स्त्री० आत्म कामा] १. अपने संबंध में अथवा आत्मा के संबंध में सब बातें जानने की कामना करने वाला। २. स्वार्थी। मतलबी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मकीय  : वि० [सं० आत्मन्+क+छ-ईय] आत्म या आत्मा के प्रति अनुराग रखनेवाला। २. जिस पर अपना अधिकार हो। अपना। निजी। ३. दे० ‘आत्म’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-गत  : वि० [सं० द्वि०त०] १. जो अपने (व्यक्तित्व) में आया या हुआ हो या अपने (आत्मा) से सबंध रखता हो। अपनी आत्मा में आया या मिला हुआ। २. अपने आप में होनेवाला। ३. अध्यात्म और दर्शन में जो कर्त्ता और विचारक के आत्म (चेतन या मन) में ही उत्पन्न हुआ हो। अथवा उससे संबंध रखता हो। ब्रह्म तत्त्वों या भौतिक पदार्थों से संबद्ध न हो। पर-गत का विपर्याय। (सब्टेक्टिव) ४. कला और साहित्य में (अभिव्यंजना और कृति) जो किसी के आत्म (चेतना या मन) से ही उद्भूत हुई हो और उसकी अनुभूतियों तथा विचारों पर ही आश्रित रहकर उन्हें प्रदर्शित करता हो, ब्राह्म पदार्थों पर आश्रित न हो। परगत का विपर्याय। (सब्जेक्टिव)। पुं० दे० ‘स्वगत-कथन’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-गुप्ता  : स्त्री० [सं० तृ० त०] १. केवाँच। कौछ। २. शतावर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-गौरव  : पुं० [सं० स० त०] अपनी इज्जत या प्रतिष्ठा का ध्यान। आत्म संमान। स्वाभिमान। (सेल्फ रेस्पेक्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-घात  : पुं० [सं० ष० त०] [वि० आत्मघाती] १. स्वयं अपनी हत्या करना। आत्म हत्या। २. स्वयं कोई ऐसा काम करना, जिससे अपनी ही बहुत अधिक हानि हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-घाती (तिन्)  : वि० [सं० आत्मन्√हन् (हिंसा)+णिनि] १. अपने प्राण आप देने या अपनी हत्या करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-घोष  : वि० [सं० आत्मन्√घुष् (शब्द करना)+णिच्+अच्] अपनी प्रशंसा अपने आप करनेवाला। पुं० [ष० त०] १. अपने संबंध में बढ़-चढ़कर बातें करना। २. कौआ। ३. मुरगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-चक्र  : पुं० [ष० त०] दे० ‘आत्मायन’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-चरित  : पुं० [ष० त०] किसी का वह जीवन-चरित जो उसने स्वयं लिखा हो। (आटोबायोग्राफी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-चेतना  : स्त्री० [ष० त०] दर्शन और मनोविज्ञान में वह स्थिति जिसमें किसी प्रकार की अनुभूति होने पर उसके साथ ही इस बात की भी चेतना या ज्ञान होता है कि हमें यह अनुभूति हो रही है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मज  : वि० [सं० आत्मन्√जन् (उत्पन्न होना)+ड] अपने से या अपने द्वारा उत्पन्न। पुं० १. पुत्र। बेटा। लड़का। २. कामदेव। ३. खून। रक्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-जात  : वि० [ष० त०]=आत्मज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-जिज्ञासा  : स्त्री० [ष० त०] [वि० आत्मजिज्ञासु] स्वयं अपने या अपनी आत्मा के सबंध में सब बातें जानने की इच्छा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मज्ञ  : पुं० [सं० आत्मन्√ज्ञा (जानना)+क] अपने आपको अथवा अपनी आत्मा को जाननेवाला व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-ज्ञान  : पुं० [ष० त०] १. अपने संबंध में अथवा आत्मा के संबंध में होनेवाला ज्ञान। २. जीवात्मा और परमात्मा का ज्ञान। ३. ब्रह्म का साक्षात्कार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-ज्ञानी (निन्)  : पुं० [आत्म-ज्ञान+इनि] वह व्यक्ति जिसे आत्म-ज्ञान हुआ हो। आत्मा का स्वरूप जाननेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-तुष्टि  : स्त्री० [ष० त०] १. अपने मन को होनेवाली तुष्टि और प्रसन्नता। २. आत्मज्ञान होने पर मिलने वाला आनंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-त्याग  : पुं० [ष० त०] परोपकार के लिए अपने स्वार्थ या हित का विचार बिलकुल छोड़ देना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-दर्श  : पुं० [ब० स०] दर्पण। शीशा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-द्रोह  : पुं० [ष० त०] स्वयं अपने साथ किया जानेवाला द्रोह या शत्रुता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-द्रोही (हिन्)  : पुं० [सं० आत्मद्रोह+इनि] [स्त्री० आत्म-द्रोहिणी] स्वयं अपने साथ द्रोह या शत्रुता (अपनी हानि) करनेवाला व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-निर्णय  : पुं० [ष० त०] १. अपने संबंध में स्वयं सब बातों का निर्णय या निश्चय करना। २. किसी देश के लोगों का अपनी राजकीय और राजनीतिक व्यवस्था स्वयं निश्चित करना। (सेल्फ डिटर्मिनेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-निवेदन  : पुं० [ष० त०] १. अपने आपको किसी के हाथ नम्रतापूर्वक सौंपना। आत्म-समर्पण। २. नवधा भक्तियों में से एक जिसमें भक्त अपने आप को पूरी तरह से इष्ट देव के चरणों में समर्पित कर देता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-निष्ठा  : स्त्री० [ष० त०]=आत्मविश्वास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मनीन  : पुं० [सं० आत्मन्+ख-ईन] पुत्र। बेटा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मनेपद  : पुं० [अलुक्० स०] १. संस्कृत व्याकरण में धातु में लगनेवाला एक प्रत्यय। २. क्रिया या वह रूप जो उसे उक्त प्रत्यय लगने पर प्राप्त होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-पद  : पुं० [ष० त०] १. वह अवस्था जिसमें आत्मा ब्रह्म के साथ मिलकर उसमें लीन हो जाती है। २. मोक्ष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-पीड़न  : पुं० [ष० त०] आधुनिक मनोविज्ञान में ऐसी प्रवृत्ति या रुचि जिससे अपने आपको पीड़ित करके अथवा किसी के द्वारा पीड़ित कराके ही मनुष्य तृप्त या संतुष्ट होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-प्रक्षेपण  : पुं० [ष० त०] आधुनिक मनोविज्ञान में मानस की वह स्थिति जिसमें वह अपनी भावनाओं,वासनाओं, विचारों आदि का अनजाने में ही दूसरों पर आरोप करने लगता है अथवा दूसरों में उनका विकास, स्थिति आदि पाकर संतुष्ट और सुखी होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-प्रत्यक्ष  : पुं० [ष० त०] दर्शन और धर्म के क्षेत्र में, आत्मा के स्वरूप आदि का होनेवाला ज्ञान व परिचय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-प्रलंबन  : पुं० [ष० त०] आधुनिक मनोविज्ञान में आत्मप्रक्षेपण का ही अधिक उन्नत या उदात्त रूप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-प्रशंसा  : स्त्री० [ष० त०] अपने मुँह से की जानेवाली प्रशंसा या बढ़ाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-बल  : पुं० [ष० त०] १. अपना या निजी बल। २. आत्मा में निहित बल या शक्ति। आत्मिक शक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-बोध  : पुं० [ष० त०] अपने आप या अपनी आत्मा के संबंध में होनेवाला ज्ञान या बोध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-भरित  : वि० [तृ० त०] १. जो स्वयं भरा हो। २. जिसकी सब आवश्यकतायें अपने भीतरी अंगों से ही पूरी हो जाती हों और जिसे बाहर से कुछ लेना न पड़ता हो। (सेल्फ कन्टेन्ड)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-भू  : वि० [सं० आत्मन्√भू (होना)+क्विप्] १. जो अपनी देह या शरीर से उत्पन्न किया गया हो। २. जो आप ही या स्वतः उत्पन्न हुआ हो। आप से आप उत्पन्न होने वाला। पुं० १. पुत्र। बेटा। २. कामदेव। ३. ब्रह्मा, विष्णु और शिव, जिनके संबंध में यह माना जाता है कि ये आप ही आप उत्पन्न हुये थे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-योनि  : पुं० [ब० स०] १. ब्रह्मा। २. विष्णु। ३. शिव। ४. कामदेव। वि० =आत्मभू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-रक्षक  : वि० [ष० त०] [स्त्री० आत्मरक्षिका] अपनी रक्षा आप करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-रक्षण  : पुं० [ष० त०] अपनी रक्षा आप या स्वयं करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-रक्षा  : स्त्री० [ष० त०] स्वयं की जानेवाली अपनी रक्षा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-रत  : वि० [स० त०] [भाव० आत्मरति] १. जो सदा अपने आप में लीन रहता हो, फलतः ब्रह्मज्ञानी। २. सदा अपना ही ध्यान रखनेवाला। पुं० बड़ी इंद्रायन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-रति  : स्त्री० [स० त०] १. अपने आप में रत या लीन रहने की अवस्था या भाव। २. ऐसा आत्म-ज्ञान (ब्रह्म-ज्ञान) जो और किसी ओर ध्यान न जाने दे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-वंचक  : वि० [ष० त०] अपने आप को धोखा देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मवाद  : पुं० [ष० त०] दार्शनिक क्षेत्र की दो मुख्य धाराओं या भेदों में से एक जिसमें आत्मा की वास्तविक सत्ता मानी जाती है अथवा उसे अजर, अमर अविकारी चेतन और सब बातों का साक्षी समझते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मवादी( दिन्)  : वि० [आत्मन्√वद् (बोलना)+णिनि] आत्मवाद संबंधी। आत्मवाद का। पुं० वह जो आत्मवाद का अनुयायी, पोषक या समर्थक हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विक्रय  : पुं० [ष० त०] [वि० आत्म-विक्रयी] १. स्वयं ही अपने आप को बेच डालना। २. धन लेकर अपने आप को पूरी तरह से किसी के अनुयायी या दास बनाना। ३. आत्म-सम्मान त्याग कर किसी के अधीन होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मविक्रयी (यिन्)  : वि० [सं० आत्म-विक्रय+इनि] १. अपने आप को स्वयं बेचनेवाला। २. धन लेकर दूसरों का अनुयायी या दास बननेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विघटन  : पुं० [ष० त०] आधुनिक मनोविज्ञान में मनुष्य की वह मानसिक स्थिति जिसमें वह किसी प्रकार के मानसिक द्वंद्व या संघर्ष के समय अपने अहं को अपने से भिन्न और स्वतंत्र वस्तु मानकर उसका अध्ययन, आलोचन, निरीक्षण या विश्लेषण करता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विचय  : पुं० [ष० त०] अपनी तलाशी या नंगा-झोली स्वयं देना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विचार  : पुं० [ष० त०] १. अपने संबंध में अपने मन में कुछ सोचना। २. यह सोचना कि हमारा शरीर या आत्मा क्या है और परमात्मा से हमारा कैसा संबंध है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विद्  : पुं० [सं० आत्म√विद् (जानना)+क्विप्] वह जो आत्मा और परमात्मा का स्वरूप पहचानता हो। ब्रह्मज्ञानी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विद्या  : स्त्री० [ष० त०] आत्मा और परमात्मा का ज्ञान करानेवाली विद्या। अध्यात्मविद्या। ब्रह्मविद्या।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विश्वास  : पुं० [स० त०] अपने कार्य, मत, शक्ति, सिद्धांत आदि की उपयुक्तता या सत्यता के संबंध में होनेवाला दृढ़ निश्चय। अपने पर भरोसा होना। (सेल्फ काँन्फिडेन्स)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विस्मृत  : वि० [ब० स०] [भाव० आत्मविस्मृति] जो किसी मनोविकार की प्रबलता के कारण अपने आपको भूल गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-विस्मृति  : स्त्री० [ष० त०] किसी ध्यान में मग्न या लीन रहने के कारण अपने आप को बिलकुल भूल जाना। आत्म विस्मृत होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-श्लाघा  : स्त्री० [ष० त०] [वि० आत्मश्लाघी] अपने मुँह से की जानेवाली प्रशंसा। आत्म-प्रशंसा। (सेल्फ-प्रेज)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मश्लाघी (घिन्)  : पुं० [सं० आत्म-श्लाघा+इनि] वह जो अपनी प्रशंसा स्वयं करे। आत्म-प्रशंसक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-संभव  : वि० [ब० स०] [स्त्री० आत्मसंभवा] १. अपने शरीर से उत्पन्न। २. दे० आत्मभू। पुं० पुत्र। बेटा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-संयम  : पुं० [ष० त०] अपनी अनुचित इच्छाओं वासनाओं आदि को दबाकर ठीक मार्ग पर चलना और नीति संगत आचरण करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-संवेदन  : पुं० [ष० त०] अपनी आत्मा और अनुभव का ज्ञान। आत्म-बोध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-संस्कार  : पुं० [ष० त०] स्वयं किया जानेवाला अपना संस्कार या सुधार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-समर्पण  : पुं० [ष० त०] १. अपने आपको किसी के हाथ सौंपना। पूरी तरह से किसी के वश या अधीन में हो जाना। २. अपने आपको किसी काम में, अपनी सारी शक्तियाँ सहित लगा देना। ३. युद्ध विवाद आदि अपनी ओर से बंद करके अपने आपको प्रतिपक्षी या शत्रु के हाथ में सौंपना। (सरेन्डर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-सम्मान  : पुं० [ष० त०] निजी या व्यक्तिगत सम्मान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-साक्षी (क्षिन्)  : पुं० [ष० त०] जीवों का ब्रह्म।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मसात्  : वि० [सं० आत्मन्+साति] जो पूरी तरह से अपने अंतर्गत कर लिया गया हो। अपने आप में लीन किया, मिलाया या समाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-सिद्ध  : वि० [तृ० त०] १. (बात) जो आप ही सिद्ध हो। जिसे सिद्ध करने की आवश्यकता न हो। २. (कार्य) जिसे किसी ने स्वयं सिद्ध किया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-सिद्धि  : स्त्री० [ष० त०] १. आत्मा तथा परमात्मा का ठीक और पूरा ज्ञान। २. मोक्ष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-स्तुति  : स्त्री० [ष० त०] =आत्म-प्रशंसा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-हत्या  : स्त्री० [ष० त०] १. अपने आपको स्वयं मार डालना। अपने प्राण जान-बूझकर अपने हाथों नष्ट करना। आत्म-घात। (सूइसाइड्)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्महन्  : पुं० [सं० आत्मन्√हन्+क्विप्] वह जो अपनी हत्या स्वयं करे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्म-हिंसा  : स्त्री० =आत्महत्या।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मा  : स्त्री० [सं०√अत् (सततगमन)+मनिण्] [वि० आत्मिक आत्मीय] १. एक अविनाशी अतींद्रिय और अभौतिक शक्ति जो काया या शरीर में रहने पर उसे जीवित रखती और उससे सब काम करवाती है और उसके शरीर में न रहने पर अचेष्ट निक्रिष्य तथा मृत हो जाता है। (सोल)। मुहावरा—आत्मा ठंड़ी होना=इच्छा पूरी होने पर पूर्ण तृप्ति या संतोष होना। २. किसी वस्तु आदि का गूढ़, मूल तथा सार भाग। (स्परिट) जैसे—काव्य की आत्मा, शब्द की आत्मा। ३. चित्त। ४. बुद्धि। ५. मन। ६. अंहकार। ७. ब्रह्म। ८. सूर्य। ९. अग्नि। १. पवन। वायु। हवा। ११. वस्तु या व्यक्ति का धर्म या स्वभाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माधिक  : वि० [सं० आत्म-अधिक, पं० त०] १. जो अपने आप (या शरीर) से भी बढ़कर प्रिय हो। २. वक्ता के व्यक्तित्व से बढ़कर होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माधीन  : वि० [सं० आत्म-अधीन, ष० त०] जो स्वयं अपने वश में हो। पुं० १. पुत्र। बेटा। २. विदूषक। मसखरा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मानंद  : पुं० [सं० आत्म-आनंद, ष० त०] वह आनंद या सुख जो अपनी आत्मा का ज्ञान और उसमें लीन होने पर प्राप्त होता है। परमानंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मानुभव  : पुं० [सं० आत्म-अनुभव, ष० त०] १. स्वयं प्राप्त किया हुआ अनुभव। २. अपनी आत्मा के अस्तित्व तथा स्वरूप के संबंध में होनेवाला अनुभव या ज्ञान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मानुभूति  : स्त्री० [सं० आत्म-अनुभूति, ष० त०] १. आत्मा के स्वरूप आदि के संबंध में होनेवाला अनुभव या ज्ञान। २. अपने आपको होनेवाली अनुभूति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मानुरूप  : पुं० [सं० आत्म-अनुरूप, ष० त०] जो गुण जाति आदि के विचार से अपने अनुरूप या अपने जैसा हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माभिमान  : पुं० [सं० आत्म-अभिमान, ष० त०] [वि० आत्मभिमानी] अपनी प्रतिष्ठा का ध्यान या विचार। अपने मान-अपमान का ध्यान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माभिमानी (निन्)  : पुं० [सं० आत्म-अभिमानी, ष० त०] [स्त्री० आत्मभिमानिनी] वह जिसे अपनी प्रतिष्ठा और उसकी रक्षा का सदा पूरा ध्यान रहता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माभिमुख  : वि० [सं० आत्म-अभिमुख, ष० त०] जो आत्मा की ओर अभिमुख हो। अंतर्मुख।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मायन  : पुं० [सं० आत्म-अयन, ष० त०] १. आत्माओं के आने-जाने का मार्ग। २. प्रेतात्मवादियों की वह बैठक या चक्र जिसमें परलोक गत आत्माओं से संपर्क स्थापित करके प्रेतात्मवाद के रहस्य जाने जाते है। आत्म-चक्र। (सियंस)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माराम  : पुं० [सं० आत्म-आराम, ब० स०] १. अपनी आत्मा में रमण करने या लीन रहनेवाला अथवा आत्मज्ञान से तृप्त योगी। २. आत्मा या जीवरूपी व्यक्ति। ३. स्वयं अपनी आत्मा और व्यक्तित्व के संबंध में प्रयुक्त होनेवाली संज्ञा। जैसे—हमारे आत्माराम तो यह बात नहीं मानते। ४. तोते का लोक-प्रचलित नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मार्थी (र्थिन्)  : वि० [सं० आत्म-अर्थिन्,ष०त०] [स्त्री० आत्मर्थिनी] १. अपना ही भला चाहनेवाला। २. स्वार्थी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मार्पण  : पुं० [सं० आत्म-अर्पण, च० त०] १. दे० ‘आत्म-निवेदन’। २. दे० ‘आत्म-समर्पण’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मावलंबन  : पुं० [सं० आत्म-अवलंबन, ष० त०] [वि० आत्मवलंबी] दूसरे के आसरे न रहकर सदा अपने आप पर पूरा भरोसा रखने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मावलंबी (बिन्)  : पुं० [सं० आत्म-अवलंब, ष० त०+इनि] आत्मावलंबन करने अर्थात् अपने भरोसे सब काम करनेवाला व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्माश्रय  : पुं० [सं० आत्म-आश्रय, ष० त०] अपनी बुद्धि योग्यता या शक्ति पर अथवा अपनी आत्मा का ही आसरा या भरोसा होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मिक  : वि० [सं० आत्मन्+ठञ्-इक] [स्त्री०आत्मिका] १. आत्मा संबंधी। आत्मा का। २. अपना। निजी। ३. मानसिक। ४. बहुत आत्मीय या समीपी। (इन्टिमेट)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मिकता  : स्त्री० [आत्मिक+तल्-टाप्] १. आत्मिक होने की अवस्था या भाव। २. दे० ‘आत्मीयता’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मिकी  : स्त्री० [सं० आत्मा० से] वह विद्या या शास्त्र जिसमें आत्माओं के क्रिया-कलापों उनके संदेशों आदि का अध्ययन होता है। (साइकिक)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मिकीय  : वि० [हिं० आत्मकीय] आत्मिकी से सबंधित। आत्मिकी का।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मीकृत  : भू० कृ० [सं० आत्मन्+च्वि, ईत्व√कृ (करना)+क्त] अपनाया हुआ। अंगीकृत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मीभाव  : पुं० [सं० आत्मन्+च्वि, ऊत्व√भू०(होना)+घ़ञ्] आत्मा या परमात्मा में विलीन होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मीय  : वि० [सं० आत्मन्+ईय] [स्त्री० आत्मीया] १. आत्म या निज का। अपना। २. आंतरिक। घनिष्ठ। आत्मिक। (इन्टिमेट)। पुं० इष्ट-मित्र और बहुत पास के सबंधी जिनके साथ अपनायत का व्यवहार होता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मीयता  : स्त्री० [सं० आत्मीय+तल्-टाप्] अपनापन। स्नेह संबंध। आत्मीय होने की अवस्था या भाव। (इन्टिमेसी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोक्ति  : स्त्री० [सं० आत्म-उक्त, स० त०] अभिनय आदि के समय किसी पात्र का आपसे आप, बिना किसी को उद्दिष्ट किये कोई बात कहना। स्वगत कथन। (माँनोलोग)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोत्सर्ग  : पुं० [सं० आत्म-उत्सर्ग, ष० त०] दूसरे के हित के लिए अपने आपको पूरी तरह से लगा देना। आत्मबलिदान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोदय  : पुं० [सं० आत्म-उदय, ष० त०] अपना अभ्युदय या उत्थान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोद्वार  : पुं० [सं० आत्म-उद्धार,ष०त०] १. अपनी आत्मा को संसार के बंधनों से मुक्त करके मोक्ष का अधिकारी बनना। २. स्वयं किया जाने वाला अपना उद्धार या छुटकारा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोद्भव  : पुं० [सं० आत्म-उद्भव,ब० स०] १. पुत्र। २. कामदेव। वि० =आत्मभू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोन्नति  : स्त्री० [सं० आत्म-उन्नति, ष० त०] १. आत्मा की उन्नति। २. स्वयं की जानेवाली अपनी भौतिक उन्नति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोपजीवी (विन्)  : पुं० [सं० आत्मन्-उप√जीव् (जीना)+णिनि] वह जो अपने परिश्रम से जीविका उपार्जित करता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मोपम  : वि० [सं० आत्म-उपमा, ब० स०] अपने जैसा। अपने समान। जैसे—सबको आत्मोपम समझना ही बुद्धिमानों का काम है। पुं० पुत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्मौपम्य  : पुं० [सं० आत्म-औपम्य, ष० त०] १. आत्मोपम का अभाव। २. सबको अपने जैसा मानना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्यंतिक  : वि० [सं० अत्यंत+ठञ्-इक] [स्त्री० आत्यंतिकी] १. अत्यंत संबंधी। २. अत्यंत या बहुत अधिक मात्रा में होनेवाला। हद दरजे का। ३. अत्यंत या चरम सीमा तक पहुँचा हुआ। ४. अनंत। असीम। ५. सार्वकालिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्ययिक  : वि० [सं० अत्यय+ठक्-इक] १. अत्यय संबंधी या अत्यय के रूप में होनेवाला। २. हानिकारक। ३. अशुभ। ४. दे० आपातिक। (एमर्जेन्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्रेय  : वि० [सं० अत्रि+ढक्-एय] १. अत्रि संबंधी। २. अत्रि ऋषि के गोत्र का। पुं० १. अत्रि ऋषि का वंशज। २. अत्रि के पुत्र दत्त, दुर्वासा और चंद्रमा। ३. आत्रेयी नदी के आस-पास का प्रदेश। (आधुनिक दीनाजपुर)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्रेयायण  : पुं० [सं० आत्रेय+फक्-आयन] आत्रेय का वंशज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आत्रेयी  : स्त्री० [सं० आत्रेय+ङीष्] १. अत्रि वंश की तपस्वनी स्त्री जो वेदांत की अच्छी ज्ञाता थी। २. एक प्राचीन नदी जो आज-कल के दीनाजपुर में है। ३. ऋतुमती या रजस्वला स्त्री।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथ  : पुं० [सं० अर्थ] १. अर्थ। मतलब। माने। २. अभिप्राय। आशय। ३. गूढ़ अर्थवाली बात। उदाहरण—गीता वेद भागवत में प्रभु यों बोले है आथ।—सूर। अव्य० लिए। वास्ते।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथन  : पुं० [सं० अस्तमन] अस्त होने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथना  : अ० [सं० अस्-होना,सं० अस्ति,प्रा०अत्थि] अस्तित्व से युक्त या वर्त्तमान होना। उदाहरण—यह जग कहा जो अथहि न आथी।—जायसी। अ० [सं० अस्तमन] अस्त होना। डूबना। उदाहरण—गहथा आथा गहथो ऊगै।—भड्डरी।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथर्वण  : पुं० [सं० अर्थवन्+अण्] १. अथर्व वेद का ज्ञाता ब्राह्मण। २. अथर्व वेद में बतलाये हुए कर्म या कृत्य। ३. अथर्वा ऋषि का वंशज या उनके गोत्र का व्यक्ति। ४. पुरोहित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथि  : स्त्री० [सं० अस्ति, प्रा० अत्थि, आथि] अस्तित्व। उदाहरण—एहिं जग काह जो आथि बिआयी।—जायसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आथी  : स्त्री० [सं० स्थात्, हिं० थाती] १. पूँजी। थाती। उदाहरण—साथी आथि निजाथि जो सकै साथ निरबाहि।-जायसी। २. धन संपत्ति। ३. धन-संपन्नता। स्त्री० [सं० अस्ति] स्थिरता। अ०=है।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदंश  : पुं० [सं० आ√दंश् (डसना)+घञ्] १. दाँत से काटना। २. दाँत से काटने पर होनेवाला घाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद  : वि० [सं० आ√दा(दान)+क] १. ग्रहण या प्राप्त करनेवाला। २. समस्त पदों के अन्त में, प्रत्यय के रूप में खाने या खा जानेवाला। जैसे—व्यालाद=गरुड़। स्त्री० =याद। (राज०) स्त्री० =आदी। (अदरख)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदत  : स्त्री० [अ०] १. अभ्यास। २. टेव। बान। ३. प्रकृति। स्वभाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदत्त  : वि० [सं० आ√दा+क्त] १. ग्रहण किया या लिया हुआ। गृहीत। २. दे० आत्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदम  : पुं० [अ०] १. ईसाइयों मुसलमानों यहूदियों आदि के अनुसार वह पहला व्यक्ति (हिन्दुओं के मनु का सम-कक्ष) जिससे सारी मानव जाति उत्पन्न हुई है। सृष्टि का आदि मनुष्य या व्यक्ति। २. आदम की संतान अर्थात् आदमी मनुष्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदम-कद  : पुं० [अ०+फा०] जो ऊँचाई में साधारणतः मनुष्य की ऊँचाई के बराबर हो। जैसे—आदम कद पेड़, आदम-कद शीशा आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदम-खोर  : वि० [अ०+फा०] आदमी या मनुष्य को अथवा उसका मांस खानेवाला। नर-भक्षी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदमजाद  : पुं० [अ०+फा०] आदम की संतान। आदमी। मनुष्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदमियत  : स्त्री० =आदमीयत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदमी  : पुं० [अ०] [भाव० आदमीयत] १. आदम के वंशज या संतान। मनुष्य। मानव। जैसे—सड़क पर हजारों आदमी इकट्ठे हो गये। २. प्रौढ़ या वयस्क मनुष्य (बालक और स्त्री से भिन्न)। जैसे—अभी तक इस संबंध में तीन आदमी पकड़े गये है। ३. समझदार और होशियार व्यक्ति। जैसे—अब लड़कपन छोड़कर आदमी की तरह बातें करना सीखों। ४. किसी विशिष्ट कार्य के लिए नियुक्त किया हुआ व्यक्ति। जैसे—(क) उनका आदमी आकर यह पुस्तक ले जायगा। (ख) काम जल्दी कराना हो तो चार आदमी और रख लो। ५. विवाहित स्त्री के विचार से उसका पति। स्वामी। जैसे—मजदूरनी तो आ गयी पर उसका आदमी अभी नहीं आया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदमीयत  : स्त्री० [अ०] १. आदमी होने की अवस्था या भाव। मनुष्यत्व। २. भले आदमी का सा आचरण और व्यवहार। शिष्टता। सभ्यता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर  : पुं० [सं० आ√दृ(सम्मान करना)+अप्] १. किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा सम्मान का वह पूज्य भाव जो दूसरों के मन में रहता है। २. उक्त के विचार से किया जाने वाला सत्कार। ३. किसी के प्रति अनुराग होने के कारण किया जानेवाला सत्कार और सम्मान। ४. बच्चों के साथ किया जानेवाला दुलार। (पूरब)। पुं० =आर्द्रा (नक्षत्र)। वि० =आर्द्र (गीला या तर)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदरण  : पुं० [सं० आ√दृ+ल्युट्-अन] अनुराग श्रद्धा आदि के कारण किसी का आदर या सत्कार करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदरणीय  : वि० [सं० आ√दृ+अनीयर] [स्त्री० आदरणीया] जो आदर प्राप्त करने का अधिकारी हो। आदर किये जाने के योग्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदरना  : स० [सं० आदरण] १. आदर या सत्कार करना। २. इज्जत या सम्मान करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर-भाव  : पुं० [सं० आदर-भाव,ष०त०] किसी का किया जानेवाला आदर या सत्कार। आव-भगत।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदरस  : पुं०=आदर्श।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्य  : वि० [सं० आ√दृ (आदर करना)+यत्] =आदरणीय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्श  : पुं० [सं० आ√दृश् (देखना)+घञ्] १. अवलोकन करना। देखना। २. दर्पण। शीशा। ३. टीका या व्याख्या। ४. प्रतिलिपि। ५. मानचित्र। नक्शा। ६. किसी बात या वस्तु की वह काल्पनिक श्रेष्ठतम अवस्था रूप या स्थिति जिसका हम अनुकरण करना चाहते हों, अथवा जिसके पास तक पहुँचना चाहते हों। जैसे—राम-राज्य का आदर्श। ७. वह श्रेष्ठतम वस्तु (या व्यक्ति) जिसके अनुकरण पर वैसी ही और वस्तु (या व्यक्ति) बनने बनाने की भावना उत्पन्न होती है। नमूना। प्रतिमान। (आइडियल, अंतिम दोनों अर्थों के लिए)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शक  : वि० [सं० आ√दृश्+णिच्+ण्वुल् वा√दृश+ण्वुल्-अक] १. दिखलाने या देखनेवाला। २. आदर्श संबंधी। पुं० [आदर्श+कन्] दर्पण। शीशा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शन  : पुं० [सं० आ√दृश्+ल्युट्-अन] १. देखना या दिखलाना। २. दृश्य। ३. दर्पण। शीशा। ४. आदर्श प्रस्तुत करना या बनाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्श-मंदिर  : पुं० [सं० ष० त०] शीशे का बना हुआ अथवा ऐसा घर जिसमें बहुत से शीशे लगे हों। शीश महल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शवाद  : पुं० [ष० त०] [वि० आदर्शवादी] १. यह सिद्धांत जो मनुष्य को सदा आदर्श (अच्छी से अच्छी बाते) अपने सामने रखकर उनकी सिद्धि या प्राप्ति के लिए सब कार्य करने चाहिए। २. दार्शनिक क्षेत्र में यह सिद्धांत कि संसार के सभी दृश्य पदार्थ मनुष्य की कल्पना या मन से ही संभूत है और यह नहीं कहा जा सकता कि मन से पृथक् या भिन्न कोई वास्तविकता है। ३. कला और साहित्य में कल्पनागत बात या विषय को आदर्श रूप देने की प्रणाली या शैली यथार्थवाद, का विपर्याय। (आइडियलिज्म)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शवादी(दिन्)  : वि० [सं० आदर्शवाद+इनि] आदर्शवाद संबंधी। पुं० १. आदर्शवाद को मानने और उसके अनुसार चलनेवाला व्यक्ति। २. ऐसा कलाकर या लेखक जो काल्पनिक आदर्श को अपनी कृति का विषय बनाता हो। (आइडियलिस्ट, दोनों अर्थों में)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्श-विज्ञान  : पुं० [सं० ष०त०] विज्ञान की दो शाखाओं में से एक जिसमें वे विज्ञान आते हैं जो कल्पना आदि के आधार पर आदर्शों का विवेचन करते हैं। (नाँरमेटिव साइंस) जैसे—नीति विज्ञान। (दूसरी शाखा तात्त्विक विज्ञान है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शित  : भू० कृ० [सं० आ√दृश्+णिच्+क्त] १. दिखलाया हुआ। प्रदर्शित। २. निर्देश किया हुआ। निर्दिष्ट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदर्शीकरण  : पुं० [सं० आदर्श+च्वि,ईत्व√कृ(करना)+ल्युट्-अन] किसी वस्तु कार्य आदि को आदर्श रूप देने की क्रिया या भाव। (आइडियलाइजेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदहन  : पुं० [सं० आ√दह् (जलाना)+ल्युट-अन] १. अच्छी तरह जलना या जलाना। २. जलन। दाह। ३. ईर्ष्या। डाह। ४. शमशान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदा  : पुं० =अदरक। (आदी)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदाता (तृ)  : वि० [सं० आ√दा(दान)+तृच्] १. पानेवाला। २. प्रापक। (रिसीवर) पुं० १. किसी विवाद ग्रस्त संपत्ति का अथवा दिवालिया संस्था का वह व्यवस्थापक जो न्यायालय द्वारा नियुक्त हो। (रिसीवर) २. =आग्राहक। ४. =प्रतिग्राहक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदान  : पुं० [सं० आ√दा+ल्युट-अन] १. ग्रहण, प्राप्त या स्वीकार करना। लेना। २. लक्षण। चिन्ह। ३. निदान। ४. बंधन। ५. वह धन जो कर, शुल्क आदि के रूप में लिया जाने को हो या प्राप्य हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदान-प्रदान  : पुं० [सं० द्वन्द्व० स०] किसी से कुछ लेना और उसे कुछ देना। जैसे—वस्तुओं और विचारों का आदान-प्रदान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदाद  : पुं० [अ० अदब का बहु०] १. आचरण, व्यवहार आदि के नियम। २. नमस्कार। प्रणाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदाय  : वि० [सं० आदेय] १. जो किसी से लेने, ग्रहण करने या प्राप्त करने के येग्य हो। प्राप्य। २. प्राप्त किया हुआ। पुं० १. किसी से कुछ लेने या ग्रहण करने की क्रिया या भाव। २. वह धन या लोन जो किसी से अधिकारपूर्वक लिया जा सकता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदायी (यिन्)  : पुं० [सं० आ√दा+णिनि, युक् आगम] =आदाता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि  : पुं० [सं० आ√दा+कि] १. मूल कारण। २. आरंभ। शुरू। ३. परमात्मा। वि० १. पहला। जैसे—आदि कवि। २. आरंभ का। अव्य० एक अव्यय जिसका अर्थ होता है- इसी प्रकार या और बाकी सब भी, और जिसका प्रयोग कुछ चीजें गिनाने या बातें बताने के बाद यह सूचित करता है कि इस प्रकार की और सब चीजें या बातें भी इसी वर्ग में समझ ली जानी चाहिए। इत्यादि। वगैरह। (एट-सेट्रा) जैसे—(क) गौ, घोड़ा हाथी आदि। (ख) कपड़े गहने बरतन आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिक  : अव्य० [सं० आदि+क] आदि। वगैरह। (इस बात का सूचक कि ऐसे ही और भी समझें) जैसे—धर्म गुरु, पुरोहित आदिक। वि० किसी काम के आरंभ में होनेवाला। (इनीशियल) जैसे—(क) झगड़े या आदिक कारण। (ख) उत्सप का आदिक व्यय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-कल्प  : पुं० [सं० कर्म० स०] भू० विज्ञान के अनुसार पाँच कल्पों से पहला कल्प जिसमें प्रायः सारे पृथ्वीतल पर ज्वालामुखियों का विस्फोट होता रहा था। अनुमान है कि यह कल्प आज से दो अरब वर्ष पहले हुआ था। (आर्कियाजोइक एरा)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-कवि  : पुं० [सं० कर्म० स०] १. वाल्मीकी। २. शुक्राचार्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-कारण  : पुं० [सं० कर्म० स०] सृष्टि का पहला उपादान या मूल कारण। विशेष—सांख्य के मत से प्रकृति वैशेषिक के मत से परमाणु और वेदांत के मत से ब्रह्म इस सृष्टि के आदि कारण माने गये हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित  : पुं० =आदित्य (सूर्य)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदितेय  : पुं० [सं० अदिति+ठक्-एय] अदिति के पुत्र, सूर्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य  : पुं० [सं० अदिति+ण्य] १. अदिति के पुत्र धाता, मित्र अर्यमा, रुद्र, वरुण, सूर्य, भग, विवस्वान, पूषा, सविता, त्वष्टा और विष्णु। २. सूर्य। देवता। ४. इंद्र। ५. वसु। ६. विश्वेदेव। ७. वामन अवतार। ८. मदार का पौधा। आक। ९. बारह मात्राओं के छंदों (तोमर लीला आदि) की संज्ञा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य-केतु  : पुं० [ष० त०] सूर्य का सारथि, अरुण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य-पर्णी  : स्त्री० [ब० स० ङीष्] १. सूरजमुखी नाम का पौधा और उसका फूल। २. एक प्रकार की बूटी जिसमें लाल फूल लगते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य-पुराण  : पुं० =सूर्य-पुराण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य-मंडल  : पुं० [ष० त०] १. सूर्य के चारों ओर का प्रभा मंडल। २. वह वृत्त जिसपर सूर्य भ्रमण करता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदित्य-वार  : पुं० [ष० त०] रविवार। एतवार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-देव  : पुं० [कर्म० स०] विष्णु। नारायण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-नाथ  : पुं० [कर्म० स०] शिव। महादेव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-पुराण  : पुं० [क्रम० स०] =ब्रह्मा पुराण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-पुरुष  : पुं० [कर्म० स०] १. परमेश्वर। विष्णु। २. वह जिससे किसी वंश का आरंभ हुआ हो। मूल-पुरुष।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिम  : वि० [सं० आदि+डिमच्] १. सबके आदि में होनेवाला। प्रथम। पहला। २. जो बहुत पुराना आरंभिक अविकसित और बिलकुल सीधे-सादे ढंग का हो। (प्रिमिटिव)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिम-जाति  : स्त्री० [कर्म० स०] किसी देश में रहनेवाला सबसे पहली और पुरानी मनुष्य जाति। (प्रिमिटिव रेस)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिम-निवासी (सिन्)  : पुं० [कर्म० स०] दे० आदि वासी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-मान  : पुं० [सं० कर्म० स०] १. वह आदर या मान जो किसी व्यक्ति वस्तु या कार्य को औरों से पहले दिया जाता है। २. किसी विशेष अवस्था में किसी मान्य व्यक्ति को दिया जानेवाला कोई विशिष्ट अधिकार। विशेषाधिकार। (प्रेरोगेटिव)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-रस  : पुं० [सं० कर्म० स०] साहित्य में श्रंगार रस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-रूप  : पुं० [सं० ब० स०] ईश्वर। परमात्मा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिल  : वि० [अ०] सदा अदल (न्याय) करनेवाला। न्यायशील।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिलशाही  : पुं० [आदिलशाह(एक बादशाह का नाम)] पुरानी चाल का एक प्रकार का कागज जो दक्षिण भारत में बनता था।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-वासी (सिन्)  : पुं० [सं० कर्म० स०] १. किसी देश या प्रांत के वे निवासी जो बहुत पहले से वहाँ रहते आयें हों और जिनके बाद और लोग भी वहाँ आकर बसे हों। आदिम निवासी। २. आधुनिक भारत में, उड़ीसा, बिहार, मध्यप्रदेश आदि में रहनेवाली ओराँव खरिया पहाड़िया, मुंडा संथाल आदि पुरानी जन-जातियाँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-विपुला  : पुं० [सं० त०] आर्या छंद का एक रूप या भेद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-विपुला-जघन-चपला  : पुं० [जघन-चपला, तृ० त० आदि विपुला, जघन-चपला, द्वं० स०] आर्या छंद का एक भेद जिसके पहले चरण के तीन गणों में पाद अपूर्ण होता और दूसरे दल में दूसरा और चौथा गण जगण होता हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदि-शक्ति  : स्त्री० [सं० कर्म० स०] दुर्गा। महामाया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिश्यमान  : वि० [सं० आ√दिश् (बताना)+यक्+शानच्] जो आदेश के रूप में हुआ हो। आदिष्ट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदिष्ट  : वि० [सं० आ√दिश्+क्त] १. (व्यक्ति) जिसे कोई आदेश दिया या मिला हो। २. (विषय) जिसके संबंध में कोई आदेश दिया गया हो या मिला हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदी  : स्त्री० [सं० आर्द्रक] अदरख। अव्य० [सं० आदि] १. आदि या आरंभ में ही। २. जरा भी। बिलकुल। उदाहरण—मातु न जानसि बालक आदी।—जायसी। वि० [अ०] जिसे किसी बात की आदत पड़ी हों। (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदीचक  : पुं० [हिं० आदी] आदी या अदरख की तरह का एक प्रकार का कंद जिसकी तरकारी बनती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदीपन  : पुं० [सं० आ√दीप् (दीप्ति)+णिच्+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आदीपित,आदीप्त] १. दीपक जलाना। २. आग जलाना या सुलगाना। ३. उत्तेजित करना। उकसाना। ४. स्वच्छ या चमकीला करना। चमकाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदृत  : भू० कृ० [सं० आ√दृ(आदर करना)+क्त] जिसका आदर या सम्मान किया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेय  : वि० [सं० आ√दा (देना)+यत्] १. किसी से प्राप्त करने या लेने योग्य। जो लिया जा सके। २. जिसपर कर, शुल्क आदि लिया या लगाया जा सके। ३. जिसपर कर, शुल्क आदि लगाया गया हो। (लेवीड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेश  : पुं० [सं० आ√दिश् (बताना)+घञ्] [कर्त्ता आदेशक, भू० कृ० आदिष्ट] १. अधिकारपूर्वक यह कहना कि ऐसा करो या ऐसा मत करो। आज्ञा। हुकुम। (आर्डर) २. नमस्कार। प्रणाम। उदाहरण—विद्या है तो करहिंगे सब कोऊ आदेस (आदेस)।—वृन्द। ३. ज्योतिषशास्त्र में ग्रहों का फल। ४. व्याकरण में किसी नियम के अनुसार एक वर्ण के स्थान पर दूसरे वर्ण का आ लगना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेशक  : वि० [सं० आ√दिश्+ल्वुट्-अक] आदेश करने या देनेवाला। (दे० आदेश।)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेशन  : पुं० [सं० आ√दिश्+ल्युट-अन] [भू० कृ० आदिष्ट] आदेश देने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेश-लेख  : पुं० [ष० त०] न्यायालय की वह लिखित आज्ञा जिसमें कोई काम करने या न करने के लिए कहा गया हो। (रिट)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेशवाद  : पुं० [ष० त०] [वि० आदेशवादी] १. विचार किये हुए किसी आदेश मानने का सिद्धांत। २. वह दार्शनिक प्रणाली जिसमें ऐसे तत्त्व या सिद्धांत ठीक मान लिये जाते है, जो परीक्षा द्वारा अभी तक ठीक सिद्ध नहीं हुए हैं। (डॉगमैटिज्म)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेशी (शिन्)  : पुं० [सं० आ√दिश्+णिनि] १. वह जो आदेश दे। २. शासक। ३. ज्योतिषी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेष्टा (ष्ट्रा)  : पुं० [सं० आ√दिश्+तृच्] =आदेशक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदेस  : पुं० =आदेश। (यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आदौ  : अव्य० [सं० आदि० से] १. आदि या आरंभ से। शुरू से। २. आदि या आरंभ में। पहले।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्यंत  : अव्य० [सं० आदि-अंत, अव्य० स०] आदि से अंत तक। पुं० किसी चीज या बात का आरंभ और अंत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्य  : वि० [सं० आदि+यत्] १. आदि या आरंभ में रहने या होनेवाला। २. आरंभिक। ३. प्रधान। मुख्य। ४. जो खाया जा सके।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्यक्षिक  : पुं० [सं० अद्यक्ष+ठञ्-इक] वह नास्तिक जो केवल प्रत्यक्ष को प्रमाण मानता हो। (तार्किक से भिन्न)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्य-शेष  : पुं० [सं० ब० स०] हिसाब में वह धन जो पहले रोकड़ बाकी के रूप में रहा हो और अब नये खाते या पृष्ठ में गया हो। (ओपनिंग बैलेंस)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्या  : स्त्री० [सं० आद्य+टाप्] १. दुर्गा। २. काली। ३. दस महाविद्याओं में से पहली महाविद्या। ४. भूमि। जमीन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्याक्षर  : पुं० [सं० आद्य-अक्षर, कर्म० स०] कई पदोंवाले नाम के प्रत्येक पद का आरंभिक अक्षर जिसका प्रयोग प्रायः संक्षिप्त रूप में नाम बताने हस्ताक्षर करने आदि के समय होता है। (इनीशियल) जैसे—महावीर प्रसाद द्विवेदी के आद्याक्षर हैं-म० प्र० द्वि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्याक्षरित  : भू० कृ० [सं० आद्याक्षरं+णिच्+क्त] जिस पर हस्ताक्षर की जगह नाम के केवल आद्याक्षर लिखे गये हों। (इनीशियल्ड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्योत  : पुं० [सं० आ√द्युत्(दीप्ति)+घञ्] १. क्रांति। चमक। २. प्रकाश। से अंत तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्योपांत  : अव्य० [सं० आद्य-उपांत, अव्य० स०] आदि का आरंभ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आद्रा  : स्त्री० =आर्द्रा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध  : वि० [हिं० आधा] दे० आधा। पद—एक आध=बहुत ही थोड़ा या कम। कदाचित एक या दो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधमर्ण्य  : पुं० [सं० अधर्मण+ष्यज्] अधमर्ण या ऋणी होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधर्मिक  : वि० [सं० अधर्म+ठञ्-इक] १. जो धार्मिक न हो। २. जो धर्म-संगत आचरण न करता हो। जैसे—अन्यायी, असाधु आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधर्षण  : पुं० [सं० आ√धृप् (पीड़न)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आधर्षित] न्यायालय द्वारा अभियुक्त को अपराधी ठहराना और दंड देना। (कन्विक्शन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधर्षित  : भू० कृ० [सं० आ√धृष्+क्त] १. न्यायालय द्वारा अपराधी या दोषी ठहराया हुआ हो। २. दंड़ित। (कन्विक्टेड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधा  : वि० [सं० अर्ध, प्रा० अड्ढ, पा० अद्ध, गु० आड़, का० मरा० सिह० अड] १. किसी वस्तु के दो बराबर भागों में से हर एक। पद
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधाझारा  : पुं० [सं० आधाट] अपामार्ग या चिचड़ा नाम का पौधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधाता (तृ)  : वि० [सं० आ√धा(धारण करना)+तृच्] कहीं से कोई चीज लाकर रखने या स्थापित करनेवाला। आधान करनेवाला। पुं० १. अध्यापक। शिक्षक। २. वह जो कोई चीज किसी के पास गिरवी या बंधक रखे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधा-तीहा  : वि० [हिं० आधा+तिहाई] आधे या तिहाई के लगभग। आधे से कुछ कम या तिहाई से कुछ अधिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधान  : पुं० [सं० आ√धा+ल्युट्-अन] १. बैठाने, रखने या स्थापित करने की क्रिया या भाव। जैसे—अग्नि या गर्भ का आधान। २. गर्भ। उदाहरण—कितिक दिवस अंतरह रहिय आधान राखि उर।—चंदबरदाई। ३. गर्भाधान से पहले होनेवाला एक संस्कार। ४. ग्रहण करना। लेना। ५. वह अवकाश पात्र या स्थान जिसमें कोई चीज रखी जाए या रखी जा सके। पात्र। (रिसेप्टेकल) ६. घेरा। ७. प्रयत्न। ८. कोई चीज किसी के पास बंधक या रेहन रखना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधानवती  : वि० स्त्री० [सं० आधान+मतुप्० वत्व-ङीष्] गर्भवती।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधानिक  : पु० [सं० आधान+ठञ वत्व-ङीष्] गर्भाधान से पहले होनेवाला एक संस्कार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधायक  : पुं० [सं० आ√धा+ण्वुल्-अक] १. आधान करने (लाकर रखने, बैठाने या स्थापित करने) वाला। जैसे—दोषाधायक-दोष से युक्त करनेवाला। २. प्रभावित करनेवाला। ३. देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधार  : पुं० [सं० आ√धृ (धारण)+घञ्] १. नीचे की वस्तु जिसके ऊपर कोई दूसरी वस्तु टिकी ठहरी या रखी हो। जैसे—इस जल का आधार यह घड़ा (या लोटा) है। २. वह जो किसी को किसी प्रकार का आश्रय या सहारा देता हो। जैसे—जीवन का आधार भोजन है। ३. वह जिसके बल पर कोई काम या बात चलती या होती है। अवलंब। भरोसा। सहारा। जैसे—(क) जल-पान कर लिया, इससे दिन भर के लिए आधार हो गया। (ख) यहाँ तो बस भगवान का ही आधार है। ४. जड़। नींव। बुनियाद। ५. आधान। पात्र। ६. वृक्ष का थाँवला। थाला। आल-बाल। ७. व्याकरण में अधिकरण कारक। ८. योगशास्त्र में शरीर के अंदर के छः चक्रों में से एक जिसका स्थान गुदा का ऊपरी भाग कहा गया है। यह लाल रंग का और चार दलों वाला माना गया है। और इसके देवता गणेश कहे गये हैं। ९. ज्यामिति में वह रेखा या तल जिस पर कोई आकृति या घनपिंड ठहरा हुआ या स्थित माना जाता है। (बेस)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारक  : पुं० [सं० आधार+कन्] १. वह जिसके ऊपर कोई ढाँचा खड़ा हो। आधार। नींव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारण  : पुं० [सं० आ√धृ+णिच्+ल्युट्-अन] धारण करने या अपने ऊपर लेने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधार-रूपा  : स्त्री० [सं० ब० स० टाप्] गले का एक आभूषण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधार-शक्ति  : स्त्री० [ष० त०] १. सृष्ट उत्पन्न करनेवाली मूल प्रकृति। २. माया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधार-शिला  : स्त्री० [ष० त०] वह पहला पत्थर जो नींव में रखा जाता है और जिसके ऊपर भवन या इमारत बनता है। (फाउन्डेशन स्टोन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधार-स्तंभ  : पुं० [ष० त०] वह जिसके ऊपर किसी का सारा ढाँचा या अस्तित्व आश्रित हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधाराधेयभाव  : पुं० [सं० आधार-आधेय, द्व० स० आधाराधेय-भाव, ष० त०] परस्पर उस प्रकार का भाव या संबंध, जैसा आधार और आधेय में होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारिक  : वि० [सं० आधार+ठक्-इक] १. आधार-संबंधी। २. जो किसी काम या बात के लिए आधारस्वरूप हो। (बेसिक) जैसे—आधारिक भाषा। आधारिक शिक्षा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारिक-भाषा  : स्त्री० [कर्म० स०] किसी भाषा का वह बहुत हलका और सब के समझने योग्य रूप जिसमें थोड़े से परम प्रचलित शब्दों से ही सब काम चलाये जाते हैं। (बेसिक लैग्वेज) विशेष—ऐसी भाषा का मुख्य उद्देश्य यह होता है कि अन्य भाषा-भाषियों में सहज में उसका यथेष्ट प्रचार हो सके।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारित  : वि० [सं० आधार+णिच्+क्त] जो किसी के आधार पर टिका या ठहरा हो। किसी को आधार बनाकर उस पर आश्रित रहनेवाला। आधृत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधारी (रिन्)  : पुं० [सं० आधार+इनि] [स्त्री०आधारिणी] १. वह जो किसी आधार पर ठहरा या टिका हो। २. लकड़ी का वह ढाँचा जिसके सहारे साधु लोग बैठते है। टेवकी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधा-सीसी  : स्त्री० [हिं० आधा+सीस(शीर्ष) =सिर] आधे सिर का दर्द। अध-कपारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधि  : स्त्री० [सं० आ√धा (धारण करना)+कि] १. मानसिक कष्ट या चिंता। २. धरोहर या बंधक के रूप में रखी हुई चीज। ३. आशा। ४. लक्षण। ५. रहने की जगह। आवास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिक  : वि० [हिं० आधा+एक] १. आधे के लगभग। आधे से कुछ ही कम या अधिक। २. अल्प। थोड़ा। अव्य० प्रायः। लगभग।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिकरणिक  : वि० [सं० आधिकरण+ठक्-इक] अधिकरण संबंधी। जैसे—आधिकरणिक विक्रय। (कोर्ट सेल)। पुं० अधिकरण विक्रय। (कोर्ट आँफिसर)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधि-कर्त्ता (र्तृ)  : पुं० [सं० ष० त०] किसी के पास कोई चीज गिरवी या बंधक रखनेवाला व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिकरिक  : वि० [सं० अधिकार+ठक्-इक] १. अधिकार संबंधी। २. किसी अधिकारी के द्वारा या अधिकारपूर्वक किया या कहा हुआ। (आँथॉरिटेटिव) ३. सरकारी। (आँफिशल) पुं० १. वह जिसे कोई विशेष अधिकार प्राप्त हो और वह उस अधिकार का प्रयोग करता हो। अधिकारी। (आँथॉरिटी) २. परमात्मा। ३. दृष्य-काव्य में मूल कथा-वस्तु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिकारिकी  : स्त्री० [सं० आधिकारिक से] व्यक्तियों का वह वर्ग या समूह जो किसी कार्य या विषय से संबंध रखनेवाली सब बातों का नियंत्रण और संचालन करता हो। (आँथॉरिटी)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिक्य  : पुं० [सं० अधिक+ष्यञ्] मान, मात्रा आदि में अधिक होने की अवस्था या भाव। अधिकता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिदैविक  : वि० [सं० अधिदेव+ठञ्-इक] १. दैव, प्रकृति आदि के द्वारा प्राप्त होनेवाला। (दुख ताप या कष्ट) देवता-कृत। २. जो साधारणतः प्राकृतिक या लोक गत न हो, बल्कि उससे बहुत बढ़-चढ़कर हो। (सुपर नेचुरल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधि-वर्त्ता (र्तृ)  : पुं० [ष० त०] वह जिसके पास कोई चीज गिरवी या रेहन रखी जाए।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिपत्य  : पुं० [सं० अधिपति+ष्यञ्] १. अधिपति होने की अवस्था या भाव। २. किसी वस्तु पर प्राप्त होनेवाला ऐसा अधिकार जो किसी को उस वस्तु के संबंध में सब कुछ कहने में समर्थ करता हो। (पजेशन)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधि-भोग  : पुं० [ष० त०] धरोहर या बंधक रखी हुई वस्तु का उपभोग या उपयोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिभौतिक  : वि० [सं० अधिभूत+ठञ्-इक] आधिभूतों अर्थात् भौतिक पदार्थों और जीव-जंतुओं आदि के कारण या उसके द्वारा उत्पन्न होनेवाला। जैसे—आधिभौतिक ताप-भौतिक पदार्थों या जीव-जंतुओं के कारण मनुष्य को होनेवाला कष्ट या रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधिराज्य  : पुं० [सं० अधिराज+ष्यञ्] अधिराज होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधि-व्याधि  : स्त्री० [द्व० स०] मानसिक कष्ट या चिंता और शारीरिक पीड़ा। दुःख और वेदना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधीन  : वि०=अधीन।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधीनता  : स्त्री०=अधीनता।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधुनिक  : वि० [सं० अधुना+ठञ्-इक] १. जो इधर थोड़े समय से ही चला निकला या अस्तित्व में आया हो। हाल का। जैसे—आधुनिक युग आधुनिक साहित्य। २. जिसपर वर्त्तमानकाल की बातों या विशेषताओं की पूरी छाप पड़ी हो। सांप्रतिक। (मार्डन) जैसे—आधुनिक पहनावा। आधुनिक शिष्टाचार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधुनिका  : स्त्री० [सं० आधुनिक+टाप्] आधुनिक सभ्यता के अनुसार रहने और आचरण करनेवाली स्त्री।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधूत  : वि० [सं० आ√धू (काँपना)+क्त] १. काँपता हुआ। कंपित। २. विकल। व्याकुल। पुं० पागल। विक्षिप्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधूपन  : पुं० [सं० आ√धूप् (तपाना)+ल्युट्-अन] धूएँ से ढँकना या आवृत्त करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधूमित  : भू० कृ० [सं० आ-धूम, प्रा० स,०+इतच्] धुएँ से आवृत्त या ढका हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधूस्र  : वि० [सं० प्रा० स०] जिसका रंग धुएँ जैसा काला हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधृत  : वि० अव्य० [सं० आ√धृ (धारण)+क्त] आधारित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधेक  : [हिं० आधा+एक] आधे के लगभग। प्रायः आधा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधेय  : पुं० [सं० आ√धा (धारण करना)+यत्] वह जो किसी आधार पर ठहरा बना या रहता हो। वि० १. ठहराने या स्थापित किये जाने के योग्य। २. रचने योग्य। ३. रेहन रखे जाने के योग्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधोफर  : पुं० [?] छज्जा। (डिं०)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आधोरण  : पुं० [सं० आ√धोर्+ल्यु-अन] महावत। हाथीवान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्मान  : पुं० [सं० आ√ध्मा (शब्द करना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आध्मात] १. पेट फूलने का रोग। अफरा। २. जलोदर रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्यात्मिक  : वि० [सं० अध्यात्म+ठञ्-इक] [भाव० आध्याम्मिकता] जिसमें आत्मा और ब्रह्म के संबंध तथा स्वरूप का विचार या विवेचन हो। अध्यात्म से संबंध रखनेवाला। भौतिक लौकिक आदि से भिन्न। (स्पिरिचुअल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्यात्मिकी  : स्त्री० [सं० आध्यात्म से] वह विद्या जिसमें हर वस्तु के आध्यात्मिक स्वरूप पर विचार किया जाता है। (स्प्रिचुअलिज्म)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्यापक  : पुं० [सं० अध्यापक+अण्] =अध्यापक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्यायिक  : पुं० [सं० अध्याय+ठञ्-इक] १. वह जो वेदों का अध्ययन करता हो। २. वह जो बराबर अध्ययन करता रहता हो। वि० अध्ययन संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आध्यासिक  : वि० [सं० अध्यास+ठक्-इक] धोखे या भूल से आरोपित किया या माना हुआ। अयथार्थ और कल्पित। जैसे—रस्सी को साँप समझना आध्यासिक भ्रम है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंतर्य  : पुं० [सं० अनन्तर+ष्यञ्] अनंतर होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंत्य  : पुं० [सं० अनन्त+ष्यञ्] अनंत होने की अवस्था या भाव। अनंतता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद  : पुं० [सं० आ√नन्द् (समृद्धि)+घञ्] [वि० आनंदित,आनंदी] १. मन में होनेवाली ऐसी अनुकूल तथा प्रिय अनुभूति जो अभीष्ट तथा सुखद परिस्थितियों में होती है तथा जिसमें अभाव, कष्ट, चिंता आदि नाम को भी नही होतें। (हैपिनेस) पद—आनंद बधाई, आनंद मंगला (दे०)। २. मद्य। शराब। ३. ब्रह्म। ४. विष्णु। ५. शिव। ६. एक प्रकार का छंद। वि० [आनंद+अच्] आनंदपूर्ण। प्रसन्न और सुखी। (क्व०)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदक  : वि० [सं० आ√नन्द्+ण्वुल्-अक] आनंद करने या मनानेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-कोश  : पुं० [ष० त०]=आनंदमय कोश।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदन  : पुं० [सं० आ√नन्दं+णिच्+ल्युट्-अन] आनंदित करने की क्रिया या भाव। वि०=आनंददायक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदना  : अ० [सं० आनन्द] आनंदित या प्रसन्न होना। स० आनंदित या प्रसन्न करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-बधाई  : स्त्री० [सं० आनन्द+हिं० बधाई] शुभ अवसरों पर या मांगलिक उत्सव के समय (क) दी जानेवाली बधाई और (ख) होनेवाला राग और रंग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-बधावा  : पुं० =आनंद बधाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-भैरव  : पुं० [कर्म० स०] १. शिव का एक रूप। २. आयुर्वेद में एक रस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-भैरवी  : स्त्री० [कर्म० स०] भैरव राग की एक रागिनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-मंगल  : पुं० [द्व०स०] १. शुभ तथा सुखद अवसर पर मनाया जानेवाला आनंद और होनेवाला राग रंग। २. सुख और चैन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-मत्ता  : स्त्री० [तृ० त०] आनंद सम्मोहिता (नायिका)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदमय कोश  : पुं० [सं० आनंद+मयट्, आनंदमय-कोश, कर्म० स०] आत्मा को आवृत्त करनेवाले पाँच कोशों में से अंतिम जो कारण शरीर या सुषुप्ति के रूप में माना गया है। (वेदांत)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद-सम्मोहिता  : स्त्री० [तृ० त०] साहित्य में वह नायिका जो संभोग के आनंद में मग्न या मुग्ध हो रही हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंद्रातिरेक  : पुं० [सं० आनंद-अतिरेय, ष० त०] अत्यानंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदाश्रु  : पुं० [सं० आनंद-अश्रु, मध्य० स०] बहुत अदिक आनंद के समय आँखों से निकलने वाले आँसू या भर आनेवाला जल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदित  : भू० कृ० [सं० आ√नन्द्+क्त] जिसे आनंद हुआ हो। हर्षित। प्रसन्न।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनंदी (दिन्)  : पुं० [सं० आ√नन्द्+णिनि] वह जो सदा आनंद मनाता रहता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आन  : स्त्री० [फा० या० सं० आणि-मर्यादा] १. परंपरा प्रतिज्ञा संकल्प सिद्धांत आदि के निर्वाह या पालन की वह दृढ़ भावना जिसके भूल में अपनी या अपनी जाति वर्ग समाज आदि की प्रतिष्ठा या मर्यादा की रक्षा का विचार प्रधान होता है। जैसे—(क) वीर लोग अपनी आन पर प्राण देते है। (ख) वह आनवाला रोजगारी है, सहज में नहीं दबेगा। २. किसी की उक्त भावना या गौरव के आधार पर या उसका स्मरण कराते हुए दी जानेवाली दुहाई या मचनेवाली पुकार। मुहावरा—आन फेरना=(क) दुहाई फिरना। (ख) पुकार मचना। उदाहरण—मेरे जान जनकपुर फिरिहै रामचंद्र की आन।—सूर। आन फेरना-चारों ओर अपने प्रभुत्व विजय आदि की डुग्गी या ढिढोरा पिटवाना। उदाहरण—आन आन फेरी मदम करी मान तजि मान।—विक्रम सतसई। ३. उक्त के आधार पर दी जानेवाली शपथ या सौगंध। जैसे—तुम्हें भगवान की आन है, वहाँ मत जाना। ४. प्रतिष्ठा। मर्यादा। सम्मान। ५. जिद। टेक। हठ। ६. अकड़। ऐँठ। स्त्री० [सं० आणि=मर्म-स्थान] किसी काम या बात का ऐसा ढंग प्रकार या स्वरूप जो अनोखा या निराला होने के सिवा आकर्षक तथा हृदयग्राही हो। लुभावनी अंग भंगी या मनोहर हाव-भाव। जैसे—उसने ऐसी आन से ठुमरी गाई कि सब लोग वाह-वाह करने लगे। स्त्री० [अ०मि०सं० आन=साँस] १. बहुत ही थोड़ा समय। क्षण। पल। पद—आन की आन में-बहुत थोड़े समय में। बात ही बात में। पलक मारते। जैसे—उस भूकंप में आन की आन में प्रलय का दृष्य उपस्थित कर दिया। २. काल। समय। उदाहरण—मिलिकै बिछुरन मरन की आना-जायसी। स्त्री० [सं० अत्यन्त, प्रा० अण्ण, गुज० आण, आन० अना, मरा० आणि, आणरवी० सिं० अनुम, आनिक] और कोई। अन्य। दूसरा। (पूरब) पद—आन की आन या आन का तान-जो हो उसके स्थान पर उससे भिन्न। और का और। स्त्री० [हिं० आन=दूसरा] निषिद्ध चीजों या बातों से बचने का ध्यान या विचार। उदाहरण—ठंढियाँ निकली है बच्चें के पड़ा फिरता है। कुछ किसी बात की भी आन है। गोइयाँ तुमको।—कोई शायर। प्रत्यय-[?] एक प्रत्यय जो कुछ धातुओं के अंत में लगकर उन्हें भाव वाचक संज्ञाओं का रूप देता है। जैसे—
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनक  : पुं० [सं० आ√अन् (जीना)+णिच्+ण्वुल्-अक] १. एक प्रकार का बहुत बड़ा सैनिक नगाड़ा। २. गरजता हुआ बादल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनक-दृंदुभि  : पुं० [कर्म० स०] १. बहुत बड़ा नगाड़ा। २. [ब० स०] कृष्ण के पिता वासुदेव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनत  : वि० [सं० आ√नम् (झुकना)+क्त] १. जो झुका हुआ या नत हुआ हो। २. जो किसी को नम्रतापूर्वक प्रणाम करने के लिए झुका हो। ३. नम्र। सुशील। ४. जिसका झुकाव या प्रवृत्ति किसी ओर हो। पुं० -एक जैन देवता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आन-तान  : स्त्री० [हिंआन+तान=खिंचाव] १. आन या प्रतिष्ठा और तान का खिचाव का भाव या विचार। ठसक। २. टेक। हठ। ३. अभिमानपूर्ण और बेतुका आचरण या व्यवहार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनति  : स्त्री० [सं० आ√नम्+क्तिन्] १. आनत होने की अवस्था या भाव। २. झुकाव। नति। ३. प्रणाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनद्ध  : भू० कृ० [सं० आ√नह् (बाँधना)+क्त] १. बँधा हुआ। बाधा आदि के कारण रुका हुआ। ३. किसी चीज से ढका या मढ़ा हुआ। ४. सजाया हुआ। पुं० १. कोई ऐसा बाजा जो चमड़े से मढ़ा हो। जैसे—ढोल, मृदंग आदि। २. सजावट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनन  : पुं० [सं० आ√अन्+ल्युट्-अन] १. मुख। मुँह। २. मुख की आवृत्ति या बनावट। ३. चेहरा। मुखड़ा। पुं० [सं० आनक] दृदुभी। उदाहरण—कर पद पत्र धनुख्ख ढाल आनन सुचक्क रक।—चंदबरदाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनन-फानन  : अष्य० [अ०] १. बात की बात में। २. अतिशीघ्र। तुरंत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनना  : स० [सं० आनयन, प्रा० आणणें, सिं० आअणु का० अनुन्० मरा० आइणणो] कहीं से (वस्तु आदि) ले आना। लाना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनबान  : स्त्री० [हिं० आन+अनु० बान] १. ठाट-बाट। सजधज। २. ठसक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनमन  : पुं० [सं० आ√नम्+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आनमित] १. झुकने या नत होने की क्रिया या भाव। २. नम्रतापूर्वक किसी के आगे सिर झुकाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनम्य  : वि० [सं० आ√नम्+यत् बा०णइच्+यत्] [भाव० आनम्यता] १. झुकनेवाला। २. जो झुक सके या झुकाया जा सके। (प्लाइएबुल) ३. जो आवश्यकता होने पर हर नई स्थिति के अनुकूल बनाया जा सके। (फ्लेक्सिबुल) जैसे—आनम्य-संविधान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनयन  : पुं० [सं० आ√नी (पहुँचना)+ल्युट्-अन] १. ले आना। लाना। २. उपनयन संस्कार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनरेरी  : वि० [अ०] १. केवल कर्त्तव्य के विचार से अपनी मर्यादा का ध्यान रखते हुए बिना वेतन लिये काम करनेवाला। (व्यक्ति) २. उक्त प्रकार से होनेवाला (कार्य या पद)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनर्त  : पुं० [सं० आ√नृत् (नाचना)+घञ्] [वि० आनर्त्तक] १. आधुनिक सौराष्ट्र देश का पुराना नाम। २. उक्त देश का निवासी। ३. नृत्यशाला। नाच-घर। ४. युद्ध। ५. जल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनर्तक  : वि० [सं० आनर्त+वुञ्-अक] १. आनर्त संबंधी। २. [आ√नृत्+ण्वुल्-अक] नर्त्तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनर्तन  : पुं० [सं० आ√नृत्+ल्युट्-अन] नाचना। नर्तन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनर्त्त-नगरी  : स्त्री० [सं० मध्य० स०] द्वारकापुरी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनर्थक्य  : पुं० [सं० अनर्थक+ष्यञ्] अनर्थक या निरर्थक होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आना  : अ० [सं० आगमन, पुं० हिं० आगवन, आवना] १. किसी चीज का कहीं से चलकर इस ओर (अर्थात् वक्ता की ओर) उपस्थित, प्राप्य या वर्त्तमान होना। आगमन होना। जैसे—अतिथि आना, बरसात आना, हवा आना आदि। मुहावरा—आ धमकना=अचानक या सहसा आ पहुँचना। आ पड़ना=(क) सहसा आ पहुँचना। (ख) सहसा गिर पड़ना। आ पड़ना=(क) टूट पड़ना। (ख) विपत्ति या संकट आना। आ बनना=(क) घटना के रूप में उपस्थित होना। घटित होना। उदाहरण—आइ बना भल सकल समाजू।—तुलसी। (ख) लाभ उठाने का अच्छा अवसर हाथ आना। आ लगना=किसी स्थान या ठिकाने पर पहुँचना। आ लेना=(क) पकड़ लेना। (ख) पास पहुँचना। पद—आता जाता=इधर या इस ओर आने तथा उधर या उस ओर जानेवाला। आना-जाना=(क) जन्म-मृत्यु। (ख) मिलना जुलना। आया गया=(क) वह जो किसी काम से आय और चला जाए। (ख) अतिथि। २. उत्पन्न होकर सामने उपस्थित होना। घटित होना। जैसे—पौधे में फल या फूल आना। ३. गुण योग्यता आदि की अभिवृद्धि या विकास होना। जैसे—जवानी आना। ४. ज्ञान या जानकारी होना। जैसे—अँगरेजी या हिन्दी आना। ५. अनुभूति होना। जैसे—यह नया विचार अभी मस्तिष्क में आया है। ६. किसी अवस्था या स्थिति में पहुँचना या होना। जैसे—गाड़ी के नीचे आना। किसी निश्चय पर आना। पुं० [सं० आणक] १. रुपयें का सोलहवाँ अंश या भाग। २. किसी चीज का सोलहवाँ अंश या भाग। जैसे—व्यापार में चार आने का हिस्सा। प्रत्यय-[फा०आन] होनेवाला। अवधि पर होनेवाला। जैसे—रोज़ाना, सलाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनाकारी  : स्त्री० [सं० अनाकर्णन] १. कोई बात सुनकर भी न सुनी के समान करना। २. टाल-मटोल या हीला-हवाला। स्त्री०-काना-फूसी।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनाथ्य  : पुं० [सं० अनाथ+ष्यञ्] अनाथ होने की अवस्था या भाव। अनाथता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनाय  : पुं० [सं० आ√नी+घञ्] जाल। फंदा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनाह  : पुं० [सं० आ√नह् (बाँधना)+घञ्] [वि० आनाहिक] १. बाँदना। २. मलावरोध से पेट फूलने का एक रोग। कब्जियत। ३. (कपड़े आदि की) लंबाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनि  : स्त्री० =आन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनिल  : वि० [सं० अनिल+अण्] अनिल या (वायु) से संबंध रखनेवाला। पुं० १. हनुमान। २. भीम। ३. स्वाति नक्षत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनीत  : भू० कृ० [सं० आ√नी+क्त] [भाव० आनीति] जिसका आनयन हुआ हो। लाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुकूलित  : वि० [सं० अनुकूल+ठक्-इक] अनुकूल होने का भाव। अनुकूलता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुक्रमिक  : वि० [सं० अनुक्रम+ठक्-इक] १. किसी अनुक्रम के अनुसार होनेवाला। २. अनुक्रम से लगा या लगाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुगतिक  : वि० [सं० अनुगत+ठक्-इक] अनुगत या अनुगति से संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुगत्य  : पुं० [सं० अनुगत+ष्यञ्] १. अनुगत होने की अवस्था या भाव। २. अनुगमन। ३. घनिष्ठ परिचय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुग्रहिक  : वि० [सं० अनुग्रह+ठक्-इक] १. अनुग्रह संबंधी। २. अनुग्रह (कृपा दया आदि) के रूप में होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुतोषिक  : पुं० [सं० अनुतोष+ठक्-इक] वह धन जो किसी को किसी कार्य या सेवा के बदले में उसे संतुष्ट या प्रसन्न करने के लिए (उसके वेतन आदि के अतिरिक्त) विशेष रूप से दिया जाए। (ग्रेचुइटी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुदानिक  : वि० [सं० अनुदान+ठक्-इक] अनुदान से संबंध रखने अथवा अनुदान के रूप में मिलने या होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुपातिक  : वि० [सं० अनुपात+ठक्-इक] अनुपात के विचार या दृष्टि से होनेवाला। अनुपात संबंधी। (प्रपोर्शनल) जैसे—आनुपातिक प्रतिनिधित्व।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुपूर्व  : वि० [सं० अनुपूर्व+अण्] एक के बाद एक या क्रम में होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुपूर्वी  : स्त्री० [सं० अनुपूर्व+ष्यञ्-ङीष्,यलोप] आगे-पीछे के क्रम से होने की क्रिया या भाव। जैसे—वाक्य में शब्दों की आनुपूर्वी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुभविक  : वि० [सं० अनुभव+ठक्-इक] अनुभव निरीक्षण प्रयोग आदि से प्राप्त होनेवाला। (एम्पिरिकल्) जैसे—आनुभविक ज्ञान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुमानिक  : वि० [सं० अनुमान+ठक्-इक] अनुमान से संबंध रखने या उसके आधार पर माना या समझा जानेवाला। जैसे—आनुमानिक व्यय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुवंशिक  : वि० [सं० अनुवंश+ठक्-इक] १. [भाव० आनुवंशिकता] वंश परम्परा से प्राप्त। पुश्तैनी। २. जो किसी वंश में बराबर होता आया हो। और जिसके आगे भी उस वंश में होने रहने की संभावना हो। वंशानुक्रमिक। (हेरिडेटरी) जैसे—आनुवंशिक हठ या आनुवंशिक रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुवंशिकता  : स्त्री० [सं० आनुवंशिक+तल्-टाप्] १. आनुवंशिक होने की अवस्था परंपरा या भाव। २. जीव-विज्ञान में वे गुण या तत्त्व जो प्राकृतिक रूप से जीवों को अपने-अपने पूर्वजों से प्राप्त होते है। (हेरेडिटी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुवेश्य  : पुं० [सं० अनुवेश+ष्यञ्] पड़ोसी। प्रतिवेशी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुश्रविक  : वि० [सं० अनुश्रव+ठक्-इक] जिसे परंपरा से सुनते चले आए हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनुषंगिक  : वि० [सं० अनुषंग+ठक्-इक] १. आप से आप या यों ही घटित होनेवाला। (एक्सीडेण्टल)। २. अनावश्यक रूप से अथवा गौण रूप से किसी के साथ या पीछे होनेवाला। (इनसीडेण्टल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनूप  : वि० [सं० अनूप+अण्] १. अनूप देश में होने या उससे संबंध रखनेवाला। २. प्रायः जल में या उसके पास रहने या होनेवाला। जैसे—भैसे, मछलियाँ आदि आनूप प्राणी हैं। पुं० १. ऐसा देश या प्रदेश जिसमें जल की अधिकता हो। २. दलदल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनृत  : वि० [सं० अनृत+अण्] १. सदा झूठ बोलनेवाला। २. झूठ से भरा हुआ। जैसे—आनृत कथन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनृशंस्य  : वि० [सं० अनृशंस+ष्यञ्] दे ‘आनृशंस’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनेता  : (तृ) वि० [सं० आ√नी(ले जाना)+तृच्] आनयन करने अर्थात् लानेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनैपुण  : वि० [सं० अनिपुण+अण्] अनिपुण होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनैपुण्य  : पुं० [सं० अनिपुण+ष्यञ्] दे० ‘आनैपुण’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आनैश्वर्य  : पुं० [सं० अनीश्वर+ष्यञ्] ऐश्वर्य का अभाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आन्न  : वि० [सं० अन्न+अण्] १. अन्न संबंधी। अन्न का। २. जिसके पास अन्न हो। ३. जिसमें अन्न मिला हो। ४. अन्न से बना या बनाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आन्वयिक  : वि० [सं० अन्वय+ठक्-इक] १. व्यवस्थित। २. कुलीन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आन्वीक्षिणी  : स्त्री० [सं० अन्वीक्षा+ठञ्-इक-ङीष्] १. आत्म विद्या। २. तर्कशास्त्र। न्याय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप  : सर्व० [सं० आत्मन्, आत्म, प्रा० अप्प० अप्पणो (षष्ठी) अप० आपणउ० पुं० हिं० आपनो, गुज० आप, आपणा० मरा० आपण, ने० आपु, आपन, पं० आप, आप्पाँ, बँ० आपाँ, आपनि, उ० आपे, आपण, सिं० पाण, पाणु, कन्न० पान, सिंह० अपि] १. अपने शरीर से। स्वयं। खुद। (तीनों पुरुषों मे) जैसे—तुम आप चले जाओ। मुहावरा—आप ही आप पड़ना=अपनी अपनी रक्षा या लाभ का ध्यान रहना। अपने आपको जानना=दे० आपको जानना। अपने आपको भूलना=(क) किसी मनोवेग के कारण बेसुध होना। (ख) घमंड चूर होना। आपको जानना=अपना अस्तित्व महत्त्व आदि प्रकट सूचित या स्थापित करना। उदाहरण—जहाँ जहँ गाढ़ परी भक्तनि कौ तहँ तहँ आपु जनायौ।—सूर। आप से आप या आप ही आप=(क) स्वयं। खुद। मन ही मन। स्वगत। आप से आप-बिना किसी चेष्टा या प्रयास के। २. एक आदर सूचक प्रयोग तुम या वे के स्थान पर प्रयुक्त सर्वनाम। जैसे—आप ही चले जाएँ। पुं० [सं० आपः-जल] १. जल। २. आकाश। ३. प्राप्ति। ४. एक वसु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपक  : वि० [सं० आ√आप्(पाना)+ण्वुल्-अक] पाने या प्राप्त करनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपकाज  : पुं० [हिं० आप+काज-कार्य] [वि० आपकाजी] १. अपना या निजी काम। २. स्वार्थ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपकाजी  : वि० [हिं० आपकाज] मतलबी। स्वार्थी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपक्व  : वि० [सं० प्रा० स०] १. जो अच्छी तरह पका न हो। २. कम, थोड़ा या हीन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपगा  : स्त्री० [सं० आप√गम् (जाना)+ड] नदी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपगेय  : वि० [सं० आपगा+ठक्-एय] आपगा या नदी से संबंध रखनेवाला। पुं० भीष्म।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपचारी  : स्त्री० [हिं० आप+आचरण] अपनी इच्छानुसार मनमाना काम करने की क्रिया या भाव। स्वेच्छाचार। वि० मनमानी करनेवाला। स्वेच्छाचारी।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपजात्य  : पुं० [सं० अपजात+ष्यञ्] [वि० अपजात] १. अपजाति होने की अवस्थछा या भाव। २. गुण आदि के विचार से अपने जनक उत्पादक या मूल से घटकर तथा हीन होना। (डीजेनरेशन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपण  : पुं० [सं० आ√पण् (सौदा करना)+घ] १. हाट। बाजार। २. दुकान। ३. हाट या बाजार में उगाहा जानेवाला कर। सर्व० १.=अपना। २.=हम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपणिक  : वि० [सं० आपण+ठक्-इक] बाजार में होनेवाला क्रय-विक्रय से संबंध रखनेवाला। (मरकेन्टाइल) जैसे—आपणिक लेख या विधि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्  : स्त्री० [सं० अ√पद् (गति)+क्विप्]=आपद्।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आ-पतन  : पुं० [सं० प्रा० स०] १. कहीं पर आना या पहुँचना। २. घटित होना। ३. ऊपर से आकर किसी पर गिरना या पड़ना। ४. अचानक या संयोग या संबंध में आना। ५. विज्ञान में, किसी प्रकार की रेखा या किसी तल पर आकर पड़ना। (इन्सिडेन्स)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्काल  : पुं० [सं० ष० त०] [वि० आपत्कालिक] १. आपत्ति या विपत्ति का समय। २. बुरा दिन या समय। कुसमय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्कृत-ऋण  : पुं० [सं० आपत्-कृत, स० त० आपत्कृत-ऋण, कर्म० स०] आपत्ति काल में लिया जानेवाला ऋण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्ति  : स्त्री० [सं० आ√पद्+क्तिन्] १. कष्ट। क्लेश। दुःख। २. अचानक आकर उपस्थित होने वाली ऐसी स्थिति जिसमें बहुत कुछ मानसिक कष्ट या चिंता और आर्थिक शारीरिक आदि हानियाँ हों या हो सकती हों। आफत। मुसीबत। ३. किसी काम या बात के अनुचित अव्यावहारिक नीति-विरुद्ध या हानिकारक जान पड़ने पर उसे रोकने के उद्देश्य से कही जानेवाली विरोधी बात। (आँब्जेक्शन) ४. सार्वजनिक भाषणों आदि के समय वक्ता की उक्त प्रकार की अथवा कोई अनुचित या संदिग्ध बात सामने आने पर श्रोताओं की ओर से कहा जानेवाला ‘आपत्ति’ शब्द जो इस बात का सूचक होता है कि हमें इस कथन या बात के ठीक होने में संदेह है। (क्वेश्चन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्ति-पत्र  : पुं० [ष० त०] वह पत्र जिसमें किसी कार्य या विषय के संबंध में अपनी आपत्ति और मत-भेद लिखा हो। (पेटिशन आफ आब्जेक्शन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपत्य  : वि० [सं० अपत्य+अण्] अपत्य संबंधी। पुं० अपत्य या संतान होने की अवस्था या भाव। संतानत्व।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपद्  : स्त्री० [सं० आ√पद्+क्तिन्] कष्ट और संकट की स्थिति। आपत्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपद  : स्त्री० =आपद्।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपदर्थ  : पुं० [सं० आपद्-अर्थ, च० त०] ऐसी संपत्ति जिसे प्राप्त करने पर अपना अनिष्ट होता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपदा  : स्त्री० [सं० आपद्+टाप्] १. क्लेश। दुःख। २. विपत्ति। आफत। ३. कष्ट या विपत्ति का समय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपद्धर्म  : पुं० [सं० आपद्-धर्म, मध्य० स०] १. ऐसा दूषित निंदनीय या वर्जित आचरण या व्यवहार जो आपत्तिकाल में विवशता पूर्वग्रहण किया जा सकता हो और इसी लिए दूषित न माना जाता हो। २. किसी वर्ण के लिए वह व्यवसाय या काम जो दूसरा कोई जीवनोपाय न होने की ही दशा में ग्रहण किया जा सकता हो। जैसे—ब्राह्मण के लिए वाणिज्य। (स्मृति)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपधाय  : स्त्री०=आपा-धायी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपन  : पुं० [हिं० आप] अपना अस्तित्व या स्वरूप। सर्व०-अपना। अव्य० अपने आप। आप से आप।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपनपौ  : पुं०=अपनवै।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपना  : सर्व०=अपना।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपनिक  : पुं० [सं० आपर्णिक] पन्ना नामक रत्न।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप-निधी  : पुं० [सं० आपः-जल+निधि] समुद्र। सागर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपनो  : सर्व० =अपना।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपन्न  : वि० [सं० आ√पद्+क्त] १. जो कष्ट में पड़ा हो। विपत्ति-ग्रस्त। २. किसी के चक्कर या फेर में पड़ा हुआ। ग्रस्त। जैसे—संकटग्रस्त।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपपर  : पद [हिं० आप-स्वयं+पर-दूसरा] अपने और दूसरे के बीच परस्पर। उदाहरण—पुणे सुणै जण आपपर।—प्रिथीराज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप-बीती  : स्त्री० [हिं०] स्वयं अपने ऊपर बीती हुई घटना या उसका उल्लेख।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपया  : स्त्री० =आपगा (नदी)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपराह्रक  : वि० [सं० अपराह्र+ठञ्-इक] अपराह्में या दिन के तीसरे पहर होनेवाला। अपराह्र-संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपराधिक  : वि० [सं० अपराध+ठक्-इक] १. ऐसे कार्यों या बातों से संबंध रखनेवाला जिनकी गणना अपराधों में हो और जिनके लिए न्यायालय से दंड मिल सकता हो। (क्रिमिनल) जैसे—आपराधिक प्रकिया। (क्रिमिनल प्रोसीजर) २. ऐसी बातों से संबंध रखनेवाला जिनमें अपराध का विचार, भाव या ईप्सा हो। (कल्पेबुल) जैसे—आपराधिक बल प्रयोग, आपराधिक अपचार, आपराधिक प्रमाद। ३. दे० ‘आपराधशील’। पुं० ऐसा कार्य जो धर्म या विधि की दृष्टि में अपराध हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप-रूप  : वि० [हिं० आप+सं० रूप] अपने रूप से युक्त। मूर्तिमान। सर्व० स्वयं आप (व्यंग्यात्मक) जैसे—यह सब आपरूप की करतूत है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपर्तुक  : वि० [सं० अप-ऋतु, प्रा० स०+कञ्] १. अप्-ऋतु (अपनी वास्तविक ऋतु) से भिन्न ऋतु में होनेवाला। २. सभी कालों और ऋतुओं में होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपवर्ग्य  : वि० [सं० अपवर्ग+ष्यञ्] अपवर्ग या मोक्ष देने अथवा उससे संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपस  : अव्य० [हिं० आप+स(प्रत्यय)] पारस्परिक संबंध का सूचक एक अव्यय जिसका प्रयोग कुछ विभक्तियों के लगने पर कहीं क्रिया विशेषण की तरह और कहीं विशेषण की तरह होता है। जैसे—आपस का-पारस्परिक या एक-दूसरे के साथ का। आपस में-परस्पर या एक-दूसरे के साथ। कही-कहीं यह आत्मीकता अथवा घनिष्ठ व्यवहार का भी सूचक होता है। जैसे—आपस के लोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपसदारी  : स्त्री० [हिं० आपस+फा० दारी(प्रत्यय)] १. एक दूसरे के साथ होनेवाली आत्मीयता अथवा घनिष्ठ व्यवहार या संबंध। जैसे—यहाँ तो आपसदारी की बात है। २. ऐसे लोगों का वर्ग या समूह जिनसे उक्त प्रकार का संबंध हो। जैसे—आपसदारी में तो हर काम में आना जाना ही पड़ता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपसी  : वि० [हिं० आपस] आपस का। आपस में होनेवाला। पारस्परिक। जैसे—आपसी मतभेद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपस्तंब  : पुं० [सं० ] [वि० आपस्तंबीय] एक प्राचीन ऋषि जिनके बनाये हुए कल्प गृह्य और धर्म नामक तीन सूत्र-ग्रंथ माने जाते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपा  : पुं० [हिं० आप-स्वयं] १. अपना अस्तित्व या सत्ता। निजस्व। २. अपनी सत्ता के संबंध में हनेवाला ज्ञान या भान। अहंभाव। मुहावरा—आपा खोना, डालना, तजना या मिटाना=अपनी सत्ता का विचार या ध्यान छोड़ देना। मन में अहंभाव या अहंमन्यता न रहने देना। निरभिमान होना। (त्याग निस्प-हता विरक्ति आदि का लक्षण) आपा सँभालना-वयस्क या सयाने होकर अपना भला बुरा समझने के योग्य होना। ३. अपने पद, योग्यता आदि का ध्यान या विचार। मुहावरा—आपा खोना=दे०आपे से बाहर होना। आपे में आना=क्षणिक आवेश या मनोविकार के प्रभाव से निकलकर साधारण स्थिति में आना। होश-हवास ठिकाने रखना। जैसे—बहुत बहक चुके अब जरा आपे में जाओ। आपे से बाहर होना=क्रोध के वश में अपने पद मर्यादा आदि का ध्यान छोड़कर उग्र रूप धारण करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपात  : पुं० [सं० आ√पत् (गिरना)+घञ्] [वि० आपातिक] १. ऊपर या बाहर से आकर गिरना। २. गिरना। पतन। ३. घटना का अचानक घटित होना। ४. वह घटना या बात जो अचानक ऐसे रूप में सामने आ जाए जिसकी पहले से कोई आशा, कल्पना या संभावना न हो। (एमर्जेन्सी)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपाततः  : अव्य० [सं० आपात+तस्] १. अकस्मात्। अचानक। २. अंत में। आखिरकार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपातलिका  : स्त्री० [सं० ] एक प्रकार का छंद जो वैताली छंद के विषम चरणों में ६ और सम चरणों में ८ मात्राओं के उपरांत एक भगण और दो गुरु रखने से बनता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपातिक  : वि० [सं० आपात+ठक्-इक] १. नीचे उतरनेवाला। २. अचनाक सामने आनेवाला। ३. इस प्रकार या ऐसे रूप में सामने आनेवाला जिसकी पहले से कल्पना या संभावना न हो। आत्यायिक। (एमर्जेन्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपाती (तिन्)  : वि० [सं० आ√पत्+णिनि] १. नीचे आने उतरने या गिरनेवाला। २. आक्रमण करने या ऊपर टूट पड़नेवाला। ३. बिना आशा या संभावना के अचानक घटित होनेवाला। (एमर्जेन्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपाद  : अव्य० [सं० आ√पद्(गति)+घञ्] पैर या पैरों तक। पुं० १. वह जो प्राप्त या सिद्ध किया गया हो। २. पुरस्कार। ३. पारिश्रमिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपाद-मस्तक  : अव्य० [सं० पाद-मस्तक, द्वं० स० आ-पादमस्तक, अव्य० स०] १. पैरों से सिर तक। २. आदि से अंत तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपा-धापी  : स्त्री० [हिं० आपा=धापी का अनुकरण+धापना] १. ऐसी स्थिति जिसमें सभी लोग अपना अपना स्वार्थ सिद्ध करने में लगे रहें हों और दूसरे के हानि लाभ का ध्यान न रखतें हों। २. खींचतान। लाग-डाँट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपान  : पुं० [सं० आ√पा (पीना)+ल्युट्-अन] १. कई आदमियों का साथ बैठकर मद्य या शराब पीना। २. उक्त प्रकार से बैठकर मद्य पीने का स्थान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपानक  : पुं० [सं० आपान+कन्] १. मद्य पान की गोष्ठी। २. मद्य पीनेवाला व्यक्ति। उदाहरण—रजनी के आपानक का अब अंत है।—प्रसाद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपा  : पद—पुं० आत्मपद (मोक्ष)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपायत  : वि० [सं० आप्यायित-वर्धित] प्रबल। बलवान। (डिं०)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपी  : पुं० [सं० आप्य] पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र। अव्य० आप ही। स्वतः। स्वयं। (बोल-चाल)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपीड़  : पुं० [सं० आ√पीड़ (दबाना)+अच्] १. ऊपर से दबाकर बैठाई या लगाकर रखी हुई चीज। २. सिर पर पहनने या बाँधने का कपड़ा या गहना। जैसे—पगड़ी मुकुट आदि। ३. वास्तु में छाजन के बाहर पाख से निकली हुई बँडेरी का अँश। मँगौरी। ४. एक प्रकार का विषम वृत्त जिसके पहले चरण में ८, दूसरे चरण में १२, तीसरे चरण में १६ और चौथे चरण में २0 अक्षर होते हैं। वि० १. दबानेवाला। २. कष्ट देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपीडन  : पुं० [सं० आ√पीड़+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आपीड़ित] १. कसकर या जोर से दबाना या बाँधना। २. कष्ट देना। पीड़ित करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आ-पीत  : वि० [सं० प्रा० स०] सोनामाखी के रंग का। हलका पीला। पुं० सोनामक्खी। स्वर्णमाक्षिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपु  : सर्व० दे० आप। पुं० =आपा (अहंभाव)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपुन  : सर्व० दे० अपना। अव्य० आप। खुद। स्वयं। उदाहरण—(क) आपु न आवे ताहि पहँ ताहि तहाँ लेइ जाइ।—तुलसी। (ख) आपुन अध अधगति चलतिं।—केशव।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपुनपौ  : पुं० =अपनपौ। (अपनापन)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपुनो  : सर्व० =अपना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपुस  : अव्य० =आपस।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपूर  : पुं० [सं० आ√पूर् (पूर्णकरना)+घञ्] १. पूरा या पूर्ण करना। भरना। २. वह जो बहुत अधिक भरा हो। ३. पानी की बाढ़।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपूरण  : पुं० [सं० आ√पूर्+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आपूरित] अच्छी तरह या पूरी तरह से भरना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपूरना  : स० [सं० आपूरण] अच्छे तरह भरना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपूर्ति  : स्त्री० [सं० आ√पूर्+क्तिन्] १. अच्छी तरह से भरे होने की अवस्था या भाव। २. तृप्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपेक्षिक  : वि० [सं० अपेक्षा+ठक्-इक] १. किसी प्रकार की या किसी दूसरे की अपेक्षा रखनेवाला। अपेक्षा से युक्त। २. जिसका अस्तित्व दूसरी वस्तु पर अवलंबित हो। निर्भर करनेवाला। ३. किसी की तुलना में होनेवाला। तुलनात्मक। जैसे—आपेक्षिक गुरुत्व।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आपो  : पुं० =आपा।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त  : वि० [सं० आप् (पाना)+क्त] [भाव०आप्तता, आप्ति] १. आया पहुँचा या मिला हुआ। जैसे—आप्त-गर्भा=गर्भवती, आप्त गर्व अभिमानी। २. विश्वास करनेयोग्य। ३. कुशल। दक्ष। पुं० १. ऐसा व्यक्ति जिसपर विश्वास किया जा सकता हो। २. ऋषि। ३. योग में, ऐसा प्रमाण जो केवल कथन या शब्दों के आधार पर हो। शब्द प्रमाण। ४. गणित में किसी सांख्य को भाग देने पर प्राप्त होनेवाला मान या संख्या। लब्धि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-काम  : पुं० [ब० स०] १. वह जिसकी इच्छाएँ पूरी हो चुकी हों। २. वह जिसने सांसारिक बंधनों और वासनाओं से मुक्ति पा ली हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तकारी (रिन्)  : पुं० [सं० आप्त√कृ(करना)+णिनि] १. वह जो ठीक प्रकार से तथा विश्वस्त ढंग से काम करता हो। २. गुप्तचर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-पुरुष  : पुं० [कर्म० स०] वह व्यक्ति जो तत्त्वों वस्तुओं आदि के यथार्थ रूप अच्छी तरह जानता हो और जिसकी उपदेशपूर्ण बातें प्रामाणिक मानी जाती हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-वचन  : पुं० [ष० त०] १. ऐसा कथन जिसमें कुछ भी प्रमाद या भूल न हो। बिलकुल ठीक और मानने योग्य बात। २. ऋषि मुनियों के वचन जो श्रुतियों समृतियों आदि से मिलते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्त-वर्ग  : पुं० [ष० त०] आत्मीयों और बंधु बांधवों का वर्ग या समूह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तागम  : पुं० [आप्त-आगम, कर्म० स०] वेद, श्रुतियाँ स्मृतियाँ आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्ति  : स्त्री० [सं०√आप्+क्तिन्] १. आप्त होने की अवस्था या भाव। २. प्राप्ति। लाभ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्तोक्ति  : स्त्री० [सं० आप्त-उक्ति, ष० त०] आप्त वचन के रूप में मानी जानेवाली उक्ति या कथन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्य  : वि० [सं० आ√आप्+ण्यत्] १. प्राप्त करने या लेने योग्य। २. जो प्राप्त किया जाने को हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्यायन  : पुं० [सं० आ√प्याय् (वृद्धि)+ल्युट्-अन] १. एक अवस्था से दूसरी अवस्था को प्राप्त होना। जैसे—दूध में खट्टा पदार्थ पड़ने से दही जमना। २. तृप्त करना। ३. वैद्यक में मारी हुई धातु को घी शहद सुहागे आदि से फिर से जीवित करना। ४. कर, विशेषतः जल संबंधी वस्तुओं पर लगनेवाला कर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्याथित  : भू० कृ० [सं० आ√व्याय्+णिच्+क्त] १. जिसे तृप्त या संतुष्ट किया गया हो। २. आर्द्र। गीला। तर। ३. बढ़ा या बढ़ाया हुआ। परिवर्धित। ४. एक अवस्था से दूसरी अवस्था में पहुँचाया या लाया हुआ। परिवर्तित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्रच्छन्न  : वि० [सं० आ+प्र√छद् (अपवारण)+क्त] १. गुप्त। रहस्यपूर्ण। २. छिपा हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लव  : पुं० [सं० आ√प्लु (गति)+अप्] पानी से तर करना। २. स्नान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लवन  : पुं० [सं० आ√प्लु+ल्यूट-अन] अच्छी तरह पानी से भरना या तर करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लवनव्रती (तिन्)  : पुं० [सं० आप्लवन-व्रत, ष० त०+इनि] ब्रह्मचर्य समाप्त कर गृहस्थाश्रम में प्रवेश करनेवाला स्नातक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लावन  : पुं० [सं० आ√प्लु+णिच्+ल्युट्-अन] [वि० आप्लावित] अच्छी तरह पानी में डुबाना या पानी से भरना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लावित  : भू० कृ० [सं० आ√प्लु+णिच्+क्त] १. अच्छी तरह डूबा या डुबाया हुआ। २. भींगा या भिगोया हुआ। ३. नहाया या नहलाया हुआ। स्नात।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आप्लुत  : भू० कृ० [सं० आ√प्लु+क्त] अच्छी तरह भींगा हुआ। खूब तर या सराबोर। पुं० वह स्नातक जो गुरुकुल की पढ़ाई अच्छी तरह समाप्त कर चुका हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफत  : स्त्री० [फा० मि० स० आपत्ति] आपत्ति। विपत्ति। संकट। मुहावरा—आफत उठाना=(क) कष्ट या विपत्ति सहना। (ख) दे० आफत खड़ी करना। आफत खड़ी करना=ऐसा काम करना जिससे दूसरों को कष्ट या विपत्ति में पड़ना पड़े। आफत ढाना=बहुत अधिक विपत्ति की अवस्था उत्पन्न करना। आफत मचाना=दे० आफत खड़ी करना। आफत मोल लेना=जान-बूझकर ऐसी स्थिति उत्पन्न करना जिसमें स्वयं को कष्ट या विपत्ति में पड़ना पड़े। पद—आफत का परकाला-ऐसा व्यक्ति जो अपनी बहुत बढ़ी हुई चालाकी के कारण सभी प्रकार के विकट काम कर सके। आफत का मारा-जिस पर बहुत बड़ी विपत्ति या संकट पड़ा हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफताप  : पुं० =आफताब (सूर्य)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफ-ताब  : पुं० [फा०] [वि० आफताबी] १. सूर्य। २. कड़ी धूप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफ-ताबा  : पुं० [फा०] एक तरह का गड़ुआ जिसके मुँह पर ढक्कन लगा रहता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफ-ताबी  : स्त्री० [फा०] १. गोल या पान के आकार का बना हुआ जरदोजी पंखा जिसपर सूर्य का चिन्ह बना रहता है और जो जलूसों आदि में झंडे के साथ आगे आगे चलता है। २. गोलबत्ती के आकार की एक प्रकार की आतिशबाजी जिसके जलने पर सूर्य का सा सफेद प्रकाश होता है। ३. दरवाजे या खिड़की के सामने का छोटा छज्जा या सायबान जो धूप के बचाव के लिए लगाया जाता है। झांप। वि० १. सूर्य-संबंधी। २. सूर्य के ताप या धूप में पकाया हुआ। जैसे—आफताबी गुलकंद। ३. गोलाकार। गोल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफरीन  : अव्य० [फा० आफी] बहुत अच्छा या बड़ा काम करने पर कहा जाने वाला शब्द, जिसका अर्थ है-वाह ! बहुत अच्छा किया ! धन्य हो ! शाबाश ! आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफियत  : स्त्री० [अ०] कुशल-मंगल। खैरियत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफिस  : पुं० [अ०] कार्यालय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आफू  : स्त्री०=अफीम। उदाहरण—अमली मिसरी छाँड़ि कै आफू खात सराहि।—वृंद।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबंध  : पुं० [सं० आ√बन्ध् (बाँधना)+घञ्] [वि० आबंधक] १. वह जिससे बाँधा जाए। बंधन। २. गाँठ। ३. प्रेम। स्नेह। ४. कोई बात निश्चित या पक्की करना। ५. कर, राजस्व आदि नियत या स्थिर करना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबंधक-अधिकारी (रिन्)  : पुं० [सं० आ√बन्ध्+ण्वुल्-अक, आबंधक-अधिकारी, कर्म० स०] वह राजकीय अधिकारी जो भूमि का कर या राजस्व निश्चित करता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबंधन  : पुं० [आ०√बन्ध्+ल्युट्-अन] १. अच्छी तरह से बाँधने की क्रिया या भाव। २. दे० ‘आबंध’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब  : पुं० [फा०] जल। पानी। पद—आब-दाना=अन्न जल। मुहावरा—आबदाना उठना=ऐसी स्थिति आना कि कही से उठकर दूसरी जगह चले जाना पड़ें। स्त्री० [सं० आभा] १. क्रांति। चमक। २. छवि। शोभा। मुहावरा—आब चढ़ाना=(क) शोभा से युक्त करना या चढ़ाना (ख) चमकाना। पुं० [सं० अभ्र] बादल। मेघ। उदाहरण—बिहरि मिले जनु मेघ धुरि सावन भद्दव आब।—चंदवरदाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबकार  : पुं० [फा०] वह जो शराब बनाता या बेचता हो। कलवार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबकारी  : स्त्री० [फा०] १. वह स्थान जहाँ शराब चुआई या बेची जाती हो। शराबखाना या भट्ठी। २. मादक वस्तुओं से संबंध रखने वाला सरकारी विभाग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबकारी-शुल्क  : पुं० [फा०+सं० ] वह शुल्क जो शराब, अफीम, भांग आदि मादक द्रव्यों के उत्पादन और बिक्री पर राज्य की ओर से लगाया जाता है। (एक्साइज ड्यूटी)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबखोरा  : पुं० [फा० आबखोरः] वह पात्र जिसमें पानी पीते हैं। जैसे—कटोरा या गिलास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबगीना  : पुं० [फा० आबगीनः] १. शीशे की बड़े पेटवाली बोतल। २. दर्पण। शीशा। ३. स्फटिक। ४. हीरा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आवगीर  : पुं० [फा०] १. जुलाहों की कूची जिससे वे तारी पर पानी छिड़कते है। २. पानी का गड्ढा या तालाब।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबजोश  : पुं० [फा०] १. लाल मुनक्का। २. शोरबा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबड़  : स्त्री० [दे०] घेरा। (बुदेल।) जैसे—वह सपेरा। क्या डाकुओं की आबड़ में पड़ गया।—वृंदावनलाल वर्मा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबताब  : स्त्री० [फा० आबोताफ] १. चमक। द्युति। २. क्रांति। शोभा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबदस्त  : पुं० [फा०] मल त्याग के उपरांत गुदंद्रिय को जल से धोना। पानी छूना। क्रि० प्र०=लेना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबदानी  : स्त्री०=आबादाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबदार  : वि० [फा०] [भाव० आबदारी] १. आब या चमकवाला। चमकीला। २. पानी पिलानेवाला। पुं० १. आत्मभिमानी। २. वह आदमी जो तोप में सुंबा और पानी का पुचारा देता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबदारी  : स्त्री० [फा०] १. आबदार होने की अवस्था या भाव। २. हाथीदांत की चित्रकारों में बालों, कपड़ो आदि की चमक दिखाने के लिए उन पर मसाले लगाने की क्रिया।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबद्ध  : भू० कृ० [सं० आ√बन्ध्+क्त] १. अच्छी तरह से जकड़ा या बँधा हुआ। २. बंधन में पड़ा हुआ। कैद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबनूस  : पुं० [फा० आब्नूस] [वि० आबनूसी] एक प्रकार का वृक्ष जिसके हीर की लकड़ी बहुत काली होती है। तेंदू। (एंबनी) पद—आबनूस का कुंदा-अत्यंत काले रंग का और कुरूप व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब-पाशी  : स्त्री० [फा०] खेतों की सिचाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब-रंग  : पुं० [फा०] चित्र कला में एक प्रकार का रंग जो प्योड़ी, किरमिज और काजल के योग से बनता है। लिकटी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबरवाँ  : पुं० [फा० आबेरवाँ] बहता हुआ पानी। स्त्री० एक प्रकार का बढ़िया महीन मलमल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबरू  : स्त्री० [फा०] इज्जत। प्रतिष्ठा। क्रि० प्र० =उतरना। उतारना। खोना। गँवाना। जाना। बिगड़ना। रखना। रहना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबला  : पुं० [फा० आबलः] छाला। फफोला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब-हवा  : स्त्री० [फा० आबो हवा] जीव-जन्तुओं या मनुष्यों पर पड़नेवाले प्रभाव के विचार से किसी स्थान का जल और वायु। जल-वायु।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबाद  : वि० [फा०] १. (स्थान) जिसमें बस्ती हो। बसा हुआ। २. (भूमि) जो जोती-बोई गई हो या जाती हो। ३. (व्यक्ति) सब प्रकार से प्रसन्न या सुखी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबादकार  : पुं० [फा०] ऐसा खेतिहर जो जंगल काटकर या पड़ती जमीन को ठीक करके उसे आबाद करने के उद्देश्य से उसमें बसा हो और वहाँ खेती-बारी करता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबादानी  : स्त्री० [फा०] १. बसा हुआ और रमणीक स्थान। उदाहरण—भूखे को अन्न पियासे को पानी, जंगल जगंल आबादानी।—काह०। २. ऐसी शोभापूर्ण स्थिति जो उन्नति, संस्कृति, संपन्नता सौभाग्य आदि का सूचक हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबादी  : स्त्री० [फा०] १. आबाद अर्थात् बसे हुए होने की अवस्था या भाव। २. वह स्थान जहाँ लोग आबाद या बसे हों। बस्ती। ३. वह भूमि जिस पर खेती होती हो। ४. किसी स्थान पर बसे हुए सब लोगों की संख्या। जन-संख्या। जैसे—बनारस की आबादी ५ लाख हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबाधा  : स्त्री० [सं० आ√बाध् (विघ्न या हानि पहुँचाना)+आ-टाप्] चिंतित या विकल करने वाली बात या बाधा। जैसे—कष्ट, हानि आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आ-बाल  : अव्य० १. बाल्यावस्था से। बचपन या लड़कपन से। २. [अव्य० स०] लड़के या लड़कों तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबाल्य  : पुं० [सं० अव्य० स०] शैशव से समाप्त होनेवाली अवस्था। अव्य० बाल्यावस्था तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबिल  : वि० [सं० आ√बिल् (फाड़ना)+क] १. कीचड़ में भरा हुआ। पंकिल। २. गंदा या मैला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबी  : वि० [फा०] १. आब (अर्थात् जल) संबंधी। जल का। २. पानी के रंग का। हलका नीला। ३. जल में रहने या होनेवाला। ४. जल के योग से बनाया जानेवाला। जैसे—आबी नमक=समुद्री नमक। ५. (भूमि) जिसमें खेती के लिए किसी प्रकार से सिचाई होती हो। खालो का विपर्याय। स्त्री०१. जल के किनारे रहनेवाली एक चिड़िया जिसकी चोंच और पैर हरे तथा सफेद होते हैं। २. ऐसी रोटी जिसमें पलेथन के स्थान पर पानी लगाया गया हो। पु० एक प्रकार का अंगूर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आबेस  : पुं० [सं० आवेश] १. आवेश। जोश। २. आनंद या सुख का अतिरेक। ३. व्याप्ति। संचार।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब्द  : वि० [सं० अब्द+अण्] १. अब्द संबंधी। अब्द या वर्ष का। २. बादल से उत्पन्न या संबंधित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आब्दिक  : वि० [सं० अब्द+ठक्-इक] वर्ष संबंधी। प्रति वर्ष होनेवाला। वार्षिक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभंग  : वि० -अभंग।(बिना टूटा हुआ)। उदाहरण—अनल कुंड आभंग उपजि चहुआन अनिल थल।—चंदवरदाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभ  : स्त्री० [सं० आभा] आभा। कांति। शोभा। पुं० [सं० अभ्र] आकाश। (डिं०) उदाहरण—(क) भला चीत भुर जालरा, आभ लगावा सींग।—बाकीदास। (ख) बीजुलियाँ चहालवलि आगइ आभइ एक।—ढोला मारू। पुं० =आब (जल)। प्रत्य० [सं० ] किसी चीज की आभा रखनेवाला। आभा से युक्त। (यौं०के०अंत में) जैसे—रक्ताभ, स्वर्णाभ आदि।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभरण  : पुं० [सं० आ√भृ (भरण करना)+ल्युट्-अन] [भू० कृ० आभरित] १. आभूषण। गहना। २. भरण-पोषण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभरित  : भू० कृ० [सं० आ√भृ+अप् आभर+इतच्] १. आभूषणों या गहनों से युक्त अलंकृत। २. जिसका भरण-पोषण हुआ हो। ३. पाला-पोसा हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभा  : स्त्री० [सं० आ√भा (दीप्ति)+अङ्-टाप्] १. हलकी कांति या चमक। २. रंगत, स्वाद आदि की साधारण से कुछ कम या हलकी छाया या प्रतीति। (टिंज) ३. किसी चीज की कुछ अस्थायी झलक या प्रतिबिंब। (शेड)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभाणक  : पुं० [सं० आ√भण्(बोलना)+ण्वुल्-अक] १. एक प्रकार के नास्तिक। २. कहावत। लोकोक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभार  : पुं० [सं० प्रा०स०] १. बोझा। भार। २. घर-गृहस्थी की देखभाल और पालन-पोषण का बार। ३. किसी के उपकार के लिए प्रकट की जानेवाली कृतज्ञता। एहसान-मंदी। ४. उत्तरदायित्व। जिम्मेदारी। (आँब्लिगेशन, अंतिम दोनों अर्थों के लिए) ५. चार चरणों का एक वर्णवृत्त, जिसके प्रत्येक चरण में आछ तगण होते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभारी (रिन्)  : पुं० [सं० आभार+इनि] आभार मानने या कृतज्ञता प्रकट करनेवाला। कृतज्ञ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभावन  : पुं० [प्रा० स०] अनुमान। अंदाज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभाष  : पुं० [सं० आ√भाष् (बोलना)+घञ्] १. कहना। बोलना। २. भूमिका। ३. संबोधन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभाषण  : पुं० [सं० आ√भाष्+ल्युट्-अन] १. बात-चीत करना। बोलना। २. संबोधन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभास  : पुं० [सं० आ√भास् (दीप्ति)+अच्] १. चमक। दीप्ति। द्युति। २. कांति। शोभा। ३. छाया। प्रतिबिम्ब। ४. ऐसी बाहरी आकृति रूप या रंग जिसे देखने पर किसी और चीज का धोखा हो सकता हो। ५. उक्त प्रकार की आकृति या रूपरंग के कारण होनेवाला धोखा या भ्रम। जैसे—रस्सी में सांप या सीपी में चांदी का आभास होना। ६. किसी चीज के अनुकरण या ढंग पर बनी हुई कोई दूसरी ऐसी चीज जो ठीक पूरी या शुद्ध न होने पर भी बहुत कुछ मूल की छाया से युक्त हो और देखने में बहुत कुछ वैसी ही जान पड़ती हों। जैसे—यह रस नहीं बल्कि रस का आभास (रसभास) मात्र है। ७. किसी चीज या बात में दिखाई देने वाली किसी दूसरी चीज या बात की ऐसी छाया या झलक जो उस दूसरी चीज या बात का कुछ अनुमान कराती हो। जैसे—उनकी बातों में ही इस बात का आभास था कि वे किसी तरह नहीं मानेगें। ८. ऐसा तर्क या प्रतिपादन जो वास्तव में ठीक न होने पर भी ऊपर से देखने में अच्छा और ठीक जान पड़े। जैसे—हेतु और हेत्वाभास (हेतु का आभास) में बहुत अंतर है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभासन  : पुं० [सं० आ√भास्+ल्युट्-अन] १. आभास या आलोक से युक्त करना। प्रकाश से युक्त करना। २. स्पष्ट करना। ३. किसी बात का आभास या झलक देना अथवा उसकी हलकी प्रतीति कराना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभासवाद  : पुं० [सं० ष० त०] वह दार्शनिक सिद्धांत जिसमें यह माना जाता है कि जितनी अमूर्त्त धारणाएँ या भावनाएँ हैं, वे आभास मात्र या देखने भर की हैं, उनकी वास्तविक सत्ता नहीं हैं। (नॉमिनलिज़्म)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभासीन  : वि० [सं० आभास से] १. आभास से युक्त। चमकीला। २. आभास रूप में अर्थात् बहुत हलके रूप में दिखाई देनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभास्वर  : वि० [सं० आ√भास्+वरच्] जिसमें बहुत अधिक आभा या चमक हो। बहुत चमकीला। पुं० एक देव-वर्ग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिचारिक  : वि० [सं० अभिचार+ठक्-इक] अभिचार संबंधी। तंत्रोक्त। मारण, मोहन, उच्चाटन आदि अभिचारों से संबंध रखनेवाला। पुं० उक्त अभिचारों के समय पढ़े जानेवाले मंत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिजन  : वि० [सं० अभिजन+अण्] जन्म या कुल से संबंध रखनेवाला। पुं० कुलीनता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिजात्य  : पुं० [सं० अभिजात+ष्यञ्] अभिजात होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिजित  : वि० [सं० अभिजित+अण्] अभिजित् नक्षत्र में होने या उससे संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिधा  : स्त्री० [सं० अभिधा+अण्-टाप्] १. ध्वनि। शब्द। २. उल्लेख। ३. नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिधानिक  : वि० [सं० अभिधान+ठक्-इक] अभिधान अर्थात् शब्द कोष में होनेवाला या उससे संबंध रखनेवाला। शब्द-कोश संबंधी। पुं० वह जो अभिधान या शब्द-कोश की रचना करता हो। कोशकार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिप्रायिक  : वि० [सं० अभिप्राय+ठक्-इक] १. अभिप्राय संबंधी। २. अभिप्राय के रूप में होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिमुख्य  : पुं० [सं० अभिमुख+ष्यञ्] १. अभिमुख या आमने-सामने होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिषेचनिक  : वि० [सं० अभिषेचन+ठक्-इक] अभिषेचन या राजतिलक संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभिहारिक  : भू० कृ० [सं० अभिहार+ठक्-इक] १. उपहार या भेंट के रूप में दिया हुआ। २. छीनकर या बलपूर्वक लिया हुआ। पुं० उपहार। भेंट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभीर  : पुं० [सं० आ-बी, प्रा० स० आभी√रा (दान)+क] [स्त्री०आभीरी] १. अहीर। गोप। ग्वाला। २. एक प्राचीन देश या जनपद जिसमें गोप जाति के लोग रहते थे। ३. एक छंद जिसके प्रत्येक चरण में ११ मात्राएँ और अंत में जगण होता है। ४. एक राग जो भैरव राग का पुत्र कहा गया है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभीरक  : वि० [सं० आभीर+अण्+कन्] अहीर या गोप संबंधी। पुं० १. आभीर या गोप जाति। अहीर। २. इस जाति का कोई व्यक्ति। अहीर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभीरी  : स्त्री० [सं० आभीर+ङीष्] १. अहीर की स्त्री। २. अहीर जाति की स्त्री। ३. प्राचीन आभीरो की एक बोली जो ईसवी आरंभिक शतियों में उत्तरी पंजाब में बोली जाती थी और जो आगे चलकर अपभ्रश बन गई थी। ४. संगीत में एक संकर रागिनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभुक्ति  : स्त्री० [सं० आ√भुज् (भोगना)+क्तिन्] १. आभोग करने की क्रिया या भाव। २. दे० ‘आभोग’ (ईजमेण्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभूत  : भू०कृ० [सं० आ√भू (होना)+क्त] जो उत्पन्न हो चुका हो अथवा अस्तित्व में आ चुका हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभूषण  : पुं० [सं० आ√भूष् (सजाना)+ल्युट-अन] [भू० कृ० आभूषित] १. अलंकार। गहना। जेवर। २. वह चीज या बात जो किसी दूसरी चीज या बात की शोभा का सौन्दर्य बढ़ाती हों। (आँर्नामेण्ट)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभूषन  : पुं० =आभूषण।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभूषित  : भू० कृ० [सं० आ√भूष्+क्त] १. गहनों आदि से सजाया हुआ। अलंकृत। २. किसी प्रकार सजाया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभृत  : भू० कृ० [सं० आ√मृ (भरण करना)+क्त] १. अच्छी तरह से या पूरा भरा हुआ। २. जिसका भरण-पोषण किया गया हो। ३. पास लाया हुआ। ४. जकड़ा या बँधा हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभोग  : पुं० [सं० आ√भुज्+घञ्] १. किसी वस्तु का उपभोग करके उससे सुख प्राप्त करना। भोग। २. ऐसी सब बातें या लक्षण जिनसे किसी दूसरी बात या स्थिति अथवा उसके भोग का पता चले। जैसे—आभोग से पता चलता है कि किसी समय यह बहुत संपन्न नगर रहा होगा। ३. विधिक क्षेत्र में, किसी प्रकार के सुख या सुभीते का ऐसा भोग जो कुछ समय से होता आया हो और इसी प्रकार आगे भी चल सकता हो। आभुक्ति। (ईजमेन्ट) ४. किसी पद्य में कवि के नाम का उल्लेख। ५. तक्षक या नाग का फन जो वरुण के सिर पर छत्र के रूप में रहता है। ६. साँप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभोगी (गिन्)  : वि० [सं० आभोग+इनि] १. आभोग या भोग करनेवाला। २. खाने या भोजन करनेवाला। पुं० १. वह जो बराबर सुखपूर्वक जीवन व्यतीत करता आया हो। २. आराम तलब।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभोग्य  : वि० [सं० आ√भुज्+ण्यत्] (पदार्थ) जिसका भोग होता हो या हो सकता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभोजी (जिन्)  : वि० [सं० आ√भुज्+णिनि] खानेवाला। भोजी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभ्यंतर  : वि० [सं० अभ्यंतर+अण्] १. अभ्यंतर में होनेवाला। अंदर का। भीतरी। २. देश, शरीर आदि के भीतरी भाग में होनेवाला। जैसे—आभ्यंतर कोप।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभ्यंतरिक  : वि० [सं० अभ्यंतर+ठञ्-इक] अभ्यंतर में या बिलकुल अंदर होनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आभ्युदयिक  : वि० [सं० अभ्युंतर+ठञ्-इक] १. अभ्युदय-संबंधी। २. अभ्युदय या उन्नति करने या करानेवाला। ३. उत्तम। श्रेष्ठ। पुं० नांदीमुख श्राद्ध, जो कर्ता का अभ्युदय करानेवाला माना गया है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंत्रण  : पुं० [सं० आ√मंत्र (गुप्त भाषण)+ल्युट-अन] [भू०कृ०आमंत्रित] १. पुकारना। बुलाना। २. किसी को निमंत्रण या बुलावा भेजकर अपने यहाँ बुलाना। ३. अपने यहाँ बुलाने के लिए दिया जाने वाला निमंत्रण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंत्रयिता (तृ)  : पुं० [सं० आ√मंत्र्+णइच्+तृच्] वह जो किसी को अपने यहाँ आमंत्रित करे या बुलावें।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंत्रित  : भू० कृ० [सं० आ√मंत्र्+क्त] १. जिसका आमंत्रण हुआ हो। पुकारा या बुलाया हुआ। २. (अतिथि) जिसे निमंत्रण देकर अपने यहाँ बुलाया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंद  : वि० [सं० आम√दो (खंडन करना)+ड, मुम] जिसकी ध्वनि या स्वर कुछ गंभीर हो। पुं० ऐसी ध्वनि या स्वर जो कुछ गंभीर या भारी हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम  : पुं० [सं० आभ्र, प्रा० अम्ब, गु० आँबो, सि० अंबु, आमो, का० पं० सिंह० अंब, बँ० उ० आँव, आम, मरा० आँबा] १. एक प्रकार का बडा वृक्ष जो अपने मधुर और रसीले फलों के लिए प्रसिद्ध है। २. उक्त वृक्ष का फल। पद—अमचूर, अमहर। कहा०-आम के आम गुठली के दाम=ऐसा काम, चीज या बात जिससे होनेवाले मुख्य लाभ के साथ कोई गौण लाभ भी होता हो। आम खाने से काम या पेड़ गिनने से-इस वस्तु से अपना काम निकालो, इसके विषय में निरर्थक प्रश्न करने से क्या प्रायोजन ? वि० [सं० आ√अम्(पकना)+घञ्(कर्म०स०] १. थोड़ा पका हुआ। २. बिना पका हुआ। अपक्व। कच्चा। पुं० -आँव (रोग)। वि० [अं०] १. जो लोक में बहुत प्रचलित हो। २. जिसमें सब लोग सम्मिलित हो सकें। सार्वजनिक। जैसे—आम जलसा। ३. साधारण। सामान्य। पुं० जन-साधारण। जनता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-खास  : पुं० [अ०] राजमहल के भीतर का वह भाग जहाँ राजे-महाराजे बैठकर दरबार करते थे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-गंधि (धिन्)  : स्त्री० [ब० स० इत्व] कच्ची और सड़ी हुई चीजों के जलने की गंध। बिसायँध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-गर्भ  : पुं० [कर्म० स०] भ्रूण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमड़ा  : पुं० [सं० आभ्रातक, प्रा० आम्माडओ, अप० अबाडय, गु० अमेडा, मरा० अंवाड़ी] १. एक पेड़ जिसके छोटे गोल फल आम की तरह खटटे होते है। २. इस पेड़ का फल जिसका अचार पड़ता और तरकारी बनती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमण-दूमण  : वि० [सं० उन्मनाः+दुर्मनाः] १. अन्यमनस्क। २. अशील और खिन्न। उदाहरण—अंतिर आमण दूमणा किसउ ज खड़उ काज।—ढोलामारू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमद  : स्त्री० [फा०] १. आने की क्रिया या भाव। आगमन। अवाई। आना। २. आमदनी। आय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमदनी  : स्त्री० [फा०] १. बाहर से अंदर अथवा एक स्थान से दूसरे स्थान पर आने की क्रिया या भाव। २. अपने देश में दूसरे देशों से चीज या माल का आना। ३. आने या प्राप्त होनेवाला धन। आय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनी  : स्त्री० [देश] १. वह भूमि जिसमें एक वर्ष में एक ही फसल उत्पन्न होती हो। २. जाड़े में होनेवाली धान की फसल। (बंगाल) ३. उक्त फसल में होनेवाला चावल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमन-सामन  : अव्य० =आमने-सामने।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनस्य  : पुं० [सं० अमनस्+ष्य़ञ्] अन्यमनस्क होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमना  : अ०=आवना या आना। पुं० [सामना के अनु० पर] इस ओर का पक्ष या भाग। सामना का विपर्याय। (केवल आमना सामना या आमने-सामने पदों में प्रयुक्त।)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनाय  : पुं० =आम्नाय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमना-सामना  : पुं० [हिं० आमना(अनु०)+सामना] १. परस्पर एक दूसरे के सामने होने की अवस्था या भाव । २. एक दूसरे के सामनेवाला अंश या भाग। ३. भेंट। साक्षात्कार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनी  : स्त्री० [देश] १. वह भूमि जिसमें जाड़े का धान बोया जता है। २. जाड़े में होनेवाला धान। (बंगाल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमने-सामने  : अव्य० [हिं० सामने] १. एक दूसरे के सामने या मुकाबले में। २. इस ओर तथा उस ओर। इधर तथा उधर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमय  : पुं० [सं० आम√या(जाना)+क] रोग। व्याधि। बीमारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरक्तातिसार  : पुं० [सं० रक्त-अतिसार, ष० त०, आम-रक्तातिसार, कर्म० स०] एक रोग जिसमें शौच के समय आँव के साथ खून भी गिरता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरख  : पुं० =आमर्ष।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरखना  : अ० [सं० आमर्षण] आमर्ष या क्रोध करना। गुस्सा होना। उदाहरण—उठे भूप आमरखि सगुन नहिं पायउ।—तुलसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरण  : अव्य० [सं० अव्य० स०] मरते समय तक। मरम काल तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरष  : पुं० =आमर्ष (क्रोध)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरषना  : अ० =आमरखना (क्रोध करना)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरस  : पुं० =अमरस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्दकी  : स्त्री० =आमलकी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्दन  : पुं० [सं० आ√मृद् (कुचलना)+ल्युट्-अन] अच्छी तरह कुचलने, पीसने, मसलने आदि की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्ष  : पुं० [सं० आ√मृष् (सहसा)+घञ्] १. कोई अनुचित या अप्रिय बात न सह सकना। असहनशीलता। विशेष—साहित्य में यह एक संचारी भाव माना गया है और इसका लक्षण यह बतलाया गया है कि इसमें दूसरे का गर्व न सह सकने के कारण उसे नष्ट करने की प्रवृत्ति होती है। २. क्रोध। गुस्सा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमलक  : पुं० [सं० आ√मला (धारण करना)+क्वुन्-अक] [स्त्री० अल्पा० आमलकी] १. आँवला नामक वृक्ष और उसका फल। २. भारतीय वास्तु में उक्त फल के आकार की वह बनावट जो शिखरों के ऊपरी भाग में होती हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमलकी  : स्त्री० [सं० आमलक+ङीष्] १. छोटी जाति का आँवला। २. फाल्गुन शुक्ल